Press "Enter" to skip to content

मध्यप्रदेश की मुख्य ख़बरें – MP Top News

MP News in Hindi-1

बालाघाट : जंगल में पुलिस से हुआ सामना, घेराबंदी देख नक्सलियों ने कर दी फायरिंग

 
बालाघाट जिले के लांजी थाना क्षेत्र के केराडीह के जंगल में शुक्रवार को पुलिस का नक्सलियों से सामना हो गया। दोपहर करीब साढ़े तीन बजे चार हथियारबंद नक्सलियों के दिखने के बाद पुलिस ने घेराबंदी करने का प्रयास किया।

जैसे ही नक्सलियों ने खुद को घिरते देखा तो फायरिंग कर दी। इसके बाद नक्सली भागने लगे। हाक फोर्स के जवानों ने भी नक्सलियों पर चार राउंड फायर किए। हालांकि टांडा नदी के किनारे से नक्सली भाग खड़े हुए।

एसपी समीर सौरभ ने बताया कि सायर व टेमनी गांव के पास नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। पुलिस के दो दल सर्चिंग के लिए निकले। टेमनी के पुलिस दल को केराडीह के जंगल में नक्सलियों का सामना हो गया।

नक्सलियों ने एक राउंड फायर किया तो हाक फोर्स के जवानों ने भी जवाबी फायरिंग कर चार राउंड चलाए। सतर्कता बरतते हुए छत्तीसगढ़ की राजनांदगांव पुलिस को भी सूचना दी गई है।

MP News in Hindi-2

भोपाल : नेशनल फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी यूनिवर्सिटी के चार कोर्स इसी सत्र से होंगे शुरू

भोपाल। नेशनल फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी यूनिवर्सिटी के चार कोर्स इसी सत्र से शुरू होंगे। एनएफएसयू का भवन बनने के बाद सभी 20 कोर्स शुरू होंगे।

मध्य प्रदेश सरकार ने नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी को गांधी नगर के बरखेड़ा बोंदेर में 15 एकड़ जमीन नि:शुल्क आवंटित की है। इस जमीन पर एनएफएसयू द्वारा सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी का भवन बनने तक चार कोर्सेस शुरू किए जाएंगे। ये कोर्सेस अगस्त 2022 शैक्षणिक सत्र से शुरू होगे।

इन चार कोर्सेस में
1. MSc in forensic sciences (2 yrs) के कोर्स में 30 सीट होंगी।  इसके एक सेमेस्टर की फीस करीब 50 हजार रुपये होगी।
2. PG Diploma in Finger Print Science (1 yr) का कोर्स होगा। इसमें 20 सीट होगी।
3. PG Diploma in Forensic Document Examination. (1 yr) का कोर्स होगा। इसमें 20 सीट होगी।
4. PG diploma in DNA forensic (1 yr) के कोर्स में भी 20 सीट होगी। डिप्लोमा कोर्स के प्रति सेमेस्टर की फीस 20 हजार रुपये होगी। NFSU का भोपाल में आवंटित भूमि पर नया भवन बन जाने पर 20 से अधिक फॉरेंसिक साइंस के डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेज शुरू किए जाएंगे।

MP News in Hindi-3

पीएससी परीक्षा में शामिल होने के लिए शासकीय कर्मचारियों को चुनाव ड्यूटी से मुक्त करें – हाईकोर्ट  

मप्र। चुनाव ड्यूटी के कारण पीएससी परीक्षा में शामिल नहीं होने पाने को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी। याचिका में कहा गया था कि यह उनके मौलिक अधिकारों को हनन है। हाईकोर्ट जस्टिस विशाल घगट ने याचिका का निराकरण करते हुए अपने आदेश में कहा है कि पीएससी परीक्षा में शामिल होने के लिए शासकीय कर्मचारियों को चुनाव ड्यूटी से मुक्त किया जाए। विशेष परिस्थितियों में उन्हें अवकाश भी प्रदान किया जाए।

याचिकाकर्ता यश निगम व मोहम्मद जाकिर रंगरेजी की तरफ से दायर की गई याचिका में कहा गया था कि प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी गई है। प्रथम चरण में 6 जुलाई तथा दूसरे चरण में 13 जुलाई को मतदान होने है। उनकी चुनाव ड्यूटी लगी हुई है, जिसके कारण वे मुख्यालय छोड़कर नहीं जा सकते। पीएससी एग्जाम के लिए उन्होंने फॉर्म भरा है  और परीक्षा की तिथि 3 जुलाई निर्धारित है। परीक्षा में शामिल होने के लिए उन्होंने अनुमति मांगी थी, परंतु चुनाव ड्यूटी के कारण स्वीकृत नहीं हुई।

याचिका में कहा गया था कि चुनाव ड्यूटी के कारण वे परीक्षा में शामिल होने से वंचित हो जाएंगे। जो उनके मौलिक अधिकारों का हनन है। युगलपीठ ने अपने आदेश में कहा है कि 3 जुलाई को मतदान नहीं है। युगलपीठ ने चुनाव आयुक्त व कलेक्टर मंदसौर व दमोह को निर्देशित किया है कि वे 2 व 3 जुलाई को याचिकाकर्ताओं को चुनाव ड्यूटी से मुक्त करने पर विचार करें। ताकि वे परीक्षा में शामिल होकर वापस मुख्यालय लौट आएं। एकलपीठ ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि विशेष परिस्थितियों में अवकाश प्रदान करने पर भी विचार करें। याचिकाकर्ता की तरफ से अधिवक्ता आदित्य संधी ने पैरवी की।

MP News in Hindi-4

सागर : नदी उफान पर आने से तीन लोग टापू पर फंसे, घंटों मशक्कत के बाद एसडीआरएफ की टीम ने 12 बकरियों सहित उन्हें बचाया

सागर। धसान नदी उफान पर आने से तीन लोग टापू पर फंस गए। करीब 14 घंटे की मशक्कत के बाद एसडीआरएफ की टीम ने उन्हें बचाया। तीनों लोग बकरियां चराने गए थे, उनके साथ 12 बकरियों का भी रेस्क्यू किया गया।

जानकारी के अनुसार गुरुवार सागर के आसपास तेज बारिश से नदियां उफान पर आ गई थीं। शाहगढ़ इलाके से निकली धसान नदी भी उफान पर है। बताया जा रहा है कि गुरुवार को परसुआ गांव के प्रकाश रजक, रवि आदिवासी और मनोहर रजक बकरी चराने के लिए नदी के पार गए हुए थे। दोपहर में देखते ही देखते नदी का जलस्तर बढ़ने लगा। तीनों लोग नदी पार करने लगे, पर पानी इतनी तेजी से बढ़ा कि वे एक टापूनुमा जगह पर फंस गए।

गुरुवार शाम को इसकी सूचना ग्रामीणों ने पुलिस कंट्रोल रूम को दी। एसडीआरएफ की टीम रात में पहुंची, लेकिन अंधेरा होने से रेस्क्यू नहीं किया जा सका। शुक्रवार सुबह करीब 5 बजे से फिर रेस्क्यू शुरू किया गया और फिर जल्द ही तीनों लोगों को बकरियों सहित सुरक्षित निकाल लिया गया। करीब 14 घंटे के बाद एसडीआरएफ की टीम के द्वारा इनका रेस्क्यू किया गया। इनके साथ ही 12 बकरियों को भी बचाकर लाया गया।

Spread the love
More from Madhya Pradesh NewsMore posts in Madhya Pradesh News »
%d bloggers like this: