Press "Enter" to skip to content

भीषण हादसा – पुल से नर्मदा नदी में यात्री बस गिरी, 12 की मौत

मृतकों के परिजनों को मिलेगी चार-चार लाख रुपये की राहत राशि – मुख्यमंत्री
दुर्घटना के संबंध में जानकारी हेतु हेल्पलाइन नंबर जारी
इन्दौर। सरवटे बस स्टैंड से रवाना होकर इंदौर-अमलनेर बस इंदौर से महाराष्ट्र की ओर जा रही थी कि समीपस्थ धार जिले के खलघाट पुल पर बड़ा हादसा हो गया है। यात्रियों से भरी यह महाराष्ट्र राज्य परिवहन की बस नर्मदा नदी में गिर गई है। हादसा सुबह पौने 10 बजे का बताया जा रहा है। बस में महिलाओं और बच्चों समेत करीब पैंतीस से ज्यादा लोग सवार थे। अब तक 12 लोगों के शव नदी से निकाले जा चुके हैं। बस को क्रेन के जरिए निकाला जा चुका है। बताया जा रहा है कि हादसा रॉग साइड से आ रहे एक वाहन को बचाने के दौरान हुआ। बस पुल की रेलिंग तोड़ते हुए सीधे 25 फीट नीचे नदी में जा गिरी। जानकारी के अनुसार इंदौर से महाराष्ट्र की ओर जा रही यात्री बस खलघाट संजय सेतु पुल पर संतुलन बिगड़ने के कारण 25 फीट नीचे नदी में जा गिरी। मौके पर धामनोद पुलिस एवं खलटाका पुलिस ने मोर्चा संभाल बचाव के लिए गोताखोर लगाए। एनडीआरएफ की टीम भी राहत बचाव के लिए मौके पर पहुंच गई। इंदौर कमिश्नर पवन कुमार शर्मा ने धार और खरगोन के कलेक्टर्स को घटनास्थल पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं। हादसा आगरा-मुंबई (एबी रोड) हाईवे पर हुआ। यह रोड इंदौर से महाराष्ट्र को जोड़ता है। घटनास्थल इंदौर से 80 किलोमीटर दूर है। जिस संजय सेतु पुल से बस गिरी, वह दो जिलों धार और खरगोन की सीमा पर बना है। आधा हिस्सा खलघाट (धार) और आधा हिस्सा खलटाका (खरगोन) में है। खरगोन से भी कलेक्टर और एसपी मौके पर पहुंचे हैं। 13 लोगों के शव अब तक निकाले जा चुके हैं, जबकि अन्य यात्रियों की खोज की जा रही है। बस में सवार 15 यात्री बचा लिए गए, जबकि कुछ यात्रियों के नदी में बहने की भी आशंका है।
घटना के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बस दुर्घटना का संज्ञान लिया और महाराष्ट्र के मुख्ममंत्री एकनाथ शिंदे से भी बात की है। बस के खाई में गिर जाने की सूचना मिलते ही प्रशासन को शीघ्र पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। बस को क्रेन की मदद से निकाल लिया गया है। मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ को भेजने के निर्देश दिए हैं, इसके अतिरिक्त आवश्यक संसाधन घटना स्थल पर भेजने और घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था के निर्देश दिए खरगोन, इंदौर जिला प्रशासन के साथ मुख्यमंत्री निरंतर संपर्क बनाए हुए हैं। मृतको के परिजनों को चार चार लाख रूपये राहत राशी देने के साथ मृतको के शवों क़ो ससम्मान महाराष्ट्र पहुचाने के भी इंतजाम किये जा रहे है। वहीं, पूर्व सीएम कमलनाथ ने धार जिले के खलघाट में हुए हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए। सरकार व प्रशासन से युद्ध स्तर पर बचाव कार्य करने की मांग की और लोगों को जल्द राहत पहुँचाने की बात कही है। नदी में गिरने वाली बस महाराष्ट्र राज्य परिवहन निगम की है, जिसे एसटी भी कहा जाता है। बस सुबह पुणे से इंदौर के लिए रवाना हुई थी। खलघाट में हादसे से पहले बस ने 10 मिनट का ब्रेक लिया था, जिसके बाद खलघाट से बस निकली और सुबह पौने 10 बजे नर्मदा में गिरी गई। बताया जा रहा है कि हादसा सामने से रॉन्ग साइड से आ रहे वाहन को बचाने के दौरान हुआ। एक्सीडेंट रोकने की कोशिश में बस चालक नियंत्रण खो बैठा और बस पुल की रैलिंग तोड़ती हुई नदी में जा गिरी। अब तक 12 शव नदी से निकाले जा चुके हैं। शेष की तलाश जारी है। बस में 50 से ज्यादा यात्रियों के सवार होने की बात कही जा रही है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पुल की रैलिंग तोडक़र गिरी बस पहले एक चट्टान से टकराई और उसके बाद औंधी होकर नदी में जा गिरी, जिससे बस में सवार यात्रियों को बचकर निकलने का मौका ही नहीं मिला।

मृतकों के परिजनों को मिलेगी चार-चार लाख रूपये की राहत राशि – मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा हृदय विदारक बस दुर्घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया गया है। उन्होंने मृतकों के परिवारजनों को मध्यप्रदेश शासन द्वारा चार-चार लाख रुपए की राहत राशि प्रदान की जाने की घोषणा की है।
दुर्घटना के संबंध में जानकारी हेतु हेल्पलाइन नंबर जारी
संभागायुक्त डॉ. शर्मा के निर्देशन में धार जिला प्रशासन द्वारा घटना के संबंध में सहायता एवं आवश्यक जानकारी के लिये हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किए गए हैं। हेल्पलाइन नंबर में एसडीएम नवजीवन विजय पवार 93293-01390, नायब तहसीलदार केश्या सोलंकी 70004-02972 तथा सीएचसी धामनोद 98265-52527 शामिल है। उक्त हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर आवश्यक जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
Spread the love
More from Indore NewsMore posts in Indore News »
%d bloggers like this: