Press "Enter" to skip to content

MP News – प्रदेश के हर जिले में हवाई पट्टी बनाई जाएगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

प्रधानमंत्री का छोटे शहरों को हवाई सुविधा से जोड़ने का सपना होगा साकार

*जबलपुर एयरपोर्ट का नाम रानी दुर्गावती पर रखने का अनुरोध

*जबलपुर हवाई अड्डे के विस्तार के लिए 730 एकड़ भूमि हस्तांतरित : केन्द्र ने 421 करोड़ की योजना को दी स्वीकृति

*इंदौर को अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों से जोड़ने की आवश्यकता

*मुख्यमंत्री ने जबलपुर से दिल्ली, इंदौर और मुम्बई के लिए नई उड़ानों का किया शुभारंभ

MP News: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के छोटे शहरों को हवाई सुविधा से जोड़ने का सपना पूरा करने के लिए प्रदेश के हर जिले में हवाई पट्टी बनायी जाएगी। साथ ही जिलों को उड़ान से जोड़ने के लिए आवश्यक व्यवस्थाएँ की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने आज जबलपुर से दिल्ली, इन्दौर और मुम्बई के लिए इंडिगो की नई उड़ानों का केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ वीडियो कान्फ्रेंस के द्वारा शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने जबलपुर एयरपोर्ट का नाम रानी दुर्गावती के नाम पर रखने का अनुरोध भी केन्द्रीय मंत्री सिंधिया से किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर को अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों से जोड़ने की आवश्यकता है। इंदौर देश का स्वच्छतम शहर और पहला वाटर प्लस शहर है। यह मध्यप्रदेश ही नहीं मध्य भारत का भी महत्वपूर्ण शहर है। इंदौर में देश का ग्रोथ इंजन बनने की क्षमता है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रधानमंत्री का संकल्प है कि हवाई चप्पल पहनने वाला नागरिक भी हवाई यात्रा कर सके। केंद्रीय मंत्री सिंधिया इस उद्देश्य को पूर्ण करने में पूरे समर्पण और गतिशीलता से लगे हैं। सिंधिया ने जब कार्यभार ग्रहण किया तब मध्यप्रदेश के विभिन्न स्थानों से प्रति सप्ताह 424 उड़ाने संचालित हो रही थी, जो अब बढ़कर प्रति सप्ताह 588 हो गई हो गई हैं।

मुख्यमंत्री ने छोटे शहरों में हवाई सेवा शुरू करने में मध्यप्रदेश को विशेष सहयोग देने की सिंधिया से अपील की। उन्होंने कहा कि जबलपुर पर्यटन, संस्कृति और ऐतिहासिक दृष्टि के साथ औद्योगिक और वाणिज्यिक क्षेत्रों में भी बहुत समृद्ध है। उन्होंने कहा कि जबलपुर में एयर कनेक्टिविटी बढ़ने से क्षेत्र का औद्योगिक व आर्थिक विकास होगा और पर्यटकों को भी सुविधा मिलेगी। जबलपुर के हवाई अड्डे के विस्तार के लिए राज्य शासन ने 730 एकड़ से अधिक भूमि हस्तांतरित की है।

2025 तक एक हजार एयर रूट और 100 हवाई अड्डे स्थापित करने का लक्ष्य

मंत्री सिंधिया ने कहा की जबलपुर में हवाई अड्डे के विस्तार के लिए 421 करोड रुपए की योजना स्वीकृत की गई है। टर्मिनल बिल्डिंग निर्माण एटीसी टावर और रनवे की लंबाई बढ़ाने का कार्य दिसंबर 2022 तक पूर्ण हो जाएगा। उड़ान योजना में 2025 तक 1000 एयर रूट प्रचलित करने और एक सौ हवाई अड्डे स्थापित करने की योजना है। जिनमें से 363 रूट और 59 हवाई अड्डे स्थापित किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि इंदौर में एयरपोर्ट विस्तारीकरण के लिए 2300 एकड़ भूमि की आवश्यकता है।

Spread the love
More from Madhya Pradesh NewsMore posts in Madhya Pradesh News »
%d bloggers like this: