Press "Enter" to skip to content

अच्छी खबर : आलोचना के बाद रेलवे ने बदला फैसला – अब ट्रेनों में चाय पर नहीं लगेगा 50 रुपये का सर्विस चार्ज

देश। अब ट्रेनों में यात्रियों को अपनी टिकट के अलावा चाय पर लगने वाला 50 रुपए का सर्विस चार्ज नहीं देना होगा. आपको बता दें कि राजधानी एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस, वंदे भारत और तेजस एक्सप्रेस जैसी प्रीमियम ट्रेनों में अब 20 रुपये की चाय 70 रुपये में नहीं मिलेगी. यानी 50 रुपए का सर्विस चार्ज नहीं लगेगा.

लोग दे रहे थे सर्विस चार्ज
मालूम हो कि इन ट्रेनों में यात्रियों को खाने पीने का सामान टिकट बुक कराते समय ही खरीदना पड़ता है. जो यात्री ऐसा नहीं करते हैं. ट्रेन में खाने पीने का सामान खरीदते हैं, उन्हें हर सामान पर 50 रुपये का सर्विस चार्ज देना पड़ता था. ऐसे में 20 रुपये की चाय 70 रुपये में मिलती थी.

अब रेलवे ने सर्विस चार्ज खत्म कर दिया है. सिर्फ चाय को छोड़कर अन्य सामानों के दाम 50 रुपए बढ़ा दिए गए हैं. हाल ही में ऐसे बिल वायरल हुए थे, जिनमें 20 रुपये की चाय पर 50 रुपये सर्विस चार्ज जोड़ा गया था. इसके बाद रेलवे की जमकर आलोचना हुई थी.

रेलवे का आदेश
रेल मंत्रालय ने एक नया आदेश जारी कर दिया है. नए नियम के मुताबिक प्रीमियम ट्रेनों में पहले से भोजन बुक नहीं कराने वालों से अब किसी भी तरह का सर्विस चार्ज नहीं लगेगा.

इससे पहले रेलवे खाने-पीने के सामानों पर अलग से 50 रुपये का सर्विस चार्ज लेता था, अब चाय को छोड़कर अन्य सामानों के दाम में उसे जोड़ दिया है. उन सामानों के दाम 50 रुपये बढ़ गए हैं.

चाय का बिल वायरल
आपको बता दें कि भारतीय रेलवे को सोशल मीडिया पर एक बिल वायरल होने के बाद यह फैसला लेना पड़ा है. यह मामला बीते 28 जून का है.

उस दिन नई दिल्ली और भोपाल के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में सफर करने वाले किसी यात्री से चाय के लिए 70 रुपये चार्ज लिया था. उसके कैशमेमो को सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया था.

उस कैश मेमो में चाय की कीमत 20 रुपये दर्शायी गयी थी जबकि सर्विस चार्ज के रूप में 50 रुपये इस घटना पर रेलवे की खूब आलोचना हुई.

रेलवे ने दी सफाई
रेलवे सूत्रों के अनुसार उस बिल पर अधिकारियों ने कहा था कि जो बिल सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है, उसमें कोई गलती या ओवरचार्जिंग नहीं है.

उनका कहना है कि जून 2018 में ही रेलवे बोर्ड के टूरिज्म एंड कैटरिंग डाइरेक्टरेट ने इसके लिए एक पत्र निकाल दिया है.

इसमें कहा कि यदि कोई व्यक्ति राजधानी या शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेन में पहले से भोजन बुक नहीं कराता है और वह यात्रा के दौरान मील या टी आदि की डिमांड करता है तो उसे इसकी सप्लाई की जाएगी. हर मील पर यात्री को 50 रुपये सर्विस चार्ज के रूप में अतिरिक्त चुकाने होंगे.

अब बदल दिया गया नियम
आपको बता दे कि अब उस नियम को रेलवे बोर्ड ने बदल दिया है. रेलवे बोर्ड टूरिज्म एंड कैटरिंग डाइरेक्टरेट से जारी आदेश में कहा अब राजधानी, शताब्दी, दूरंतो, वंदे भारत, तेजस एक्सप्रेस जैसी प्रीमियम ट्रेनों में सर्विस चार्ज नहीं लिया जाएगा.

जिन यात्रियों से सर्विस चार्ज वसूला जाता था, उनके लिए चाय को छोड़कर अन्य सामानों के दाम बढ़ा दिए हैं. अब उन सामानों के दाम में ही सर्विस चार्ज जोड़ दिया है.

मतलब कि चाय तो अब 20 रुपये में मिल जाएगी. लेकिन, जो ब्रेकफास्ट पहले 105 रुपये में मिलता था वह अब 155 रुपये में मिलेगा. जो लंच या डिनर पहले 185 रुपये में मिलता था उसकी कीमत 235 रुपये कर दी गई है.

Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »
%d bloggers like this: