Press "Enter" to skip to content

नोटबंदी पर सुप्रीम मुहर, बीजेपी ने बताया ऐतिहासिक फैसला, कांग्रेस बोली अर्थव्यवस्था पर जख्म याद रहेगा

नई दिल्ली।  केंद्र की मोदी सरकार द्वारा वर्ष 2016 में की गई नोटबंदी को लेकर उठे सवालों पर सुप्रीम फैसला आ गया है। सुप्रीम कोर्ट ने 2016 में 1000 रुपये और 500 रुपये के नोटों को अमान्य करने के सरकार के फैसले को सही ठहराया है। कोर्ट ने इसी के साथ नोटबंदी के खिलाफ दायर 58 याचिकाओं को खारिज कर दिया।
नोटबंदी के खिलाफ 3 दर्जन से ज्यादा याचिकाओं की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि इसकी प्रक्रिया में कुछ भी गलत नहीं पाया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरबीआई के पास विमुद्रीकरण लाने की कोई स्वतंत्र शक्ति नहीं है और केंद्र और आरबीआई के बीच परामर्श के बाद ही निर्णय लिया गया।
न्यायमूर्ति एस ए नजीर की अध्यक्षता वाली पांच-जजों की संविधान पीठ ने इस मामले पर अपना फैसला सुनाया।शीर्ष अदालत का यह फैसला न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना द्वारा सुनाया गया। न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना ने इसमें असहमति जताई। पीठ में जस्टिस गवई और नागरत्न के अलावा जस्टिस नजीर ए एस बोपन्ना और वी रामासुब्रमण्यन थे।
नोटबंदी को गलत और त्रुटिपूर्ण बताते हुए कांग्रेस नेता और वरिष्ठ अधिवक्ता पी चिदंबरम ने तर्क दिया था कि सरकार कानूनी निविदा से संबंधित किसी भी प्रस्ताव को अपने दम पर शुरू नहीं कर सकती है जो केवल आरबीआई के केंद्रीय बोर्ड की सिफारिश पर किया जा सकता है। बता दें कि नोटबंदी के विरोध में कोर्ट 58 याचिकाओं पर फैसला सुनाएगा।
बता दें कि शीर्ष अदालत ने पिछले साल 7 दिसंबर को सरकार और याचिकाकर्ताओं की दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।
इससे पहले कोर्ट ने केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को निर्देश दिया था कि वे सरकार के 2016 के फैसले से संबंधित रिकॉर्ड दें। मामले में अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणि आरबीआई के वकील और याचिकाकर्ताओं के वकीलों वरिष्ठ अधिवक्ता पी चिदंबरम और श्याम दीवान की दलीलें सुनी गई थी।
कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले में नोटबंदी की प्रक्रिया को सही ठहराया गया है। इसके जो नतीजे निकले उस पर कोई चर्चा नहीं हुई है और न ही कोई निर्णय दिया है।
सुप्रीम कोर्ट ने इस पर भी कोई टिप्पणी नहीं की कि नोटबंदी से आतंकवाद कम हुआ काला धन कम हुआ इन सब चीजों पर एक शब्द भी इस निर्णय में नहीं है। कांग्रेस प्रवक्ता ने साफ तौर पर कह दिया कि यह कह देना कि सर्वोच्च न्यायालय ने नोटबंदी को सही ठहराया है यह गलत होगा। उन्होंने साफ किया कि नोटबंदी की प्रक्रिया को सही ठहराया गया है। फैसले पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है।
वहीं कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने ट्वीट कर कहा मोदी सरकार द्वारा लागू नोटबंदी के परिणाम- 120 लोगों की जानें गई करोड़ों लोगों का रोज़गार छीना असंगठित क्षेत्र तबाह हुआ काला धन नहीं कम हुआ – नक़ली नोट बढ़े। उन्होंने आगे कहा कि मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी का निर्णय भारतीय अर्थव्यवस्था पर एक गहरे ज़ख़्म की तरह हमेशा रहेगा।
दूसरी ओर भाजपा ने नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ऐतिहासिक करार दिया और कांग्रेस नेता राहुल गांधी से सवाल किया कि क्या नोटबंदी के खिलाफ अभियान चलाने के लिए वह देश से माफी मांगेंगे।
Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »