Press "Enter" to skip to content

Posts published in “क्राइम”

इंदौर का डॉक्टर हिमाचल में बना रहा था नकली रेमडेसिवीर

0

 64 total views

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कई राज्यों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी हो रही है। इसी बीच इस इंजेक्शन की कालाबाजारी का एक बड़ा मामला सामने आया है। इंदौर क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे डाॅक्टर को गिरफ्तार किया है जो हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा की अपनी कंपनी में बिना लाइसेंस के रेमडेसिविर इंजेक्शन बना रहा था।

आरोपी डॉ. विनय त्रिपाठी के पास से 16 बॉक्स में 400 नकली वाॅयल भी मिले हैं। जांच में पता चला है कि वह बीते एक साल से कांगड़ा में सूरजपुर स्थित फॉर्मुलेशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी चला रहा था।

डीआईजी मनीष कपूरिया ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि रेमडेसिवीर इंजेक्शन का स्टॉक किसी एक व्यक्ति के पास है। वह इंदौर में सप्लाई करने वाला है। इस पर टीम ने पड़ताल के बाद त्रिपाठी को पकड़ा। जब इस संबंध में पूछताछ की गई, तो पता चला कि त्रिपाठी ये इंजेक्शन हिमाचल प्रदेश से लेकर आए हैं। जब उनसे संबंधित दस्तावेज मांगे गए, तो वे कागजात नहीं दे पाए। मामले में क्राइम ब्रांच के साथ ड्रग विभाग की टीम भी जांच कर रही है। पता चला है कि व्यक्ति फार्मा बिजनेस से जुड़ा है। पीथमपुर में उसकी यूनिट भी है।

जानकारी के मुताबिक, डॉ. विनय त्रिपाठी ने दिसंबर 2020 को कंपनी के मैनेजर पिंटू कुमार के माध्यम से जिला कांगड़ा के एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला के पास इंजेक्शन के उत्पादन के लिए अनुमति मांगी थी। अथॉरिटी ने कंपनी को इसके उत्पादन की अनुमति नहीं दी थी। तब विनय की कंपनी पैंटाजोल टेबलेट्स का ही उत्पादन कर रही थी। कंपनी के मैनेजर पिंटू कुमार ने बताया कि पिछले साल लॉकडाउन लगने के बाद से कंपनी बंद थी। अगस्त 2020 को इंदौर के रहने वाले डॉ. विनय त्रिपाठी ने ही कंपनी में फिर से उत्पादन शुरू करवाया था। स्टाफ को हर महीने सैलरी भी वही दे रहा था।

पिंटू ने बताया कि ‘दिसंबर 2020 को डॉ. विनय त्रिपाठी के कहने पर मैंने एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला आशीष रैना को रेमडेसिवीर इंजेक्शन बनाने के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन किया था, लेकिन अनुमति नहीं मिली थी। रेमडेसिवीर इंजेक्शन हमारी कंपनी में बनाया जा रहा था, मुझे इसकी जानकारी नहीं है। कंपनी में वर्तमान में सात कर्मचारी काम कर रहे हैं। इनमें दो सिक्योरिटी गार्ड भी शामिल हैं।

वहीं एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला आशीष रैना ने बताया कि कंपनी को रेमडेसिवीर इंजेक्शन बनाने की अनुमति विभाग ने नहीं दी है। साथ ही नूरपुर के ड्रग इंस्पेक्टर प्यार चंद को मामले की जांच करने के आदेश दिए गए हैं।

एक अन्य मामले में तीन लोग गिरफ्तार :
इंदौर में रेमडेसिवीर की कालाबाजारी का एक अन्य मामला भी सामने आया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ‘एसटीएफ को सूचना मिली की कुछ लोग रेमडेसिवीर के इंजेक्शन 20,000 रुपये में बेच रहे हैं। इनके पास से 6 इंजेक्शन प्राप्त हुए हैं। मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

आगे पढ़े

मौसा ही कर रहा था गलत-काम,अपराध पंजीबद्ध हुआ

0

 74 total views

आरोपी मौसा पुलिस गिरफ्त में, आरोपी आपराधिक प्रकृति का, जिसके विरुद्ध 03 प्रकरण विभिन्न धारा के पूर्व से पंजीबद्ध

आरोपी uber टैक्सी में ड्राइवर, पहली पत्नी को दे चुका तलाक, दुसरी पत्नी के साथ करता है निवास।

आरोपी के विरुद्ध धारा 376 (2)(n), 376 (2)(f), 506 ipc व 5 एल 6 पास्को एक्ट  के तहत कार्यवाही।

थाना खजराना पर एक 17 साल नाबालिक लड़की निवासी खजराना, इंदौर  द्वारा अपनी माता के साथ उपस्थित होकर रिपोर्ट किया कि वह कक्षा दसवीं में पढ़ती है तथा दिनांक 9 अप्रैल 2021 को उसकी माता से उसकी कहासुनी हो गई थी। जिसके कुछ देर बाद उसका मौसा मुकेश चौहान उसके घर मिलने आया। मौसा का पुर्व पत्नी से तलाक हो गया है, लेकिन मौसा उसके घर आते जाते रहता था। मौसा ने उसे गोदी पुत्री के रूप में ले रखा हैं। मौसा को मां से कहासुनी होने की बात बताई तो वह बोला कि वह उसके साथ चले तथा वह उसे अपने साथ अपने घर बलाई मोहल्ले खजराना लेकर चला गया। मौसा के घर पर उसकी दूसरी पत्नी व बच्चे नहीं थे, मौसा घर पर अकेला था। 

उसने मौसा से पूछा सब कहां गए तो वह बोला कि परिवार में गमी हो गई है गांव गए हैं। दिनांक 11 अप्रैल 2021 को रात्रि 11:00 बजे वह पलंग पर सो रही थी तभी मौसा उसके पास आया और उसके शरीर पर हाथ फेरने लगा तथा उसने मना किया तो वह उसे बोला कि वह उससे प्यार करता है तथा उसके साथ जबरदस्ती गलत काम किया सुबह मौसा से बोला कि उसे घर छोड़ दे तो उसने बोला अगर तूने घर पर जाने का नाम लिया और किसी को कुछ बताया तो जान से खत्म कर दूंगा तथा मौसा ने उसकी मर्जी के विरुद्ध कई बार गलत काम किया। उक्त रिपोर्ट पर  आरोपी मौसा  मुकेश पिता बद्रीलाल  उम्र 34 साल निवासी 30 मोहल्ला खजराना इंदौर को गिरफ्तार किया गया एवं उसके  विरुद्ध अपराध धारा 376 (2)(n), 376 (2)(f), 506 ipc व 5 एल 6 पास्को एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया। विधिक कार्यवाही पूर्ण की जा रही हैं।

आगे पढ़े

कोरोना कर्फ्यू में लापरवाही से गई 20 वर्षीय युवक की जान

0

 54 total views

शहर में कोरोना कर्फ्यू के बावजूद भी मल्हारगंज थाना क्षेत्र में देर शाम क्रिकेट खेलते समय दो युवको में विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ गया कि एक युवक द्वारा दूसरे युवक पर बेट से हमला कर उसे बुरी तरह से घायल कर दिया गया। घायल युवक को तुरंत निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

थाना प्रभारी प्रीतम ठाकुर ने बताया कि घटना 5.30 बजे के लगभग की है। यश जैन पिता दिलीप जैन (20) निवासी जनता कालोनी अपने घर से मंदिर जाने का बोल कर निकला था। इसके बाद वह सुभाष हायर सेकेंडरी स्कूल बड़ा गणपति स्थित मैदान में अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने लगा। वही पर किसी बात को लेकर यश और करण शुक्ला के बीच विवाद हुआ जिसमें करण ने यश पर बेट से हमला कर दिया। यश के सिर से खून अधिक बह जाने से अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। सीएसपी मल्हारगंज ने बताया कि आरोपी करण शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है।

आगे पढ़े

खबर जरा अलग है :- 8 माह के बालक की तबीयत के कारण अवैध शराब रखने की आरोपी महिला ‘माँ’ को मिली जमानत

0

 24 total views

लसूड़िया थाना क्षेत्र के इंदिरा नगर में क्राइम ब्रांच ने होली के दिन हिस्ट्रीशीटर मोगली उर्फ धर्मेंद्र यादव के घर पर छापा मारा। मौके से 195 लीटर शराब मिली। पुलिस ने मोगली की पत्नी खुशी और घर की अन्य महिलाएं सोनम और कृष्णा बाई पर एफआईआर दर्ज की। पुलिस कुछ जरूरी कागजी खानापूर्ति का हवाला देकर सभी को थाने गई और फिर वहीं से जेल भेज दिया। पुलिस ने संवेदनहीनता दिखाते हुए खुशी के बेटे रणवीर (8 माह) को पड़ोसियों के पास छोड़ दिया। दो दिन पहले तबियत ज्यादा खराब होने पर रणवीर को पड़ोसियों ने डॉल्फिन हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। लोगों ने उसकी नानी विचित्रा यादव को सूचना दी तो वह भी अस्पताल पहुंचीं

बालक की हालत के बारे में सुनकर हाई कोर्ट भी पसीज गई। बालक आईसीयू में जिंदगी की जंग लड़ रहा है और उसकी मां अवैध शराब रखने के मामले में जेल में बंद थी। सेशन कोर्ट मां की जमानत खारिज कर चुकी थी और कोरोना कर्फ्यू के चलते हाई कोर्ट में अगले 10 दिन सुनवाई की कोई उम्मीद नहीं थी। ऐसे में वकील ने बालक की हालत का हवाला देते हुए हाई कोर्ट से गुहार लगाई कि विशेष पीठ गठित कर जमानत याचिका पर सुनवाई की जाए। बालक को उसकी मां की देखभाल मिलेगी तो हालत में सुधार हो जाएगा। सोमवार को एकमात्र केस की सुनवाई के लिए हाई कोर्ट खुली। वकील के तर्क सुनने के बाद कोर्ट ने आरोपित महिला (बालक की मां) को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए। एडवोकेट बजाड़ ने बताया कि विशेष पीठ ने तर्क सुनने के बाद आरोपित महिला को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए।

आगे पढ़े

Indore crime news: मकान खाली करने की बात पर सौतेले पिता ने बेटी से मारपीट की

0

 70 total views

घटना इंदौर की है जहाँ शिव कंठ नगर में रहने वाली 21 वर्षीय पूजा कुशवाहा ने अपने सौतेले पिता अशोक कुशवाह के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज कराया है। पूजा ने बाणगंगा थाना पुलिस को बताया कि उसकी मां सुनीता ने अशोक कुशवाहा से दूसरी शादी की है। अभी मां सहित पूरा परिवार साथ रह रहा है। बेटी पूजा ने बताया कि रविवार दोपहर करीब 12 बजे अशोक आया और पूजा से कहा कि तुम घर खाली कर दो। पूजा ने घर खाली करने से मना किया तो आरोपी पिता ने बेटी के साथ मारपीट करना शुरू कर दी। विरोध किया तो उसने लोहे के पाइप से मारा, जिससे सिर और पीठ से खून निकलने लगा। मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपित पिता को हिरासत में लिया है।

मालवीय नगर में रहने वाली 30 वर्षीय ज्योति पत्नी महेश रोकड़े ने अपने जेठ प्रकाश पुत्र रेवाराम रोकड़े और जेठानी ममता के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज कराया है। ज्योति ने विजयनगर थाना पुलिस को बताया कि टंकी में पानी खत्म हो गया था, वह रविवार को शाम करीब साढ़े पांच बजे छत पर जाने लगी तो आरोपित जेठानी ने सीढ़ियों पर ही रोका लिया। ज्योति ने कहा कि टंकी में पानी चढ़ रहा है या नहीं यह देखने जाना है। इस बात पर जेठ और जेठानी दोनों मिलकर गालियां देने लगे। इस पर ज्योति ने मना करते हुए विरोध किया तो वे मारपीट करने लगे। आरोपितों ने महिला के बाल पकड़कर जमीन पर पटका और बेरहमी से पिटाई की। इसके बाद महिला ने पुलिस को शिकायत की और केस दर्ज कराया। मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर हिरासत में लिया है।

आगे पढ़े

Crime News Indore: डिलीवरी बाय बन घर में घुसे,TV पर सीआईडी देख किया लूट का प्लान, दो धराये

0

 144 total views

जूनी इंदौर टीआई आरएनएस भदौरिया के अनुसार घटना शुक्रवार 11 बजे 85 पलसीकर कॉलोनी में रहने वाली 35 वर्षीय केसर वाधवानी के साथ हुई है। महिला और उसकी सात साल की बेटी मान्या की सूझबूझ से पड़ोसियों ने बदमाशों को वारदात अंजाम देने से रोक लिया। पुलिस ने दो बदमाश 18 वर्षीय गौरांश पिता प्रदीप पाटीदार निवासी 86 बी सेक्टर सुदामा नगर औऱ उसके साथी 19 वर्षीय हिमांशु पिता हरिश रोहरा निवासी कामाक्षा अपार्टमेंट फूटी कोठी को गिरफ्तार किया है।

केसर वाधवानी ने पुलिस को बताया कि मैं सुबह का काम निपटाकर बैठी थी। मेरे पति सचिन वाधवानी रानीपुरा स्थित अपनी कपड़े की दुकान पर चले गए थे। तभी 11 बजे दरवाजे पर किसी ने आवाज दी। मैं दरवाजे पर पहुंची तो एक युवक खड़ा था। बोला कि कबीर (मेरे भतीजे) का पार्सल आया है। मैंने जैसे ही गेट खोला और पार्सल लेने लगी तो वह मुझ पर टूट पड़ा। मुझे चाकू अड़ाकर अंदर के कमरे में ले गया और फिर नीचे गिराया। बदमाश ने मेरे मुंह पर टेप बांधने का प्रयास किया। मैं समझ गई कि ये मेरी हत्या भी कर सकते हैं। मैं डरी नहीं। मैंने सोचा कि हिम्मत करनी चाहिए। फिर मैंने पास खड़ी अपनी सात साल की बेटी को इशारा कर भागने को कहा।

बेटी मान्या ने उस बदमाश को पकड़ना चाहा तो बदमाश ने उसे थप्पड़ मारकर गिरा दिया, लेकिन मेरी बेटी डरी नहीं। उसने समझदारी दिखाई। वह मुझे गिरा देख फिर खड़ी हुई। मैंने चिल्लाया कि वह बाहर भागे और लोगों को मदद के लिए बुलाए। इशारा समझते ही वह दौड़ पड़ी। फिर बाहर जाकर चिल्लाई। तब तक अंदर वाले बदमाश ने बाहर खड़े अपने साथी को बोला कि बेबी इज आउट और वह भागने लगा, लेकिन तब तक मान्या की आवाज सुनकर पड़ोसी दौड़े। उन्होंने आते ही अंदर मौजूद बदमाशों को दबोचा। फिर बाहर खड़े बदमाश हिमांशु को पकड़ा।

मुंबई से आया था बदमाश
पुलिस ने जब बदमाशों से पूछताछ तो बोले कि पहली बार वारदात की है। हिंमाशु ने कबूला कि उसकी मां अभी एक रेस्टोरेंट में काम करती है। वह पहले केसर वाधवानी के यहां काम करती थी। वहां हिमांशु का भी आना-जाना था। इसलिए वह वारदात के वक्त बाहर खड़ा था, क्योंकि महिला उसे पहचान सकती थी। हिमांशु को पता था कि महिला घर में अकेली रहती है, पति कपड़ा कारोबारी है। इसलिए ज्यादा माल मिलेगा। वह लॉक डाउन में परेशान था। पैसा खत्म हो चुका था। उसका साथी गौरांश मुंबई में रहता था, लेकिन लॉकडाउन के बाद से वह भी इंदौर में था। वे दोनों बड़ा आदमी बनने के लिए लूट की प्लानिंग करते थे। इसलिए वे रोजाना क्राइम सीरियल देखा करते थे। इसलिए उन्होंने एक दिन पहले ही दुकान से चाकू, कटर औऱ टेप भी खरीदी।

आगे पढ़े

Indore Crime Update : जवानी में हुई “अजब प्रेम की गजब कहानी”

21

 102 total views

इंदौर के तेजाजी नगर थाने पर अजब प्रेम की गजब कहानी  के  रूप में एक प्रेम त्रिकोण का एक अजीब मामला पहुंचा। यहां पर एक युवक पहुंचा। वह जख्मी था। टीआई से बोला कि साहब मुझे तीन लोगों ने पीटा। 7 हजार रुपए छीने और बाइक खाई में फेंककर भाग गए। टीआई ने लूट की और जानकारी ली तो पता चला कि मोबाइल नहीं लूटा है। इस पर शंका हुई और फिर हुआ मामले का खुलासा । आखिर पता चला कि जख्मी युवक का जिस लड़की से प्रेम प्रसंग है उसके पुराने प्रेमी ने गुंडे बुलाकर पिटाई करवा दी। आखिर पुलिस ने तीन हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया है।

तेजाजी नगर टीआई आरडी कानवा के अनुसार गणेश नामक युवक ने थाने पहुंचकर शिकायत की थी की उसके साथ लूट हुई है। वह जख्मी जरूर था। उसने बताया कि आरोपियों न उसे जमकर पीटा है। फिर 7 हजार रुपए लूट लिए। साथ ही बाइक खाई में फेंक दी है। पुलिस को शंका हुई कि आखिर ये लूट कैसी ? बदमाश सिर्फ पैसे ले गए। वे तो बाइक और मोबाइल भी लूट सकते थे। फिर आरोपी ने बताया कि वह हमलावरों को जानता है, लेकिन घर नहीं पता। इस पर पुलिस ने मौका मुआयना किया। फिर जांच की तो पता चला कि युवक के साथ तीन बदमाशों ने मारपीट की है। इनमें एक आरोपी ऋतिक और बाकी दो उसके दोस्त हैं। पुलिस पड़ताल की तो मामला कुछ और निकला।

तीनों को पुलिस ने सिखाया सबक

जांच में पाया कि ऋतिक नामक युवक एक युवती से 15 साल से प्रेम कर रहा है। यानी वे दोनों आठ साल की उम्र से प्रेम कर रहे हैं। अब युवती एक कंपनी में काम करने जाने लगी। वहां उसकी पहचान गणेश नामक युवक से हुई। दोनों में दोस्ती हो गई। यह बात ऋतिक को पता चली। उसने इसका विरोध किया और फिर गणेश को सबक सिखाना चाहा। आखिर में उसने गणेश को रास्ते में रोका। उसे जमकर पीटा और भाग गए। पुलिस को लूट की झूठी रिपोर्ट लिखाने की यह कहानी पता चली तो तीनों को गिरफ्तार कर सबक भी सिखाया।

आगे पढ़े

इंदौर के परदेशीपुरा थाना क्षेत्र की पुलिस की क्रूरता का वीडियो वायरल

0

 390 total views

इंदौर के परदेशीपुरा थाना क्षेत्र की पुलिस की क्रूरता का वीडियो सामने आ रहा है। सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है ये वीडियो ।

परदेशीपुरा थाने के दो जवानों पर कोरोना गाइडलाइन के तहत मास्क न लगाने वॉले ऑटो चालक कृष्णकांत कुंजिर से मारपीट करने का आरोप है। इस घटना का वीडियो वायरल हुआ है। इसमें दो पुलिसकर्मी ऑटो चालक की सड़क पर पटककर हाथ और पैरों से जमकर ‍प‍िटाई कर रहे हैं। ऑटो चालक कृष्णकांत का आरोप है कि पुलिस जवानों ने मास्क नाक के नीचे होने पर भी थाने ले जाने के लिए जिद की। माफी मांगने के बाद भी जब थाने ले जाने से मना किया तो उसे जमीन पर घसीट-घसीट कर मारा। यह पूरा मामला बंसी प्रेस की चाल के पास फिरोजगांधी नगर में सुबह 11.30 बजे का था।
इस वीडियो के वायरल होने के बाद दोनों पुलिसकर्मियों धर्मेंद्र जाट और कमल प्रजापत को लाइन अटैच कर दिया है। साथ ही सीएसपी निहित उपाध्याय को मामले की जांच सौंपी है।
जहां पुलिसकर्मी धर्मेंद्र जाट और कमल प्रजापत एक ऑटो चालक को मास्क ना पहनने की बात पर लात घूंसो से पिटाई कर रहे हैं । वही पिटने वाले शख्स का बचाव करने के लिए एक छोटा बालक और कुछ महिलाएं आ रही हैं जिनको पुलिसकर्मी धकेल कर पीटने में व्यस्त लग रहे हैं ।

थाना प्रभारी अशोक पाटीदार से बात होने पर पता चला कि ऑटो चालक क्रिमिनल प्रवृत्ति का है और बिना मास्क पहनने वालों और गुंडा अभियान के तहत ऑटो चालक कृष्णकांत को थाना लाने की प्रक्रिया की जा रही थी। थाना प्रभारी ने बताया कि ऑटो चालक स्मैक नशे का आदी है और उस पर 2 अपराधिक मामले भी दर्ज हैं जिनमें घर में घुसकर चाकूबाजी और अवैध वसूली करना शामिल है। उन्होंने बताया कि वह एक ऑटो भी जला चुका है और एक बार पत्थर लेकर पुलिस के खिलाफ दौड़ा भी था। मोहल्ले वाले भी इससे परेशान है। थाना प्रभारी ने बताया कि ऑटो चालक को थाने लाने की बात पर उसके परिजनों ने बहुत विवाद भी किया। उसकी भाभी, बहन, भाई और भतीजा उसे थाने नहीं ले जाने दे रहे थे। हालांकि थाना प्रभारी के मुताबिक घटना के बाद दोनों पुलिसकर्मियों को लाइन अटैच कर दिया गया है।

आगे पढ़े

मध्य प्रदेश में महिला आरक्षक से दुष्कर्म- ‘रिश्ता तय होने के बाद किया शोषण, फिर किया शादी से इंकार’

0

 94 total views

महिला आरक्षक ने अपने ही मंगेतर पर बलात्कार करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने युवक के विरूद्ध मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

 मध्य प्रदेश के कटनी जिले के ग्रामीण थाने में पदस्थ महिला आरक्षक ने अपने ही मंगेतर पर बलात्कार करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने युवक के विरूद्ध मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

शादी तय होने के बाद किया शोषण, फिर कर दिया इंकार- आरोप

इस संबंध में महिला थाना प्रभारी मंजू शर्मा ने बताया कि, सीधी जिला निवासी शिवम गुप्ता पर कटनी जिले के ग्रामीण थाना क्षेत्र में पदस्थ महिला आरक्षक द्वारा बलात्कार का आरोप लगाया गया है। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच शादी भी तय हो गई थी। महिला आरक्षक द्वारा दर्ज शिकायत के मुताबिक, शादी तय होने के बाद शिवम गुप्ता ने महिला आरक्षक के साथ शारीरिक संबंध बनाए और फिर शादी करने से इंकार कर दिया।

आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस

महिला आरक्षक कटनी जिले के एक ग्रामीण थाना में पदस्थ है, इसलिए फिलहाल मामला उसी थाने में ट्रांसफर किया गया है। संबंधित थाना प्रभारी ने बताया कि, आरोपी शिवम गुप्ता के विरूद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। वहीं, आरोपी की तलाश भी शुरु कर दी गई है।

आगे पढ़े

Crime News Update: सदर बाजार थाने में हुआ बवाल, देखें विडियो

22

 96 total views

इंदौर. सदर बाजार थाना क्षेत्र में रहने वाली एक युवती और एक युवक 2 दिन पहले घर से भाग गए सोमवार रात को उन्हें खोजा तो वहीं सुरक्षा के लिहाज से थाने पहुंच गए इसी को लेकर दो पक्ष आमने-सामने हो गए और पथराव हुआ |  युवती ने कहा कि में लड़के के साथ रहना चाहती हूं  वीडियो बना कर कहा कि मुझे मेरे माँ बाप से जान का खतरा व लड़की ने जय श्री राम का नारा भी लगाया दोनों समाज के लोग सदर बाजार थाना  इंदौर पर आमने सामने मामला सम्प्रदाय होने के कारण पुलिस ने भीड़ को खदेड़ा |
सदर बाजार थाने में सोमवार देर रात प्रेमी जोड़े को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पथराव किया और थाने के सामने नारेबाजी की। पहले तो थाने की पुलिस ने दोनों पक्षों को मामला शांत करने के लिए कहा, लेकिन जब दोनों में विवाद बढ़ा तो पुलिस ने लोगों को खदेड़ा। दो पक्षों के बीच तनाव की स्थिति को देखते हुए मौके पर पश्चिम क्षेत्र के एसपी महेश चंद्र जैन पहुंचे और क्षेत्र में फोर्स तैनात किया। करीब एक घंटे तक विवाद चलता रहा और क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गई।

टीआइ अजय वर्मा ने बताया कि एक अप्रैल को युवती पक्ष ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने बताया कि युवती किसी युवक के साथ भागी थी। इनकी मोबाइल लोकेशन निकाली तो अरबिंदो अस्पताल के पास मिली। पुलिस पहुंची तो दोनों वहां से भागे और थाने आकर सरेंडर कर दिया। युवक व युवती दोनों बालिग हैं। इसके बाद दोनों पक्षों को जानकारी लगी तो वे थाने पहुंचे और विवाद की स्थिति बनी। हालांकि मामला शांत है। विवाद को देखते हुए फोर्स भी तैनात कर दी गई है |

आगे पढ़े