Press "Enter" to skip to content

Posts published in “शिक्षा”

Indore Education News : इंदौर की स्कूल और कॉलेज के शिक्षा से जुड़ी कुछ खास ख़बरें, जानें यहाँ.

0

 84 total views

1.  इस वर्ष की इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षाओं के लिए CBSE बोर्ड ने मार्किंग फार्मूला तैयार कर लिया है. रिजल्ट 10वीं, 11वीं और 12वीं के मार्क्स के आधार पर 30-30-40 के फॉर्मूले से तैयार होगा. बता दें कि बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट 31 जुलाई तक जारी किए जाने हैं. बोर्ड सभी छात्रों की मार्कशीट तैयार कर 31 जुलाई को इसे आधिकारिक ऑनलाइन पोर्टल पर अपलोड कर देगा.

2. डीएवीवी की गुरुवार से शुरू हुई बीकॉम फाइनल की परीक्षा में अंग्रेजी के पर्चे में “Riya said Ram is fool” प्रश्न पूछा। इस पर सोशल मीडिया पर एक प्रोफेसर ने आपत्ति लेते हुए कहा राम पूजनीय हैं, तो किसी प्रश्न में इसी नाम के आगे मूर्ख शब्द क्यों लिखा गया। कोई और नाम ले सकते थे.

कांग्रेस नेता विवेक खंडेलवाल व गिरीश जोशी ने इसे अपमान बताकर नालंदा परिसर में धरना दिया। यूनिवर्सिटी ने नाम बदलकर राम की जगह राज किया.

3 . देशभर के कॉलेज-विश्वविद्यालय में नौकरियों की जानकारी मिलेगी एकेडमी जाब पोर्टल पर कई बार सेट-नेट और पीएचडी क्वालिफाई उम्मीदवारों को नौकरियां मिलने में दिक्कत आती हैं इसलिए यूजीसी ने इन उम्मीदवारों को भी पोर्टल अपना प्रोफाइल अपलोड करने की सुविधा दी है ताकि संस्थान अपने हिसाब से भी योग्य उम्मीदवार का चयन कर रिक्त पदों के लिए साक्षात्कार ले सके।

4. भारतीय योग प्रमाणन बोर्ड ने भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद को कार्मिक प्रमाणन निकाय के रूप में नियुक्त किया है। आईसीसीआर आयुष मंत्रालय के साथ, अब दुनिया भर के पेशेवरों के लिए योग प्रमाणन पाठ्यक्रम शुरू करेगा। योग पाठ्यक्रम आयोजित करने के अलावा, आईसीसीआर अब भारतीय दूतावासों को योग प्रमाणन केंद्र बनाना सुनिश्चित करेगा.

5. जुलाई के अंतिम सप्ताह में हो सकती है देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षाएं, एजेंसी ने सेंटर बनाने के लिए मांगा 10 दिनों का समय.

6 . विश्वविद्यालय की वादाखिलाफी से नाराज कर्मचारी अब आंदोलन के मूड में है, पिछले साल आंदोलन में 22 मांगों को लेकर सहमति बनी थी जिन पर अभी तक कोई अमल नहीं हुआ.

7.  कोरोना के कारण बजट का अभाव बताकर शासन ने झाड़ा पल्ला, सरकार से स्कॉलरशिप नहीं मिलने के कारण पढ़ाई छोड़ रहे हजारों बच्चे, इंदौर शहर से हजारों छात्र कर चुके पलायन.

8. इंदौर में शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत लगभग 13000 बच्चों को निशुल्क प्रवेश दीया जाना है. अब तक 2555 आवेदन मिले हैं जिनकी जांच जारी है

9. इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गई है अप्लाई करने की अंतिम तिथि 15 जुलाई है।

10 .देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी ने तय किया है कि b.Ed प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं नहीं होगी आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट तैयार होगा उधर लॉ  की परीक्षाएं जुलाई-अगस्त में होंगी।

11. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी का नया कारनामा सामने आया है, बार काउंसिल ने दि सामान्य कोर्स की मान्यता यूनिवर्सिटी में दे दिया ऑनर्स का एफीलिएशन, ईओडब्ल्यू सहित बार काउंसिल ऑफ इंडिया को हुई शिकायत.

12 . महत्वाकांक्षी योजना बनेगी 1.10 करोड़ की आइडिया लैब. एसजीएसआईटीएस प्रतिभावान विद्यार्थियों को देगा निशुल्क प्रवेश, नए विचारों को प्रयोगशाला में मिलेगा बेहतर आसमान.

आगे पढ़े

Indore Education News : शिक्षा से जुड़ी कुछ खास ख़बरें , जानें यहाँ

0

 186 total views

1. यूनिवर्सिटी ने तय किया है कि बीए एलएलबी दूसरे, चौथे, छठे, आठवें और अंतिम सेमेस्टर के एग्जाम ओपन बुक सिस्टम करवाया जाएगा। जबकि बीए एलएलबी पहले, तीसरे, पांचवें, सातवें और नौंवें सेमेस्टर की एग्जाम लिखित नहीं होकर इंटरनल मार्क्स के आधार पर होगी। लेकिन कॉलेज असाइनमेंट- प्रोजेक्ट के आधार पर मार्क्स देंगे। वहीं, एलएलबी में भी यही व्यवस्था लागू होगी। यानी पहले, तीसरे और पांचवें सेमेस्टर के एग्जाम नहीं होंगे। इंटरनल मार्क्स के आधार पर ही रिजल्ट तैयार होगा। जबकि दूसरे, चौथे और अंतिम सेमेस्टर में ओपन बुक एग्जाम होगी। लॉ के बार कोर्स के लिए भी इसी फॉर्मूले को अपनाया जाएगा।विश्वविद्यालय के दायरे में करीब 14 लॉ कॉलेज है। यहां से एलएलबी-एलएलएम सहित अन्य कोर्स में 13 हजार विद्यार्थी है।
2. बीए फाइनल के साथ ही बीबीए और बीसीए फाइनल सेमेस्टर की भी परीक्षा शुरू हो गई हैं। छात्रों का कहना है कि किसी प्रकार से कोई समस्या नहीं आ रही है। आसानी से प्रश्न पत्र वेबसाइट से अपलोड हो रहे हैं। वहीं, बीकॉम की 17 और बीएससी अंतिम वर्ष की 19 से शुरू होगी। बीबीए-बीसीए फाइनल सेमेस्टर की एग्जाम 23 जून से होगी.
3. देवी अहिल्या विश्वविद्यालय का परीक्षा देने वाले विद्यार्थी परेशान हो रहे हैं रिजल्ट, माइग्रेशन और डिग्री में करेक्शन के लिए उन्हें भटकना पड़ रहा है |

4. कोरोना काल के चलते ऑनलाइन शिक्षा का चलन बढ़ गया है इसके चलते डीएवीवी ने 15 साल पुरानी इंटरनेट केबल को अब बदलने की तैयारी कर ली है, यहां हाई स्पीड केबल से इंटरनेट सुविधा की व्यवस्था की जा रही है।

5. यूनिवर्सिटी में संबद्धता के लिए कॉलेजों को तीन विकल्प दिए भौतिक निरीक्षण, ऑनलाइन प्रेजेंटेशन या शपथ पत्र तभी कॉलेजों को मिलेगी संबद्धता.   ज्ञात हो कि 31 जुलाई से पहले यूनिवर्सिटी को कॉलेजों की संबद्धता जारी करना होगा . वही यूनिवर्सिटी की लापरवाही सामने आ रही है की 50 से अधिक कॉलेजों से संबद्धता शुल्क के ₹11 करोड़ लेना यूनिवर्सिटी भूल गई,  इस बात को 10 साल हो गए जब लापरवाही सामने आई तो कॉलेजों को नोटिस भेजकर शुल्क जमा करने के लिए कहां जा रहा है यह शासकीय और निजी दोनों तरह के कॉलेज हैं ।

6. स्कूल संचालकों ने ऑनलाइन क्लास शुरू करें का निर्णय लिया है 15 जून से प्रारंभ होगी और 30 जून तक प्रवेश प्रक्रिया चलेगी  |

आगे पढ़े

Indore Education News : शिक्षा से जुड़ी कुछ खास ख़बरें , जानें यहाँ.

0

 201 total views

 स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बताया, मंत्रियों के सुझाव पर विचार करने के अलावा आम लोगों से भी फीडबैक लिया जा रहा है। इसके लिए अंतिम तारीख 30 जून तय की गई है। स्पष्ट है कि स्कूल-कॉलेजों को खोलने का निर्णय अगले माह के पहले सप्ताह में लिया जा सकता है। यह भी बताया की प्रदेश में करीब एक हजार सीएम राइज स्कूल शुरू किए जाएंगे। अगामी शिक्षा सत्र में 350 स्कूलों का चयन किया गया है। इसमें ट्राइबल व सामान्य व जिला, ब्लाॅक का विभाजन किया है। नगर निगम क्षेत्र है, तो जहां स्कूल नहीं है, उसको भी शामिल किया जा रहा है।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों को खतरा ज्यादा है। इसे ध्यान में रखकर तैयारियां की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि मेडिकल स्टाफ के अलावा बच्चों के पेरेंट्स को भी ट्रेनिंग दी जाएगी।

उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ. मोहन यादव ने बताया कि आत्मनिर्भर बनाने के लिए 50 से ज्यादा काॅलेजों का भवन निर्माण कराया जाएगा। रोजगार मूलक कोर्स शुरू किए जाएंगे। विश्वविद्यालयों को यह स्वायत्तता दी जाएगी कि वह मेडिकल एजुकेशन व रोजगार परक कोर्स शुरू करें। कोरोना मुक्ति अभियान में कॉलेजों के स्टूडेंट शामिल होंगे।
 
इधर आज 15 जून से विश्वविद्यालय यूजी फाइनल ईयर की परीक्षा आयोजित करने जा रहा है। 48 हजार विद्यार्थियों का परीक्षा के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा। सोमवार को परीक्षा को लेकर अधिकारियों ने तैयारियों का जायजा लिया। आईटी टीम को भी पेपर अपलोड करने को लेकर निर्देश दिए है। बीए, बीएसडब्ल्यू, बीए इन जर्नलिज्म और बैचलर इन लाइब्रेरी साइंस के पेपर सुबह नौ बजे तक वेबसाइट पर जारी होंगे। विश्वविद्यालय ने सारे कॉलेजों को पेपर की लिंक अपनी-अपनी वेबसाइट पर भी दर्शाने को लेकर निर्देश दिए है।

आगे पढ़े

Indore Education News : इंदौर शिक्षा की 4 खास ख़बरें

0

 116 total views

1. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी पिछले कई दिनों से हैकर्स के निशाने पर है। यूनिवर्सिटी की कुलपति डॉ. रेणु जैन का ई-मेल आईडी एक बार फिर हैक कर लिया गया है। इससे कई लोगों को मेल भेजे गए हैं। एक बार पहले भी उनका ई-मेल आईडी हैक कर लिया गया था। उससे पहले रजिस्ट्रार सहित कई प्रोफेसर के ई-मेल आईडी हैक कर अधिकारियों, प्रोफेसर और अन्य से रुपए मांगे जा चुके हैं।
2. बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया की हरी झंडी के बाद अब देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी (DAVV) एलएलबी से लेकर बीएएलएलबी तक की परीक्षाओं की तैयारियों में जुट गई है। परीक्षा किस प्रणाली से करवाई जाए, इसके लिए मंगलवार को लॉ परीक्षा बोर्ड की बैठक रखी गई है। इसमें अंतिम रूप से फैसला किया जाएगा कि परीक्षा कब हो।
3. 15 मार्च से अब तक लगभग ढाई माह देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी बंद रही, लेकिन ऑनलाइन प्लेसमेंट प्रक्रिया के जरिए घर बैठे ही यूनिवर्सिटी ने 175 छात्रों को नौकरी दिलवा दी। खास बात यह है कि औसत पैकेज भी बढ़ गया। यह 4 लाख से सीधे 5 लाख पर पहुंच गया है।

4. डीएवीवी के विभागों में दाखिले के लिए होने वाली कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (सीईटी) को लेकर तैयारियां अंतिम चरणों में चल रही है। शनिवार को एमपी आनलाइन ने परीक्षा के संबंध में प्रेजेंटेशन दिया और विश्वास जताया कि ऑनलाइन टेस्ट का पेपर पूरी तरह सुरक्षित रखा जाएगा। पेपर को देखने और बदलाव करने का अधिकार सिर्फ विश्वविद्यालय के पास होगा। बकायदा पेपर की सिक्योरिटी रखी है, जिसमें बिना पासवर्ड के सिस्टम चलाना संभव नहीं है। ये पासवर्ड सिर्फ विश्वविद्यालय के पास रहेगा। हालांकि एजेंसी का एक और टेक्निकल प्रेजेंटेशन होना बाकी है, जो अगले सप्ताह रखा है।

आगे पढ़े

शिक्षा मंत्री का ऐलान, स्कूल न जाने वाले बच्चों का डेटा ऑनलाइन मॉड्यूल के माध्यम से होगा कंपाइल, स्कूलों में वापसी करेगा सुनिश्चित

0

 182 total views

नई दिल्ली:स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने स्कूल से बाहर के बच्चों के डेटा को कंपाइल करने के लिए एक ऑनलाइन मॉड्यूल विकसित किया है. ऑनलाइन मॉड्यूल के तहत प्रत्येक राज्य और केंद्र शासित प्रदेश द्वारा पहचाने गए स्कूल से बाहर के बच्चों के डेटा को कंपाइल किया जाएगा और इसे समग्र शिक्षा के PRABANDH पोर्टल पर स्पेशल ट्रेनिंग सेंटर (STCs) के साथ मैप किया जाएगा.

इसके माध्यम से स्कूल न जाने वाले बच्चों को स्कूलों में वापस लाना सुनिश्चित किया जाएगा, जो शिक्षा के अधिकार अधिनियम द्वारा भी अनिवार्य है. इसपर नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) में भी जोर दिया गया है.

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने इसकी घोषणा करते हुए कहा, “भारत के हर छात्र का ख्याल रखना हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. इसके मद्देनजर, स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने प्रत्येक राज्य / केंद्र शासित प्रदेश द्वारा पहचाने गए स्कूल से बाहर के बच्चों के डेटा को कंपाइल करने के लिए एक ऑनलाइन मॉड्यूल विकसित किया है और इसे PRABANDH पोर्टल पर स्पेशल ट्रेनिंग केंद्रों के साथ मैप किया गया है.”

इस संबंध में जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि स्कूल न जाने वाले बच्चों की और स्पेशल ट्रेनिंग सेंटर (STCs) की जानकारी को संबंधित ब्लॉक रिसोर्सेज़ सेंटर (बीआरसी) के ब्लॉक रिसोर्सेज़ कोऑर्डिनेटर की देखरेख में ब्लॉक स्तर पर अपलोड करना आवश्यक होगा. आधिकारिक बयान में कहा गया है, 16,18. वर्ष की उम्र के स्कूली बच्चों और सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित समूहों (एसईडीजी) से संबंधित बच्चों के लिए, वर्ष 2021,22. से पहली बार वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई गई है, ताकि उनकी शिक्षा को ओपन / डिस्टेंस लर्निंग मोड के माध्यम से जारी रखा जा सके.”

इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए आप आधिकारिक नोटिस को पढ़ सकते हैं, जिसे शिक्षा मंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है.

 

आगे पढ़े

DAVV News : सॉफ्टवेयर अपडेट न होने से हुआ करप्ट कई विषयों के रिजल्ट रुके, जानें

0

 112 total views

फरवरी-मार्च में विश्वविद्यालय ने कई परीक्षाएं करवाई थी, जिसमें बीएड-एमएड, बीपीएड-एमपीएड, एलएलबी, बीए एलएलबी, बीकॉम एलएलबी, एलएलएम सहित अन्य कोर्स की ऑनलाइन और ओपन बुक पद्धति से परीक्षा करवाई। इनकी कॉपियां जांच कर मूल्यांकनकर्ताओं ने मार्क्स भी विश्वविद्यालय को भेज दिए थे। कुछ कोर्स की परीक्षा के मार्क्स विश्वविद्यालय ने रिजल्ट से जुड़े सॉफ्टवेयर में चढ़ाने का काम किया। इस बीच विश्वविद्यालय ने नौ अप्रैल को 15 से ज्यादा कोर्स के रिजल्ट जारी कर दिए।

सूत्रों के मुताबिक तैयार रिजल्ट के मार्क्स को सॉफ्टवेयर में नजर नहीं आए। गड़बड़ी की वजह से रिजल्ट से जुड़ा डाटा करप्ट हो गया। बताया जाता है कि डाटा करप्ट होने से बीएड-एमएड, बीपीएड-एमपीएड सेकंड सेमेस्टर, एलएलबी, बीए एलएलबी, एलएलएम के विभिन्न सेमेस्टर रिजल्ट लेट हो गए है। मूल्यांकन केंद्र के अधिकारियों के मुताबिक रिजल्ट अप्रैल में भी भेज दिए थे। उधर नौ अप्रैल के बाद सात जून को मात्र बीबीए फॉरेन ट्रेड का रिजल्ट घोषित हुआ है।लॉ कोर्स का रिजल्ट लेट होने से विद्यार्थी काफी परेशान है। कई छात्र-छात्राओं पीजी में दाखिला लेना है। इसके लिए वे अपने-अपने रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार करने में लगे है। अधिकारियों के मुताबिक मार्क्स को जल्द ही सॉफ्टवेयर में चढ़ाया जाएगा।

विशेषज्ञों ने सॉफ्टवेयर अपडेट करने की सलाह के बाद अब सॉफ्टवेयर को अपडेट किया जा रहा है। साथ ही विद्यार्थियों के मार्क्स को दोबारा सॉफ्टवेयर में फीड किया जाएगा। सप्ताह भर में रिजल्ट की व्यवस्था सामान्य हो सकेगी।

और इधर इस बार डेढ़ दर्जन से ज्यादा शहरों में CET परीक्षा करवाई जाएगी। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, सतना, सागर, उज्जैन, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, झाबुआ, धार, इटारसी, बेतुल सहित कई शहरों होंगे । प्रदेश के बाहर सिर्फ चार शहरों में सेंटर रखे जाएंगे, जिसमें कोटा, दिल्ली, प्रयागराज और रायपुर शामिल होंगे। फिलहाल सेंटर को लेकर एजेंसी की मुहर लगाना बाकी है। संभवत: शनिवार को विवि और एमपी ऑनलाइन की बैठक होगी।

 

आगे पढ़े

Education News Update : इंदौर शिक्षा से जुडी कुछ खास ख़बरें

0

 126 total views

1. पिछले लॉकडाउन के बाद से स्कूल और कॉलेजों में कार्यरत शिक्षक और कर्मचारियों की हालत खराब। न्यायालय जाने को हुए मजबूर। न सैलरी, न वापस बुला रहे, न नौकरी से हटा रहे। अधिकांश को घर बैठा दिया, कईयों को रखा अधर में।
2. राइट टू एजुकेशन योजना के तहत 4 सालों से बकाया है निजी स्कूलों का आउटस्टैंडिंग। अब तक नहीं मिले 42 करोड़, नया सत्र भी शुरू। लॉकडाउन के चलते जिले के 400 स्कूल बंद हो गए, 46000 बच्चों को योजना का लाभ मिला, जनप्रतिनिधियों से लगावाई गुहार।
3. 5 साल बाद एसडीएम के 92 पदों पर भर्ती , कुल रिक्तियों में से 30 प्रतिशत से ज्यादा सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित रखी है। उधर मेरिट के बाद भी 780 अभ्यर्थी नहीं बन पाएंगे शिक्षक |
4. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी में इसी सत्र से शुरू होगी एनसीसी थ्योरी और प्रैक्टिकल के आधार पर अंक मिलेंगे जो मार्कशीट में होंगे.
5. खुली किताब पद्धति को लेकर विभिन्न निर्देश जारी। अग्रणी महाविद्यालय भिजवा आएंगे समय पर उत्तर पुस्तिकाएं। संग्रहण केंद्र में कार्यरत शिक्षक सहित अन्य का टीकाकरण अनिवार्य ।

6. विदेश जाने वालों के लिए एक अच्छी खबर, विदेश में पढ़ाई और नौकरी करने वालों को दूसरे दोस्त के लिए नहीं करना होगा 86 दिन का इंतजार, 4 सप्ताह बाद ही लग जाएगा कोविशील्ड का दूसरा डोज ।
7.  IIT कैंपस के नए स्कूल को डेढ़ साल में नई बिल्डिंग मिलेगी । पहले साल भी कोवीड के साए में हुए थे प्रवेश इस साल भी यही हाल ।
8.निजी स्कूलों में गरीब बच्चों के प्रवेश की प्रक्रिया कल से। साढे 12000 सीटें उपलब्ध, गत वर्ष प्रवेश ले चुके बच्चों को अगली कक्षा में सीधे प्रमोट करेंगे।
परीक्षा लेना भूल गया विश्वविद्यालय । बी वॉक कोर्स इंटीरियर और फैशन डिजाइन की परीक्षा लेना ही भूल गया है DAVV विद्यार्थी परीक्षा कराने के लिए 2 साल से परेशान हो रहे हैं ।
9.  आईआईटी इंदौर ने किये शार्ट टर्म कोर्स तैयार जिसमे स्थानीय वेस्ट को कैसे रिसाइकल करके उपयोग किया जा सकता है। इनोवेटिव ला कास्ट बिल्डिंग प्रोडक्ट, ट्रेडिशनल रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सोशल इकोनॉमिक चैलेंज इन रूरल हाउसिंग और भारत सरकार द्वारा गांवों में घर बनाने के लिए दिए जा रहे फायदों के बारे में भी अवगत कराया जाएगा।
10.  इंस्टीट्यूट आफ कंपनी सेक्रेटरी आफ इंडिया (आइसीएसआइ) ने सीएस फाउंडेशन, एग्जीक्यूटिव और प्रोफेशनल प्रोग्राम परीक्षा की तारीख घोषित कर दी है। परीक्षाएं  10 अगस्त से 20 अगस्त तक जारी रहेगी। इसमें पुराने और नए दोनों पाठ्यक्रम की परीक्षाएं आयोजित की जाएगी।

 

आगे पढ़े

DAVV Exam Update : संग्रहण केंद्र में कार्यरत शिक्षक सहित अन्य का टीकाकरण अनिवार्य

0

 128 total views

 देअविवि ने जून जुलाई 2021 की परीक्षाओं में कोविड की वजह से ओपन बुक पद्धति द्वारा परीक्षाएं कराने और उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण को लेकर विभिन्न दिशा – निर्देश जारी किए है । इसके मुताबिक अग्रणी महाविद्यालय पूरी जिम्मेदारी का निर्वहन करेंगे । खास बात यह है कि संग्रहण केंद्र में कार्यरत शिक्षक सहित अन्य का कम से कम पहला टीका लगा होना आवश्यक होगा ।
देअविवि ने यह निर्देश समस्त शासकीय सहित अग्रणी एवं अनुदान प्राप्त महाविद्यालयों को उनके संग्रहण केंद्र के रूप में दिए है । प्रभारी परीक्षा नियंत्रक प्रो . अशेष तिवारी ने मंगलवार को जारी इन निर्देशों में कहा है कि उच्च शिक्षा मंत्रालय के आदेशानुसार परीक्षाएं आयोजित कराने के क्रम में सभी को इसका पालन करना होगा । अग्रणी महाविद्यालय के प्राचार्य समस्त संग्रहण केंद्र से कॉपी एकत्रित कर विवि के केंद्रीय मूल्यांकन केंद्र में भिजवाने की व्यवस्था करेंगे । यह कार्य विद्यार्थियों द्वारा उत्तर पुस्तिका जमा करने की अंतिम तारीख के पश्चात 3  दिन में पीजी और 5 दिन में UG में करना होगी|

साथ ही यदि कोई विद्यार्थी केंद्र पर उत्तर पुस्तिका जमा करने आएगा तो उसे दो प्रतियों में इस प्रक्रिया में सम्मिलित किया जाएगा । सभी संग्रहण केंद्र कोरोना के परिप्रेक्ष्य में विद्यार्थियों की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य के मद्देनजर यूजीसी, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और उच्च शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार नियमों का पालन करेंगे , जबकि संग्रहण केंद्र प्रभारी को यह जिम्मेदारी होगी कि यहां कार्यरत समस्त स्टाफ का अनिवार्य रूप से कम से कम एक टीकाकरण हो चुका हो ।

 

आगे पढ़े

मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा और उच्च शिक्षा की ख़बरों में क्या नया अपडेट, यहाँ देखें

0

 104 total views

1 . एमपी बोर्ड 12वीं के स्टूडेंट्स के लिए मार्किंग नीति का ऐलान जल्द किया जाएगा। 2 जून को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संकट को देखते हुए 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी थीं। रिपोर्ट्स के अनुसार, एमपी बोर्ड सीबीएसई की कक्षा 12 के लिए मार्किंग पॉलिसी के इंतजार में है। सीबीएसई की ओर से जैसे ही 12वीं के छात्रों की मूल्यांकन नीति का ऐलान होगा वैसे ही एमपी बोर्ड भी कक्षा 12 किे स्टूडेंट के लिए मार्किंग नीति का ऐलान कर देगा। उम्मीद है कि मार्किंग पॉलिसी फाइलाइज होने के बाद जल्द ही एमपी बोर्ड 12वीं के छात्रों का रिजल्ट तैयार किया जाएगा। 

एमपी बोर्ड इंटर की परीक्षाएं रद्द करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि प्रदेश की 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं नहीं होंगी, परन्तु जो विद्यार्थी चाहेंगे बाद में परीक्षा दे सकेंगे। आंतरिक मूल्यांकन का काम वैज्ञानिक पद्धति से होगा तथा शिक्षा मंत्रियों का समूह विषय विशेषज्ञों से चर्चा कर इसकी प्रक्रिया के संबंध में निर्णय लेगा। 

2. मध्य प्रदेश उच्च शिक्षा के अनुसार परीक्षाएं पिछले वर्ष की तरह ओपन बुक पद्धति से होंगी। निर्धारित तिथि व समय पर विद्यार्थी को ऑनलाइन प्रश्न पत्र प्राप्त होगा, जिसका उत्तर वह घर बैठे ही उत्तर पुस्तिका में लिखकर नजदीकी संग्रहण केंद्र में जमा करा देगा।

जिन विद्यार्थियों के घर पर इंटरनेट सुविधा नहीं होगी उन्हें नजदीकी शिक्षा संस्थान में परीक्षा देने की सुविधा दी जाएगी। हालांकि इस योजना में नर्सिंग और मेडिकल के छात्र भी शामिल होंगे या नहीं इस पर कोई अपडेट नहीं है। इस वर्ष कुल 14 लाख 88 हजार 958 तथा स्नातकोत्तर कक्षाओं में 3 लाख 08 हजार 117 परीक्षार्थी हैं।

3 . तकनीकी शिक्षा विभाग की सभी परीक्षाएं ऑनलाइन होंगी तथा ओपन बुक पद्धति पर आधारित होंगी। परीक्षार्थी ऑनलाइन ही उत्तर लिखेंगे।

समय 2 घंटे होगा। मूल्यांकन में 50 फीसदी पिछले सेमेस्टरों तक अर्जित सीजीपीए का अधिभार मान्य किया जाएगा। परीक्षाएं जून एवं जुलाई में होंगी तथा परिणाम 10 दिन में आ जाएंगे। प्रदेश में तकनीकी शिक्षा महाविद्यालयों में कुल 1 लाख 87 हजार 811 परीक्षार्थी हैं।

 

आगे पढ़े

Indore Education : इंदौर शिक्षा की कुछ खास खबरें, देखें

0

 140 total views

33 कोर्स में 2160 सीटों के लिए अगस्त में ऑनलाइन सीईटी होना है देवी अहिल्या विश्वविद्यालय ने इस बार प्रदेशभर के ज्यादातर जिलों में एक-एक केंद्र रखने का फैसला लिया है। मामले में परीक्षा करवाने वाली एजेंसी ने भी सहमति जताई है। अधिकारियों के मुताबिक विद्यार्थियों को परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए अपने शहर से ज्यादा दूर न आना पड़े इसलिए केंद्रों की संख्या में बढ़ोत्तरी करेंगे। फिलहाल केंद्रों को लेकर विवि और एजेंसी के बीच बातचीत होना बाकी है |
12वीं के परिणाम आने में लग सकता है ऐसे में प्रदेश के इंजीनियरिंग संस्थानों को इस बार अपनी इंजीनियरिंग (बीई) की सीटें भरने के लिए ज्यादा संघर्ष करना पड़ सकता है। हर साल जून में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो जाती है और जुलाई के आखिरी तक प्रवेश प्रक्रिया का तीसरा चरण पूर्ण हो जाता है। लेकिन इस बार अब तक प्रवेश प्रक्रिया को लेकर डायरेक्टोरेट आफ टेक्निकल एजुकेशन (डीटीई) की ओर से कोई दिशा-निर्देश जारी नहीं किया गया है। निजी कॉलेजों ने अभी से ही विद्यार्थियों से संपर्क करना शुरू कर दिया है |

5 शासकीय कॉलेजों में शुरू होंगे जॉब ओरिएंटेड 33 कोर्स,जानें किस कॉलेज में क्या ?

जीएसीसी में इन कोर्स को मान्यता

  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज इंस्टीट्यूट के वाणिज्य विभाग से टाइअप के साथ बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज एंड इंश्योरेंस कोर्स। 300 सीटें रहेंगी।
  • बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज एंड इंश्योरेंस सेक्टर स्किल काउंसिल के साथ टाईअप से मिला 6 माह का स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम। 300 सीटें रहेंगी।
  • कैट के वाणिज्य विभाग से टाईअप से मिला अकाउंट टेक्नीशियन का डिप्लोमा कोर्स। अवधि 1 साल। 300 सीटें।

  • टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल से टाइअप से मिला कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव डिप्लोमा कोर्स। अवधि 1 साल। 300 सीटें।
  • क्रिस्ट यूनिवर्सिटी के साथ टाइअप से मिला पर्सनाल्टी डेवलपमेंट कम्युनिकेशन स्किल एंड लैंग्वेज डिप्लोमा प्रोग्राम। 1 साल अवधि। 200 सीटें।

होलकर में 4 कोर्स

  • होलकर कॉलेज में 60 सीटों के साथ पहली बार बीएससी ऑनर्स फिजिक्स शुरू होगा।
  • 60 सीटों के साथ ही पहली बार यहां बीएससी ऑनर्स मैथ्स कोर्स भी शुरू होगा।
  • 30 सीटों के साथ एमएससी जाग्रफ़ी शुरू होगा।
  • 30 सीटों के साथ ही एमएससी सीड टेक्नोलॉजी कोर्स भी आरंभ होगा। ये चारों कोर्स भी इसी साल आरंभ हो सकते हैं।

 

आगे पढ़े