Press "Enter" to skip to content

Indore Crime News – सरेंडर पर सस्पेंस – गुंडे सतीश भाऊ-चिंटू ठाकुर का सरेंडर 

सस्पेंस यह की सरेंडर भोपाल,देवास,कनाडिया या विजयनगर थाने पर 

Indore Crime News. शराब कारोबारी अर्जुन ठाकुर गोलीकांड में फरार गैंगस्टर सतीश मराठा उर्फ भाऊ और चिंटू ठाकुर उर्फ जितेंद्र ने बुधवार तड़के नाटकीय अंदाज में सरेंडर कर दिया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने दावा किया कि आरोपी भोपाल बायपास से पकड़ाए हैं। फिलहाल, एक आरोपी हेमू ठाकुर फरार है। आरोपियों के पास से एक पिस्टल मिली है। बताया जा रहा है कि वारदात के बाद आरोपी हेमू ठाकुर लगातार गर्लफ्रेंड के संपर्क में था। उसने गर्लफ्रेंड से कहा था कि वह जल्द ही नेपाल चला जाएगा। दो-तीन महीने बाद ही लौटेगा। लोकेशन के आधार पर पुलिस ने दो को दबोच लिया लेकिन हेमू ठाकुर बचकर भाग गया।

आरोपियों ने बताई ये घटना
सोमवार सुबह गांधीनगर नवदापंथ शराब दुकान को लेकर पिंटू ठाकुर और अर्जुन ठाकुर के बीच कहासुनी हुई। विवाद को खत्म करने के लिए विजय नगर थाना क्षेत्र स्थित सिंडिकेट ऑफिस पर अर्जुन को बुलाया गया। अर्जुन अपने समर्थकों के साथ ऑफिस पहुंचा। यहां 3:15 बजे करीब पिंटू ठाकुर, हेमू ठाकुर और उसके साथ गैंगस्टर सतीश भाऊ, शूटर रितेश, शूटर मोनू और शूटर दयाराम भी पहुंचे थे।

अर्जुन और हेमू ठाकुर बात ही कर रहे थे कि बहस शुरू हो गई। इसके बाद केबिन के अंदर से दयाराम द्वारा एक फायर छत पर किया गया, जो गोली जाकर अर्जुन ठाकुर की पीठ में लगी। वहीं, एक अन्य आरोपी ने देशी कट्टे से फायर किया, जिसके छर्रे जमीन पर लगते हुए अर्जुन के पेट में जा लगे। इसके बाद बाहर खड़ी कार में आरोपी फरार हो गए।

गर्लफ्रेंड को कहा था- नेपाल जाना है
पुलिस ने आरोपी के मोबाइल सर्विलांस पर डाल रखे थे। हेमू ठाकुर अपनी गर्लफ्रेंड से लगातार बातें कर रहा था। उसने बताया था कि वह जल्द नेपाल निकल जाएगा। दो से तीन महीने बाद फिर लौटेगा। इसके बाद पुलिस द्वारा आरोपियों के परिवार की महिलाएं और रिश्तेदारों को पुलिस पूछताछ के लिए थाने ले आई थी। आरोपियों पर लगातार दबाव बनता रहा। बुधवार सुबह पुलिस ने आरोपियों को भोपाल बायपास से पकड़ा। पुलिस की मानें तो गैंगस्टर सतीश भाऊ हमेशा कैमरे की नजर में ही रहता है, वह जिस जगह फरारी काटता था, वहां आईपी कैमरा लगा था।

बताई जा रही अंदर की कहानी यह है –
विजय नगर पुलिस कह रही है कि दोनों आरोपियों को भोपाल बाईपास से पकड़ा है। ये नेपाल जाने की फिराक में भाग रहे थे, लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि जैसे ही दोनों अपराधियों को पता चला कि उनकी संपत्ति तोड़ी जाएगी तो वे पेश होने के लिए छटपटाने लगे। पुलिस ने उनके रिश्तेदारों और एक आरोपी की महिला मित्र को थाने में बैठाकर दबाव भी बनाया था। इसके बाद दोनों आरोपियों की पहले योजना थी कि कनाड़िया थाने में हथियार के साथ पेश हो जाएं, लेकिन फिर एकाएक योजना को बदलते हुए विजय नगर पुलिस के सामने सरेंडर हुए। पुलिस जल्द ही तीसरे आरोपी हेमू ठाकुर को भी गिरफ्तार करने की बात कह रही है। उसकी तलाश में भी एक टीम भेजी गई हैं, लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि जल्द ही हेमू ठाकुर भी पेश होने वाला है। सूत्रों के अनुसार आरोपी घटना वाले दिन ही देवास में सरेंडर हो चुके थे राजनीतिक सेटिंग के बाद इनको इंदौर में पेश करने की कहानी भी सामने आ रही है |

पुलिस को अभी घटना में फरार हेमू उर्फ हेमंत ठाकुर, रितेश उर्फ अंकित उर्फ लक्की और मोनू पांचाल की तलाश है।
Spread the love
More from Crime NewsMore posts in Crime News »
%d bloggers like this: