Press "Enter" to skip to content

Crime News Indore – पोलो ग्राउंड क्षेत्र में हुए अंधे कत्ल का पर्दाफाश, पांच आरोपी पुलिस थाना बाणगंगा इंदौर की  गिरफ्त में।

 456 total views

  टेलीपर्फोमर कंपनी कर्मी आकाश मिडकिया की पत्नि ने अपने मित्र मैनेजर के साथ मिलकर रचा था हत्या का षडयंत्र

प्रेमी मैनेजर ( नर्सिंग हेड ) मनीष शर्मा ने कराई अपने बाउंसर व साथियों से आकाश मिडकिया की हत्या

हत्या के आरोपियों की पतारसी के लिये, पुलिस ने खंगाले 90 किलोमीटर रूट के करीब कई सीसीटीवी फुटेज तथा की गई 50 से अधिक लोगों से पूछताछ

सीसीटीवी फुटेज में आये मो.सा. के नंबर के आधार पर की आधा दर्जन मोटर साइकिलों की तस्दीक

पहचान छुपाने के लिए आरोपी ने करवा लिया था अपना मुंडन

इन्दौर – दिनांक 18 अक्टूबर 2021 – पुलिस थाना बाणगंगा क्षेत्रान्तर्गत दिनांक 13 अक्टूबर 2021 को सुबह करीब पौने आठ बजे मेला ग्राउंड विद्युत मंडल के सामने रोड पर दो अज्ञात मोटरसाइकिल सवार बदमाशों के द्वारा आकाश मिडकिया पिता यशवंत मिडकिया उम्र 29 साल निवासी वाल्मीकि नगर इंदौर की आंखों में मिर्ची झोंककर चाकुओं से गोदकर उसकी हत्या कर दी गई थी । उक्त घटना के संबंध में थाना बाणगंगा पर अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धारा 302 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया ।

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए अंधे कत्ल का पर्दाफाश कर अज्ञात आरोपियों की पतारसी कर गिरफ्तार करने के निर्देश पुलिस उप महानिरीक्षक इंदौर ( शहर ) श्री मनीष कपूरिया एवं पुलिस अधीक्षक इन्दौर ( पूर्व ) श्री आशुतोष बागरी के द्वारा दिये गए। पुलिस टीम का गठन कर समुचित दिशा निर्देश देकर कार्यवाही के लिए लगाया गया ।

उक्त निर्देशों के आधार पर पुलिस टीमों के द्वारा मृतक आकाश मिडकिया के घर वाल्मीकि नगर एवं घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज चेक किये गये। जिनमें मृतक के घर एवं घटना स्थल पर रेकी करते हुए हीरो डीलक्स मो.सा. पर पीली व काले रंग की शर्ट पहने हुए दो संदेही दिखाई दिये ।

उक्त दोनों सदेही पोलोग्राउंड विद्युत मण्डल के सामने आकाश मिडकिया की हत्या कर फरार हो गये । पुलिस के द्वारा संदेहियों की तलाश व पतारसी हेतु सीसीटीवी कैमरों को चेक करते करीबन 90 कि.मी. का रुट ट्रैक किया एवं ट्रैक पर करीबन 150 से अधिक सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखे एवं 50 से अधिक लोगों से प्रकरण में पूछताछ की गई ।

सीसीटीवी फुटेज में संदेही इंदौर से ग्रामीण क्षेत्र के रास्ते से चिंतामन जवासिया उज्जैन पहुचते दिखे । जिला उज्जैन के कण्ट्रोल रुम स्मार्ट सिटी के सीसीटीवी फुटेज में चेक करने मो सा का रजिस्ट्रेशन नंबर MP13 EU – 299 मिला ।

उक्त नंबर के रजिस्टर्ड पते के आधार पर उज्जैन जिले के आधा दर्जन गावों में जाकर सीडी डीलक्स मोटर साइकिलों की तस्दीक की गई । पुलिस टीम के द्वारा सीसीटीवी फुटेज , संदेही मनीष शर्मा से पूछताछ एवं आसूचना संकलन में आये साक्ष्यों के आधार पर आकाश मिडकिया के अंधे कत्ल के षड्यंत्र का पर्दाफाश कर षडयंत्र में शामिल पांचो आरोपीयों को गिरफ्तार किया ।

1. मनीष शर्मा पिता रामेश्वर लाल शर्मा उम्र 35 साल , नर्सिंग हेड ( मैनेजर ) अमलतास हॉस्पिटल , बांगर जिला देवास

2. जीतू उर्फ जितेन्द्र पिता लीलाधर वर्मा ( हाउसकीपिंग इंचार्ज ) उम्र 43 साल निवासी ग्राम जामगोद , जिला देवास

3. अर्जुन मंडलोई पिता मनोहर मण्डलोई उम्र 28 साल निवासी ग्राम अमल्या पिपलिया , जिला देवास ,

4. अंकित उर्फ बिट्टू पिता चंदर सिंह पंवार उम्र 23 साल निवासी हीरा मिल की चाल , कोयला फाटक , जिला उज्जैन

5. वर्तिका पति आकाश मिडकिया उम्र 29 साल निवासी वाल्मिकी नगर , जिला इन्दौर को पकड़ा गया। जांच में पाया गया कि आकाश मिडकिया व वर्तिका श्रीवास्तव दोनों उज्जैन में रहते थे एवं प्राइमरी स्कूल में दोनो साथ में पढ़ाई करते थे । आकाश व वर्तिका के द्वारा करीबन डेढ़ साल पहले प्रेम विवाह किया था ।

उज्जैन में आकाश के ऊपर कर्ज होने के कारण आकाश अपने परिवार के साथ इंदौर शिफ्ट हो गया था । आकाश विजयनगर की टेलीपफॉर्मर कंपनी में काम ( वर्क फ्रॉम होम ) करता था एवं मृतक की पत्नि वर्तिका अमलतास अस्पताल देवास में एचआर मैनेजर के पद पर काम करती थी। इसी अस्पताल के मैनेजर ( नर्सिंग हेड ) मनीष शर्मा से वर्तिका के अंतरंग संबंध होने की बात सामने आयी ।

दोनों के उक्त संबंधों की जानकारी वर्तिका के पति आकाश मिडकिया को मिलने पर आकाश के द्वारा वर्तिका से झगड़ा किया और आकाश के द्वारा देवास जाकर मनीष शर्मा को धमकी भी दी थी। इसी के चलते मनीष शर्मा और वर्तिका दोनों परेशान थे और आकाश को रास्ते से हटाने के लिये मनीष शर्मा के द्वारा अस्पताल में हाउसकीपिंग इंचार्ज जीतू वर्मा के साथ मिलकर आकाश की हत्या का षड्यंत्र रचा।

और हत्या की लिये मनीष के द्वारा अपने बाउंसर अर्जुन मंडलोई और उसके दोस्त अंकित उर्फ बिट्टू पंवार को तैयार कर हत्या की साजिश तैयार की । षडयंत्र के मुताबिक मनीष शर्मा हत्या के कुछ दिन पहले ही राजस्थान चला गया एवं आकाश मिडकिया की हत्या के लिये जीतू वर्मा के द्वारा अर्जुन मंडलोई और अंकित उर्फ बिट्ट को मोटरसाइकिल एवं मोबाइल फोन उपलब्ध कराया ।

आकाश मिडकिया रोजाना सुबह 07 बजे अपनी पत्नि वर्तिका को अस्पताल जाने के लिये एलआईजी चौराहे पर छोड़कर आता था । अर्जुन व अंकित के द्वारा वर्तिका के बताये अनुसार दो तीन बार आकाश व वर्तिका की एक्टिवा का पीछा कर घर एवं रुट देख कर हत्या का स्थान निश्चित किया । तय योजना अनुसार अर्जुन व अंकित दोनों मोटरसाईकिल से दिनांक 12.10.2021 को रात्री में 01.00 बजे इन्दौर पहुंचे एवं सुबह 06 बजे तक इन्दौर रेल्वे स्टेशन पर रुके रहे ।

घटना दिनांक 13.10.2021 को सुबह साढ़े छः बजे आकाश के घर के सामने गार्डन के पास जाकर खड़े हो गये । सुबह 07.00 बजे आकाश जब वर्तिका को छोड़ने एक्टिवा से निकला और जब वर्तिका को बस में बैठाकर वापस घर आ रहा था तब अर्जुन व अंकित के द्वारा घटना स्थल पोलो ग्राउंड विद्युत से मंडल के सामने आकाश मिडकिया को गाड़ा अडाकर रोका और आकाश की आँखों में लाल मिर्ची डालने के बाद चाकू मारने लगे ।

षड्यंत्र के मुताबिक आरोपियों के द्वारा पुलिस को गुमराह करने के लिये चाकू मारने के दौरान आकाश से कहा कि भैया के पैसे लौटा देना । आकाश की हत्या करने के बाद आरोपी पुलिस को गुमराह करने के लिए आधा इन्दौर ग्रामीण क्षेत्र के रास्ते से फरार हो गये थे ।

बाद में मोटरसाइकिल एवं मोबाईल फोन जीतू वर्मा को सुपुर्द किया एवं मनीष शर्मा को फोन पर आकाश की हत्या की पुष्टि की थी। आरोपी अर्जुन मंडलोई ने अपनी पहचान छिपाने के लिये अपनी सिर व दाढ़ी के बाल कटवा कर मुंडन करा लिया था ।

उक्त कार्यवाही में सीएसपी निहित उपाध्याय , निरीक्षक राजेन्द्र सोनी एवं उनकी टीम उनि स्वराज डाबी , उनि योगेश गरासिया , उनि आलोक मिठास , प्र.आर. शैलेन्द्र मीणा , प्राआर . राजीव यादव , आर . राजकुमार चौबे , आर. रविन्द्र रघुवंशी , आर.हीरामणि मिश्रा ,आर प्रदीप शर्मा , आर .राहुल यादव की उल्लेखनीय भूमिका रही एवं जिला देवास के बीएनपी थाना प्रभारी निरी , मुकेश इजारदार एवं सउनि मनोज पटेल के द्वारा महत्वपूर्ण सहयोग किया गया ।

Spread the love
More from Crime NewsMore posts in Crime News »