Press "Enter" to skip to content

National News – गुलाम हुए आज़ाद – 50 साल पुराना नाता तोड़ आजाद ने छोड़ी कांग्रेस, किया नई पार्टी बनाने का ऐलान

आज़ाद के समर्थन में लगी इस्तीफों की झड़ी, 6 पूर्व एमएलए ने कांग्रेस छोड़ी 
– सोनिया गांधी को भेजा 5 पन्नों का इस्तीफा
– भारत जोड़ों की जगह कांग्रेस जोड़ो यात्रा निकाले
National News in Hindi। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। आजाद ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से लेकर सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। आजाद ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को 5 पन्नों का इस्तीफा भेजा है।
सोनिया को भेजे गए अपने इस्तीफे में गुलाम नबी आजाद ने लिखा, की “बड़े अफसोस और बेहद भावुक दिल के साथ मैंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से अपना आधा सदी पुराना नाता तोड़ने का फैसला किया है।;आजाद ने लिखा की आपको भारत जोड़ों यात्रा की जगह कांग्रेस जोड़ो यात्रा निकालनी चाहिए। उन्होंने अपने इस्तीफे में राहुल गांधी पर भी निशाना साधा।
लंबे वक्त से नाराज थे आजाद
गुलाम नबी आजाद लंबे वक्त से कांग्रेस से नाराज थे । वे कांग्रेस के नाराज नेताओं के जी-23 गुट में भी शामिल थे। जी-23 गुट कांग्रेस में लगातार कई बदलाव की मांग करता रहा है। इससे पहले कांग्रेस के एक और वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी से इस्तीफा देकर समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सदस्य बने है।
राहुल गांधी पर साधा निशाना
राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जब से राहुल गांधी की राजनीति में एंट्री हुई और जनवरी, 2013 में उनको पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया तब से उन्होंने पहले से स्थापित पुराने सलाहकार तंत्र को नष्ट कर दिया। राहुल ने सारे वरिष्ठ और अनुभवी लोगों को साइडलाइन कर दिया है।
वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने इस्तीफे में कांग्रेस आलाकमान पर हमला बोला है और जम्मू-कश्मीर में अपनी नई पार्टी बनाने का ऐलान किया है. अब आजाद के समर्थन में जम्मू-कश्मीर के कई बड़े नेता इस्तीफा दे रहे हैं. अब तक 6 पूर्व विधायकों ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. इन सभी नेताओं ने आजाद का खुलकर समर्थन किया है.
जिन 6 पूर्व विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया है, उनमें जीएम सरूरी, हाजी अब्दुल राशिद, मोहम्मद अमीन भट, गुलजार अहमद वानी, चौधरी मोहम्मद अकरम और आरएम चिब का नाम शामिल है. ये सभी नेता कांग्रेस से विधायक रहे हैं. बता दें कि आरएस चिब और जीएम सरूरी जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस सरकार के समय मंत्री भी रहे हैं.
Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »
%d bloggers like this: