Press "Enter" to skip to content

Posts published in “खेल”

CPL के शेड्यूल में हुआ ये बदलाव, IPL 2021 के लिए खुशखबरी!

0

 72 total views

नई दिल्ली. क्रिकेट के दीवानों के लिए खुशखबरी है। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 14वें सीज़न के बचे हुए मैचों के आयोजन का सबसे बड़ा रोड़ा दूर हो गया है। दरअसल, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अनुरोध पर क्रिकेट वेस्टइंडीज (CWI) कैरेबियन प्रीमियर लीग (CPL) के शेड्यूल में बदलाव करने पर राज़ी हो गया है। ऐसे में अब बीसीसीआई आसानी से 19 सितंबर से आईपीएल 2021 के बचे हुए मैचों का आयोजन करा सकती है।

गौरतलब है कि बीसीसीआई ने ऐलान कर दिया है कि आईपीएल 2021 के बचे हुए मैच सितंबर-अक्टूबर में यूएई में खेले जाएंगे। हालांकि, बोर्ड ने अभी इसकी तारीखों की घोषणा नहीं की है, लेकिन कई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 19 सितंबर से आईपीएल 2021 के बाकी मैचों का आयोजन होगा। लेकिन इसके लिए कैरेबियन प्रीमियर लीग के शेड्यूल में बदलाव जरूरी था।

दरअसल, सीपीएल के आगामी सीजन का आयोजन 28 अगस्त से 19 सितंबर के बीच तय था। लेकिन भारतीय बोर्ड चाहता था कि क्रिकेट वेस्टइंडीज सीपीएल का समापन 19 सितंबर से पहले करे, और इसलिए उसने आधिकारिक तौर पर आईपीएल 2021 के बाकी मैचों की तारीखों का ऐलान नहीं किया था।

बीसीसीआई सचिव जय शाह ने इसको लेकर सीपीएल के सीईओ पीट रसेल से बातचीत की थी, जिसके बाद इसके शेड्यूल को परिवर्तित कर दिया गया है। अब सीपीएल तीन दिन पहले शुरू होगी और आईपीएल के पहले टूर्नामेंट का समापन हो जाएगा। क्रिकेट वेबसाइट क्रिकेट बज की रिपोर्ट के मुताबिक, अब सीपीएल का आगामी सीज़न 25 अगस्त से 15 सितंबर के बीच खेला जाएगा।

क्रिकेट वेस्टइंडीज के अध्यक्ष रिकी स्केरिट ने शेड्यूल में बदलावों की पुष्टि करते हुए क्रिकबज से कहा कि वेस्टइंडीज बोर्ड नहीं चाहता है कि सीपीएल की वजह से आईपीएल के आयोजन में किसी भी प्रकार की बाधा हो। आईपीएल के आयोजन को लेकर क्रिकेट वेस्टइंडीज हर मदद करने के लिए तैयार है।

आगे पढ़े

Milkha Singh Death News: भारत के महान धावक मिल्खा सिंह का 91 साल की उम्र में निधन, जानिए उनकी प्रोफाइल, उपलब्धियां और पुरस्कार

0

 126 total views

महान धावक मिल्खा सिंह ने शुक्रवार रात अंतिम सांस ली. वह 91 साल के थे कोविड-19 के खिलाफ एक मजबूत लड़ाई के बाद विजेता के रूप में सामने आए थे. बुधवार को उनका कोरोना टेस्ट नेगेटिव आया था. मिल्खा सिंह को चंडीगढ़ के पीजीआईएमईआर अस्पताल के आईसीयू भर्ती कराया गया था. मिल्खा सिंह परिवार ने एक बयान जारी कर इस महान धावक के निधन की पुष्टि की. पूर्व एथलीट, जिसे फ्लाइंग सिख नाम से भी माना जाता है, को एक सप्ताह तक मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में इलाज के बाद ऑक्सीजन के स्तर में गिरावट के बाद 3 जून को पीजीआईएमईआर में भर्ती कराया गया था.

मिल्खा सिंह ने एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता में चार बार स्वर्ण पदक जीता है 1958 के राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था. हालांकि 1960 के रोम ओलंपिक के 400 मीटर फाइनल में उनकी एपिक रेस के लिए याद किया जाता है. उन्होंने 1956 1964 के ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया है उन्हें 1959 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था. 13 जून को ही मिल्खा सिंह की पत्नी निर्मल कौर का कोरोना के कारण निधन हो गया था. मिल्खा सिंह के परिवार में तीन बेटियां डॉ मोना सिंह, अलीजा ग्रोवर, सोनिया सांवल्का बेटा जीव मिल्खा सिंह हैं. गोल्फर जीव, जो 14 बार के अंतरराष्ट्रीय विजेता हैं, भी अपने पिता की तरह पद्मश्री पुरस्कार विजेता हैं.

मिल्खा सिंह से पहले उनके जैसा कोई नहीं आया. मिल्खा सिंह के बाद भी अब तक उनके जैसा कोई नहीं आया. मिल्खा सिंह का जलवा करीब दस साल तक चला.

इस दौरान भारत में उनके जैसा कोई भी नहीं रहा. मिल्खा सिंह ने कॉमनवेल्थ गेम्स में एक एशियन गेम्स में चार गोल्ड देश के लिए जीते. हालांकि मिल्खा सिंह भारत के लिए ओलंपिक में कोई पदक नहीं जीत पाए. एक बार वे इसे चंद कदम दूर रह गए थे. हालांकि उसके बाद से आज तक कोई वहां तक भी नहीं पहुंच पाया, जहां मिल्खा सिंह पहुंचने में कामयाब हो गए थे. साल 1958 में कार्डिफ में कॉमनवेल्थ खेल हुए थे, उसमें मिल्खा सिंह ने 400 मीटर की रेस में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता. इसी साल यानी साल 1958 में ही एशियाई खेलों में भी मिल्खा सिंह खूब दौड़े जमकर दौड़े. मिल्खा सिंह ने जापान में खेले गए एशियन गेम्स में 200 मीटर 400 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक अपने नाम किया. यानी दोनों दौड़ों में वे पहले नंबर पर रहे.

इसके बाद आया साल 1962. उस साल जकार्ता में एशियाई खेल हुए. साल 1958 की तरह ही मिल्खा सिंह का जलवा इस भी चला. मिल्खा सिंह ने 200 मीटर की रेस में गोल्ड अपने नाम किया 400 मीटर की रिले रेस में भी स्वर्ण पदक अपने नाम किया. हालांकि मिल्खा सिंह कभी भी ओलंपिक में कोई पदक नहीं जीत पाए. इसका अफसोस मिल्खा सिंह को भी रहेगा. ़1960 ओलंपिक में मिल्खा सिंह ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था. उस साल 400 मीटर की रेस में मिल्खा सिंह चौथे स्थान पर रहे थे, यानी मेडल से बस चंद कदम दूर वे रह गए थे. अगर वे तीसरे स्थान पर भी आ जाते तो कम से कम कांस्य पदक तो भारत का हो ही जाता. हालांकि उसके बाद चौथे स्थान पर भी कोई नहीं पहुंच पाया है. मिल्खा सिंह पर बनी फिल्म भाग मिल्खा भाग से आज की युवा पीढ़ी ने भी मिल्खा सिंह के बारे में बारीकी से जाना. इस फिल्म में मिल्खा सिंह का किरदार फरहान अख्तर ने निभाया था लोगों ने इस खूब पसंद भी किया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘मिल्खा सिंह जी के निधन से हमने एक महान खिलाड़ी को खो दिया, जिनका असंख्य भारतीयों के हृदय में विशेष स्थान था। अपने प्रेरक व्यक्तित्व से वे लाखों के चहेते थे। मैं उनके निधन से आहत हूं।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘मैने कुछ दिन पहले ही मिल्खा सिंह जी से बात की थी। मुझे नहीं पता था कि यह हमारी आखिरी बात होगी। उनके परिवार और दुनिया भर में उनके प्रशंसकों को मेरी संवेदनाएं।

आगे पढ़े

Live Cricket Score – दूरदर्शन के दर्शक भी देख सकेंगे WTC फाइनल!

0

 90 total views

ICC World Test Championship Final Live

India vs New Zealand WTC Final Test Live Streaming

नई दिल्ली:आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल के लिए क्रिकेट के दीवाने दर्शक बेताब हैं। लंबे समय बाद आईसीसी का कोई मेगा इवेंट फैंस को देखने को मिल रहा है। ताजा जानकारी के मुताबिक स्टार स्पोर्ट्स चैनल और ओटीटी प्लेटफॉर्म डिज्नी हॉटस्टार प्लस पर यह मैच लाइव देखा जा सकता है।

लेकिन भारत और न्यूजीलैंड के बीच शुक्रवार से होने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल का प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स के अलावा दूरदर्शन के खेल चैनल डीडी स्पोर्ट्स पर भी किया जाएगा जिससे दूरदराज के इलाकों में रहने वाले दर्शक भी आसानी से इस मुकाबले का लुत्फ उठा पाएंगे।

डब्ल्यूटीसी फाइनल इंग्लैंड के साउथम्पटन में खेला जाना है जिसमें विराट कोहली और केन विलियमसन की टीमें आमने सामने होंगी।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने ट्वीट करके इस मुकाबले के दूरदर्शन पर प्रसारण की जानकारी दी।

जावडे़कर ने ट्वीट किया, ‘‘क्रिकेट प्रेमियों के लिए एक अपडेट है। अब आप डब्ल्यूटीसी फाइनल डीडी फ्री डिश पर डीडी स्पोर्ट्स चैनल पर देख सकते हैं।’’

प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने दूरदर्शन पर मुकाबले के प्रसारण के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, खेल मंत्रालय और स्टार स्पोर्ट्स का आभार जताया।

शशि शेखर ने ट्वीट किया, ‘‘सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, खेल मंत्रालय और स्टार स्पोर्ट्स इंडिया को धन्यवाद, आईसीसी टेस्ट विश्व कप (विश्व टेस्ट चैंपियनशिप) फाइनल डीडी फ्री डिश डीटीएच के डीडी स्पोर्ट्स चैनल 1.0 पर देखा जा सकेगा।’’

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के विशेष कॉन्टेंट प्रस्तुत करने के लिए फेसबुक और आईसीसी साझेदारी करेंगे

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के उद्घाटन संस्करण के फाइनल में पहुंचने के साथ ही, जब भारत और न्यूजीलैंड 18 जून से 22 जून तक आमने-सामने होंगे, क्रिकेट प्रशंसक आकर्षक मैच के रिकैप, इन-प्ले प्रमुख क्षणों और मैच के अन्य विशेष वीडियो-ऑन-डिमांड कॉन्टेंट फेसबुक वॉच पर देख सकेंगे।

आगे पढ़े

धोनी, द्रविड़, गांगुली, कुंबले जो नहीं कर सके, मिताली राज-झूलन गोस्वामी ने कर दिया वह कारनामा

0

 74 total views

इंग्लैंड और भारतीय महिला क्रिकेट टीम के बीच आज से ब्रिस्टल के काउंटी क्रिकेट स्टेडियम में एकमात्र टेस्ट मैच शुरु हो चुका है। फैंस के बीच इस मुकाबले को लेकर एक अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है, क्योंकि भारतीय महिला टीम सात सालों के एक लंबे अंतराल के बाद टेस्ट मैच खेल रही है।

मैच की शुरुआत मेजबान इंग्लैंड के टॉस जीतने के साथ हुई और टीम ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। टेस्ट मैच के शुरू होने के साथ ही भारतीय कप्तान मिताली राज और दिग्गज तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी के नाम पर एक बड़ा कीर्तिमान दर्ज हो गया।

दरअसल, मिताली और झूलन टीम इंडिया के लिए टेस्ट मैच खेलते हुए सबसे लंबे करियर वाली महिला क्रिकेटर बन गई हैं। मिताली राज और झूलन गोस्वामी ने साल 2002 में एक साथ अपने टेस्ट करियर का आगाज एक साथ ही किया था और आज दोनों का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है।

मिताली और झूलन का टेस्ट करियर आज (19 साल और 154 दिन) पुराना हो गया है और इन दोनों के आगे अब सिर्फ सचिन तेंदुलकर (24 साल और एक दिन) का नाम आता है। आज यह रिकॉर्ड बनाने के साथ ही इन दोनों खिलाड़ियों ने के साथ कई दिग्गजों के रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ दिया।

झूलन और मिताली का टेस्ट करियर 19 साल 154 दिन का हो गया है। यह महिला क्रिकेटरों में वेरा बर्ट और मैरी हाइड के बाद सबसे ज्यादा है। न्यूजीलैंड की वेरा बर्ट का करियर 20 साल 335 और इंग्लैंड की मैरी हाइड का करियर 19 साल 211 रहा। आपको ये जानकर हैरानी होगी की इन दोनों महिला खिलाड़ियों के जितना लंबा टेस्ट करियर अनिल कुंबले, राहुल द्रविड़, सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी का भी नहीं रहा।

मिताली ने अब तक भारत के लिए 10 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें 51.00 के औसत से 663 रन बनाए हैं। तो वहीं झूलन गोस्वामी ने 10 टेस्ट मैचों में 16.62 के औसत से 40 विकेट झटके हैं। आपको टेस्ट मैचों की संख्या इतनी कम इसलिए नजर आ रही है क्योंकि भारतीय महिला टीम टेस्ट क्रिकेट कम ही खेलती है। हालांकि इंग्लैंड के बाद उन्हें ऑस्ट्रेलिया के साथ डे-नाइट टेस्ट मैच भी खेलना है।

आगे पढ़े

मुंबई में इकट्ठा हुई भारतीय क्रिकेट टीम मिशन श्रीलंका .

0

 54 total views

श्रीलंका और भारत के बीच में 13 जुलाई से तीन एकदिवसीय एवं तीन टी20 मैचों की सीरीज खेली जानी है। यह सीरीज के लिए शिखर धवन के नेतृत्व में खेलने वाली भारतीय क्रिकेट टीम आज मुंबई में इकट्ठा हुई है। इस बात की जानकारी भारतीय क्रिकेट बोर्ड में अपने ट्विटर माध्यम से साझा की है।

टीम के खिलाड़ियों ने अपने सेल्फी बीसीसीआई को भेजे थे जिसका कोलाज बनाकर बीसीसीआई ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किया था

और यह जानकारी उपलब्ध करवाई थी कि श्रीलंका इस सीमित ओवरों की सीरीज के लिए भारतीय क्रिकेट टीम मुंबई में इकट्ठा हो चुकी है। दोनों देशों के बीच 13 से 18 जुलाई तक तीन एकदिवसीय मैच खेले जाएंगे जबकि 21,23 और 25 जुलाई को टीम टी 20 मैच खेले जाएंगे

आगे पढ़े

IND vs SL: टीम इंडिया के कोच राहुल द्रविड़ होंगे – सौरव गांगुली.

0

 209 total views

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ श्रीलंका दौरे पर टीम इंडिया के कोच होंगे. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने भी इसकी पुष्टि कर दी है. इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के अनुसार गांगुली ने श्रीलंका में छोटी सीरीज के लिए द्रविड़ की नियुक्ति की पुष्टि कर दी है, क्योंकि उसी समय विराट कोहली की अगुवाई में एक टीम इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की टेस्‍ट सीरीज की तैयारियों में बिजी होगी. द्रविड़ पिछले कई सालों से भारतीय अंडर 19 और भारत ए की टीम को कोचिंग दे रहे हैं और उन्होंने भारत की बेंच स्‍ट्रेंथ को काफी मजबूत किया है.

शिखर धवन की अगुवाई में तीन वनडे और तीन टी20 मैचों की सीरीज के लिए इस महीने के अंत में टीम इंडिया श्रीलंका दौरे के लिए रवाना होगी. इस दौरे के लिए भारतीय खिलाड़ी मुंबई पहुंच चुके हैं, जहां उन्‍होंने रवाना होने से पहले सोमवार से अपना 14 दिन का क्वारंटाइन शुरू कर दिया है.

सरकार के जवाब के इंतजार में बीसीसीआई : वहीं टी20 वर्ल्‍ड कप के आयोजन पर गांगुली ने कहा कि हमने भारत सरकार को टैक्स में छूट देने के लिए पत्र लिखा है और हम उनके जवाब का इंतजार कर रहे हैं. हमारे पास अभी भी समय है.

जल्‍द से जल्‍द बीसीसीआई फैसला लेगा : दरअसल देश में बढ़ते कोरोना के खतरे को देखते हुए टी 20 वर्ल्ड कप का यहां पर आयोजन मुश्किल लग रहा है. ऐसे में आईसीसी ने यूएई को विकल्‍प के तौर पर रखा है. आईसीसी ने बीसीसीआई को इस पर फैसला लेने के लिए 28 जून तक का समय दिया है. टैक्स छूट को लेकर बीसीसीआई को 15 जून तक आईसीसी को जानकारी देनी है.

आगे पढ़े

ऑस्ट्रेलियाई तैराक कायली ने 100 मीटर बैकस्ट्रोक में बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

0

 50 total views

एडिलेड. ऑस्ट्रेलिया की तैराक Kaylee McKeown ने 100 मीटर बैकस्ट्रोक का वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है. 19 साल की इस स्विमर ने टोक्यो ओलंपिक के तैराकी ट्रायल के दूसरे दिन 100 मीटर बैकस्ट्रोक का विश्व रिकॉर्ड तोड़ा. कायली ने रविवार रात साउथ ऑस्ट्रेलियन एक्वाटिक सेंटर में फाइनल में 57.45 सेकेंड का समय निकाला.

कायली मैकेओन से पहले यह रिकॉर्ड अमेरिका की रेगन स्मिथ के नाम था जिन्होंने 2019 में 57.57 सेकेंड का समय लिया था. उन्होंने 2017 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी हिस्सा लिया था, उन्होंने 4×100 मीटर मिक्स्ड रिले में रजत पदक जीता था. उन्होंने दो साल पहले वर्ल्ड चैंपियनशिप में 200 मीटर बैकस्ट्रोक में भी रजत पदक नाम किया था.

कायली ने 28.10 में आउट और 29.35 में बैक का समय लिया. उन्होंने इस तरह अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ (57.63) को भी पीछे छोड़ दिया जो उन्होंने पिछले महीने सिडनी में बनाया था. कायली के लिए यह एक भावनात्मक जीत भी है जिन्होंने 10 महीने पहले अपने पिता को कैंसर से खो दिया था.

आगे पढ़े

French Open: जोकोविच ने नडाल को हराकर फाइनल में जगह बनाई, अब सिटसिपास से होगी खिताबी टक्कर

0

 184 total views

फ्रेंच ओपन 2021 में शुक्रवार का दिन काफी हलचल भरा रहा। पेरिस में लाल बजरी पर दो बड़े मुकाबले खेले गए, ये दोनों थे मेन्स सिंगल्स वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले। पहले सेमीफाइनल में जहां स्टेफानोस सिटसिपास ने जीत दर्ज करते हुए पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम फाइनल में जगह बनाई। वहीं दूसरी ओर स्टार खिलाड़ियों- नोवाक जोकोविच और राफेल नडाल के बीच हुए मैराथन मुकाबले में नोवाक जोकोविच ने जीत दर्ज करते हुए फाइनल में जगह पक्की की।

पांचवें वरीय स्टेफानोस सिटसिपास को फ्रेंच ओपन के सेमीफाइनल में एलेक्जेंडर ज्वेरेव के खिलाफ पांच सेट तक चले मैच में जीत मिली। कोर्ट फिलिप चाट्रियर पर साढ़े तीन घंटे से ज्यादा समय तक चले मुकाबले में सितसिपास ने ज्वेरेव को 6,3. 6,3. 4,6. 4,6. 6,3. से शिकस्त दी। दोपहर को आसमान में बादल छाये हुए थे और सितसिपास ने अपने मजबूत रिटर्न के साथ छठी वरीयता प्राप्त ज्वेरेव की लगातार सहज गलतियों की वजह से सेमीफाइनल के अंत में जीत हासिल की।

सितसिपास ग्रैंड स्लैम के एकल फाइनल में पहुंचने में यूनान के पहले खिलाड़ी होंगे और साथ ही 2008 में नडाल के बाद फ्रेंच ओपन के खिताबी मैच में पहुंचने वाले युवा खिलाड़ी भी होंगे। नडाल ने 2008 चैम्पियनशिप खिताब अपने 22वें जन्मदिन के पांच दिन बाद जीता था।

नडाल-जोकोविच का स्टार मैच, जोकोविच ने रचा इतिहास

अब रविवार को सितसिपास का सामना शीर्ष वरीय नोवाक जोकोविच से होगा जिन्होंने दूसरे सेमीफाइनल में 13 बार के फ्रेंच ओपन चैम्पियन स्पेन के राफेल नडाल को शिकस्त दी। नडाल और जोकोविच शुक्रवार को 58वीं बार एक दूसरे से भिड़ रहे थे।

मैच में जोकोविच ने नया इतिहास रचा, वो पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए जिसने फ्रेंच ओपन सेमीफाइनल में राफेल नडाल को मात दी है। पहला सेट गंवाने के बाद जोकोविच ने शानदार वापसी करते हुए ये मैच 3,6. 6,3. 7,6 (7/4). 6,2. से अपना नाम किया और फाइनल में जगह बनाई।

 

आगे पढ़े

निधन: बॉक्सर डिंको सिंह नहीं रहे, खेल जगत में शोक की लहर.

0

 122 total views

एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले पूर्व बॉक्सर नगंगोम डिंको सिंह का 42 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। साल 1998 में उन्होंने एशियाई खेलों में भारत को स्वर्ण पदक जिताया था। डिंको सिंह बीते कुछ वर्षों से बीमार थे और उनके लीवर का इलाज चल रहा था। इस दौरान वह कोरोना संक्रमित भी हुए। लेकिन कोविड को मात देने के बाद भी डिंको सिंह जिंदगी से जंग हार गए। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, खेल मंत्री किरण रिजिजू सहित कई खिलाड़ियों ने गहरा दुख प्रकट किया।

पीएम मोदी ने डिंको सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट कर लिखा, डिंको सिंह सुपरस्टार थे। उनके जरिए बॉक्सिंग को लोकप्रियता और नई ऊंचाइयां मिलीं। उनके निधन से मैं बेहद दुखी हूं। मैं शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता हूं।

डिंको सिंह के निधन पर शोक प्रकट करते हुए खेल मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट कर लिखा, मैं डिंको सिंह के निधन पर आहत हूं, वह भारत के सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाजों में से एक थे। साल 1998 में बैंकाक एशियाई खेलों में डिंको के स्वर्ण पदक ने भारत में बॉक्सिंग को काफी लोकप्रियता दिलाई। मैं शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना प्रकट करता हूं।

वहीं मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने अपने शोक संदेश में कहा, मुझे डिंको सिंह के निधन की खबर सुबह मिली जिससे मैं स्तब्ध हूं, पद्मश्री से सम्मानित डिंको सिंह मणिपुर के सबसे बेहतरीन मुक्केबाजों में से एक थे। शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदना।

डिंको सिंह ने साल 1998 में बैंकॉक एशियाई खेलों में अपना परचम लहराते हुए बॉक्सिंग में स्वर्ण पदक जीता था। बॉक्सिंग में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन को देखते हुए 1998 में अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया। वहीं 2013 में डिंको सिंह को पद्मश्री से सम्मानित किया गया। बीते साल डिंको सिंह की तबीयत ज्यादा खराब हो गई। इसके बाद मणिपुर से उन्हें एयरलिफ्ट के जरिए इलाज के लिए दिल्ली लाया गया। उनके लीवर कैंसर का इलाज दिल्ली के आईएलबीएस में चल रहा था।

डिंको सिंह एक खिलाड़ी ही नहीं थे बल्कि वह प्रेरणा स्रोत भी थे। छह बार की विश्व चैम्पियन एमसी मेरीकॉम और एल सरिता देवी ने मुक्केबाजी की प्रेरणा उन्हीं से ली। डिंको सिंह भारतीय नौसेना में कार्यरत थे और वह कोच के तौर पर काम करते थे। पिछले कई वर्षों से बीमार होने की वजह से वह घर पर रह रहे थे।

 

आगे पढ़े

सहवाग ने क्रिकेट वेबसाइट ‘क्रिककुरू’ शुरू की

0

 126 total views

 नौ जून भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने क्रिकेट कोचिंग वेबसाइट ‘क्रिककुरू’ लांच की जिसका लक्ष्य उदीयमान क्रिकेटरों के सीखने के अनुभव को नये सिरे से परिभाषित करना है।

सहवाग ने भारत के पूर्व बल्लेबाज और बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ के साथ मिलकर पाठ्यक्रम तैयार किया है ।

एक विज्ञप्ति में कहा गया ,” देश की पहली छद्म मेधा की सहायता वाली कोचिंग वेबसाइट का लक्ष्य युवा खिलाड़ियों को सीखने का अनुभव देना और दुनिया भर के 30 खिलाड़ी कोचों से खेल के गुर सिखाना है । इसमें हर कोच का चार घंटे का वीडियो होगा ।”

कोचों में एबी डिविलियर्स, ब्रायन लारा, क्रिस गेल, ड्वेन ब्रावो, हरभजन सिंह, जोंटी रोड्स शामिल हैं ।

बांगड़ ने कहा ,” इसका लक्ष्य देश में कहीं भी रह रहे लोगों को क्रिकेट कोचिंग मुहैया कराना है । इसमें दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहर शामिल हैं।

Disclaimer: सदभावना पाती न्यूज़ ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

 

आगे पढ़े