Press "Enter" to skip to content

 पुजारा ने लगाई शतकों की झड़ी, इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट के लिए भारतीय टीम में खेलना तय!

  • चेतेश्वर पुजारा ने काउंटी चैंपियनशिप की पांच पारियों में लगाए तीन शतक
  • पुजारा ने रिजवान के साथ की थी 154 रनों की साझेदारी
  • 1-5 जुलाई तक बर्मिंघम में इंग्लैंड से एकमात्र टेस्ट मैच खेलेगा भारत

चेतेश्वर पुजारा इन दिनों काउंटी क्रिकेट में काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं। ससेक्स के लिए खेलते हुए पुजारा ने पिछले तीन मैचों में 531 रन बनाए हैं। इसी के साथ उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ आगामी एकमात्र टेस्ट मैच के लिए खेलने की अपनी दावेदारी को ठोस कर दिया है।

उन्होंने इंग्लैंड की कंडीशंस से रूबरू होते हुए इस दौरान तीन शतक लगाए जिसमें दो दोहरे शतक भी शामिल थे। इसके बाद यही अटकले हैं कि पुजारा का इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच के लिए टीम में खेलना तय मान सकते हैं।

आपको बता दें कि भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ इसी साल 1 जुलाई से 5 जुलाई तक एकमात्र टेस्ट मैच बर्मिंघम के एजबेस्टन में खेलेगी। इस मैच में हालांकि अभी काफी समय बाकी है।

लेकिन हाल ही में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से बाहर किए जाने के बाद इस पर चर्चा होना लाजिमी है कि पुजारा ने वापसी के लिए अपनी दावेदारी की ताल ठोक दी है। अब सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि पुजारा आएंगे तो जाएगा कौन?

यह भी टीम मैनेजमेंट के लिए बड़ा सिरदर्द होगा कि चेतेश्वर पुजारा की वापसी पर बाहर किसे किया जाए। हनुमा विहारी ने श्रीलंका सीरीज में पुजारा के स्थान नंबर तीन पर बल्लेबाजी की थी।

वहीं श्रेयस अय्यर को अजिंक्य रहाणे की जगह खेलते देखा गया था। रहाणे की वापसी तो फिलहाल उनके हालिया और रणजी के प्रदर्शन को देखते हुए मुश्किल कह सकते हैं। लेकिन क्या हनुमा विहारी को एक बार फिर अपनी जगह गंवानी पड़ेगी। यह देखने वाली बात होगी।

क्यों पुजारा को नजरअंदाज करना होगा मुश्किल?

दरअसल चेतेश्वर पुजारा का रिकॉर्ड हमेशा से इंग्लैंड में अच्छा रहा है। उन्हें वहां की कंडीशंस पसंद आती हैं। पिछले साल उन्होंने वहां खेले गए चार टेस्ट मैचों में 227 रन बनाए थे जिसमें दो अर्धशतक भी शामिल थे।

बड़ी पारी वह जरूर नहीं खेल पाए थे लेकिन उन्होंने रन विराट कोहली 218) से भी ज्यादा बनाए थे। ऐसे में उनके पास यह एक अच्छा प्वॉइंट है इस टेस्ट मैच में अपनी जगह बनाने का।

इसके अलावा पुजारा का मौजूदा प्रदर्शन हर किसी के सामने है। वहीं विराट कोहली जिन्हें भारतीय मध्यक्रम का स्तंभ माना जाता है इन दिनों आउट ऑफ फॉर्म हैं।

आईपीएल में भी उनके बल्ले से रन नहीं निकल रहे हैं। इस वजह से भी इस मैच में पुजारा को नजरअंदाज करना मुश्किल होगा।

वहीं पुजारा की पिछली 10 पारियों या पिछले 5 टेस्ट मैच के स्कोर पर नजर डालें तो उन्होंने 219 रन बनाए हैं। वहीं विराट कोहली की बात करें तो उन्होंने पिछले पांच टेस्ट में 272 रन बनाए हैं।

लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि पुजारा ने पांच में से चार मैच विदेशी सरजमीं पर खेले हैं और कोहली ने तीन मैच भारतीय सरजमीं पर खेले हैं। ऐसे में पुजारा के रिकॉर्ड को खराब नहीं माना जा सकता।

साथ ही भारतीय टीम लगातार लचर मध्यक्रम की दिक्कत से गुजर रही है। विराट कोहली आउट ऑफ फॉर्म हैं और उन्हें कई दिग्गज रवि शास्त्री) उन्हें ब्रेक की भी सलाह दे रहे हैं। ऐसे में अगर इस दौरे के लिए विराट को आराम दिया जाता है तो पुजारा का खेलना उनकी जगह हम तय मान सकते हैं।

Spread the love
More from Sports NewsMore posts in Sports News »
%d bloggers like this: