Press "Enter" to skip to content

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय की सचिव सुश्री विनी महाजन और उनके दल ने हर घर नल से जल के कार्यों का मौका मुआयना किया 

 जल-जीवन मिशन के तहत जिले में चल रहे कार्यों पर संतुष्टि जाहिर करते हुये सराहना की 
इन्दौर  केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय की सचिव सुश्री विनी महाजन और उनके दल ने आज इन्दौर में जल जीवन मिशन के तहत चल रहे कार्यों का मौका मुआयना कर निरीक्षण किया।
इस दौरान उन्होंने जल-जीवन मिशन के कार्यों को देखा, ग्रामीणों से चर्चा की और योजनाओं के लाभ के बारे में बात की। सुश्री महाजन ने जल-जीवन मिशन के तहत इन्दौर जिले में चल रहे कार्यों की सराहना करते हुये संतुष्टि जाहिर की।
इस दौरान अपर मुख्य सचिव, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मलय श्रीवास्तव, कलेक्टर मनीष सिंह, डायरेक्टर नेशनल जल जीवन मिशन अमित शुक्ला, प्रमुख अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के.के. सोनगरिया, मुख्य अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग विजय सिंह सोलंकी, अधीक्षण यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग इन्दौर अजय श्रीवास्तव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत इन्दौर श्रीमती वंदना शर्मा, सुनील उदिया कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी इन्दौर तथा एसडीएम सांवेर रवीश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।
सुश्री महाजन ने अपने दल के साथ जल-जीवन मिशन के कार्यों के अवलोकन के लिये  इन्दौर जिले के सांवेर विकासखंड के  ग्राम चित्तौड़ा, ग्राम मगरखेड़ी एवं ग्राम बालरिया का भ्रमण किया।
इन सभी गांवों में शत-प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन के माध्यम से घर-घर जल प्रदाय किया जा रहा है। सचिव भारत शासन जल शक्ति मंत्रालय द्वारा ग्राम चित्तौड़ा की टंकी एवं संपवेल का निरीक्षण किया गया एवं टंकी प्रांगण में पौधारोपण किया गया।
सुश्री महाजन एवं अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग श्रीवास्तव ग्रामीण क्षेत्रों की जल प्रदाय योजनाओं का स्काडा सिस्टम देखकर बहुत प्रभावित हुए। सभी ने ग्राम चित्तौड़ा के घर-घर जाकर जल प्रदाय की स्थिति के बारे में जानकारी ली एवं स्वयं नल चला कर भी देखें।
ग्रामीणों ने चर्चा के दौरान बताया कि हमारे घर पर प्रतिदिन एक घंटा नल से जल आता हैं एवं पेयजल की कोई परेशानी नहीं है। पूर्व में हैंडपंप से दूर-दूर से पानी भरकर लाना पड़ता था लेकिन अब हर घर में नल से जल प्रदाय हो रहा है, जिससे समय की भी काफी बचत हो रही है।
सुश्री महाजन विशेषकर ग्रामीण महिलाओं से जल प्रदाय के विषय में चर्चा की। महिलाओं को संतुष्ट देखकर वे भी प्रसन्न हुई। ग्रामीणों से चर्चा के बाद सभी अधिकारी पंचायत भवन पहुंचें। ग्राम जल एवं स्वच्छता समिति के सदस्यों से चर्चा की।
साथ ही योजना के संचालन संधारण के बारे में भी चर्चा की। नल से जल की यह योजना ग्राम पंचायत को हैंड ओवर की जा चुकी है। गांव में जल-कर ग्राम पंचायत द्वारा सौ रुपये प्रति माह निर्धारित किया गया है।
यह जल-कर गांव के श्रीकृष्ण स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा  एकत्रित किया जा रहा है। गांव के स्कूल भवन की प्याऊ एवं पेयजल व्यवस्था का भी निरीक्षण किया गया।
इसके पश्चात अधिकारी मगर खेड़ी ग्राम में पहुंचे। इस गांव में भी शत-प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन के माध्यम से जल प्रदाय किया जा रहा है। यहां पर 157 नल कनेक्शन है जो सभी चालू है।
Spread the love
%d bloggers like this: