Press "Enter" to skip to content

इंदौर में होगा प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन, जुटेंगे पूरी दुनिया के एनआरआई

साल 2023 में होने वाला प्रवासी भारतीय दिवस मध्य प्रदेश के इंदौर में मनाया जाएगा। सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया था और इसकी स्वीकृति भी मिल गई है।

चौहान ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया था कि इस बार 9 जनवरी 2023 को मध्य प्रदेश के इंदौर में प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाए, जिसमें पूरे दुनिया भर से एनआरआई आते हैं।

प्रवासी भारतीय दिवस के लिए इंदौर उपयुक्त स्थान है। यहां एयर कनेक्टिवी भी सबसे ज्यादा है। इस संबंध में हमें स्वीकृति भी मिल चुकी है। उन्होंने बताया कि 4-5-6 नवंबर 2022 को इंदौर में होने वाली इन्वेस्टर्स समिट अब 7 और 8 जनवरी 2023 को होगी और 9-10 जनवरी को इंदौर में प्रवासी भारतीय दिवस होगा।

इंदौर में ही मध्यप्रदेश द्वारा तैयार की गई स्टार्ट-अप पॉलिसी का लोकार्पण होगा, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी वर्चुअली उपस्थित होंगे।

महाकाल कॉरिडोर पर शिवराज का बड़ा प्लान
शिवराज ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी से उज्जैन आकर महाकाल कॉरिडोर विस्तारीकरण योजना के लोकार्पण का भी अनुरोध किया गया है। कॉरिडोर से संबंधित सभी कार्य मई माह तक पूरे कर लिए जाएंगे।

उज्जैन में यह अवसर जन-उत्सव की तरह होगा। घर-घर जय घोष होगा। स्थानीय नागरिक भी कार्यक्रम में भागीदारी करेंगे। उन्होंने उज्जैन में स्थानीय मंत्री और प्रभारी मंत्री को कार्यों की समय पर पूर्णता के लिए अवलोकन करने के निर्देश भी दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि मध्यप्रदेश में स्टार्ट-अप पॉलिसी बना ली गई है। इसका विधिवत शुभारंभ इंदौर में प्रस्तावित है।

लालघाटी में स्थापित होगी भगवान परशुराम की प्रतिमा
मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागों को निर्देश दिए हैं कि इंदौर में कार्यरत विभिन्न स्टार्ट-अप को जोड़कर कार्यक्रम को व्यापक पैमाने पर किया जाए। इंजीनियरिंग महाविद्यालय के विद्यार्थियों को भी हिस्सेदारी के लिए प्रेरित करें।

मई माह में इस कार्यक्रम की तिथि निर्धारित की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा आगामी 3 मई को भगवान परशुराम जयंती पर कार्यक्रम हो रहे हैं।

भोपाल में लालघाटी में गुफा मंदिर परिसर में भगवान परशुराम की प्रतिमा की प्राण-प्रतिष्ठा के कार्यक्रम का आयोजन होगा, जिसमें स्वामी अवधेशानंद जी भी पधार रहे हैं।

Spread the love
%d bloggers like this: