Press "Enter" to skip to content

Indore News: दर्दनाक: 3 साल के मासूम की चुंबक निगलने से मौत

परिजन ने किया हंगामा, बोले- एनेस्थीसिया के ओवरडोज और देखभाल में लापरवाही से गई इकलौते बेटे की जान

Indore News: इंदौर में 3 साल के बच्चे ने खेल-खेल में चुंबक निगल लिया। उसे सोमवार सुबह 8 बजे एंडोस्कोपी के लिए गुमास्ता नगर स्थित अरिहंत अस्पताल लाया गया। एंडोस्कोपी के बाद बच्चे की मौत हो गई। परिजन ने एनेस्थीसिया (बेहोशी की दवा) के ओवरडोज और देखभाल में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया।
हंसते हुए ऑपरेशन थिएटर में गया था मासूम
परिवार वालों का कहना है, बेटा कबीर तिवारी हंसते हुए ऑपरेशन थिएटर में गया था। एंडोस्कोपी कर चुंबक तो निकाल लिया गया, लेकिन अस्पताल की लापरवाही से उनके घर का इकलौता चिराग बुझ गया। बच्चे के परिवार ने चंदननगर थाने में अस्पताल के खिलाफ शिकायत की है। शिकायत के बाद पुलिस अस्पताल पहुंची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया। कबीर के पिता सुनील तिवारी ने बताया, 29 जुलाई को बेटे ने चुंबक निगल लिया था। इसके बाद परिजन उसे लेकर तत्काल अरिहंत हॉस्पिटल पहुंचे। डॉक्टरों ने बताया, चुंबक बच्चे के गले में फंसा हुआ है। उस दिन बच्चे को सर्दी होने से डॉक्टरों ने एंडोस्कोपी नहीं की। उन्होंने 9 अगस्त को एंडोस्कोपी से चुंबक निकालने का निर्णय किया था।
डॉक्टर नहीं बता पाए मौत का कारण
माता-पिता ने सोमवार को ऑपरेशन थिएटर में जाने से पहले बच्चे को दुलारा। उस  समयl वह हंस रहा था। उसकी एंडोस्कोपी सुबह 8 बजे शुरू हुई, जो करीब 1 घंटे तक चली। डॉक्टरों ने चुंबक निकालकर बच्चे को एनआईसीयू में शिफ्ट कर दिया। डॉक्टरों ने कहा कि बच्चे को होश में आने में पौन घंटा लगेगा। वे कुछ देर बाद बाहर आए और कहा कि होश आने में अभी तीन से चार घंटे और लगेंगे। इसके आधे घंटे बाद कबीर की मां नीतू ने छूकर देखा तो उसका शरीर ठंडा पड़ चुका था। इस पर उन्होंने तत्काल डॉक्टर से बात की। डॉक्टरों ने कहा कि अभी थोड़ा समय और लगेगा, लेकिन काफी देर बाद भी बच्चे को होश ही नहीं आया। इसके बाद डॉक्टर ने कहा, उसकी डेथ हो चुकी है। परिजनों ने मौत का कारण पूछा तो वे कोई जवाब नहीं दे पाए। केवल इतना कहा कि इस तरह का केस पहली बार सामने आया है। बच्चे के पिता सुनील तिवारी ने कहा कि डॉ. मयंक जैन और मैडम से बात की थी। वे मौत का कारण नहीं बता सके। मेरे बेटे की जान एनेस्थीसिया के ओवरडोज से गई है। डॉक्टर अपनी गलती नहीं मान रहे हैं। डॉक्टर कह रहे हैं कि बच्चे की हार्ट बीट अचानक रुक गई थी। वेंटिलेटर में रखा, लेकिन रिकवरी नहीं हुई।
बच्चे का सेचुरेशन पुअर होता गया
अरिहंत हॉस्पिटल के सुप्रिटेंडेंट डॉ. संजय राठौर ने बताया कि बच्चे का ऑपरेशन एक्सपर्ट डॉक्टरों की टीम ने किया है। बकायदा उसका प्री चेकअप हुआ। उसके बाद एडोस्कोपी से चुंबक निकाला गया। फिर उसे रिकवरी के लिए एनआईसीयू में शिफ्ट किया गया। वहा बच्चे का सेचुरेशन पुअर होता गया, लेकिन मौत का कारण हम भी नहीं समझ पा रहे है उसकी ऑटोप्सी भी कराई गई। अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही सही कारण नालूम पड़ेगा। बच्चे की मौत एनेस्थीसिया के ज्यादा डोज से नहीं हुई है। हमने इलाज के सारे दस्तावेज पुलिस को सौंप दिए है। बच्चे को एनेस्थीसिया देने वाली डॉ. सोनल निवस्कर व गेस्टो एंटालोजिस्ट डॉ. मयंक जैन अच्छे एक्सपर्ट है। पूरा इलाज मेडिकल प्रोटोकॉल के तहत ही किया है।
Spread the love
More from Indore NewsMore posts in Indore News »
%d bloggers like this: