Press "Enter" to skip to content

Crime News – नशे की जकड़ में इंदौर का युवा : देर रात पब में नशे की हालत में मिले 400 से ज्यादा कपल्स, पुलिस देख मची भगदड़

Indore News in Hindi। शहर में युवाओं पर नशा किस तरह हावी हो गया है, इसका ताजा उदाहरण रविवार देर रात देखने को मिला। जोन-2 के प्रभारी डीसीपी और एडिशनल डीसीपी टीम के साथ विजय नगर थाना क्षेत्र के पबों की तलाशी करने पहुंचे तो पता चला एक पब के बाहर बड़ी संख्या में वाहन खड़े हैं। पब का शटर बंद होने पर टीम को शंका हुई। साउंउ सिस्टम की आवाज आना और शटर के निचले हिस्से से लाइट जलता देख अफसरों ने संदेह के चलते जांच करवाई। तब पता चला, पब में अवैध तरीके से 400 से अधिक युवक-युवती नशे में हैं। तत्काल सभी को बाहर निकाला गया। पुलिस कार्रवाई के डर से पब संचालक भाग निकला। अन्य आरोपियों को टीम ने वहां से पकड़ा।

नियम विरुद्ध पब चलने पर अब अधिकारी बीट पुलिसकर्मी पर कार्रवाई की तैयारी में हैं। प्रभारी डीसीपी रजत सकलेचा ने बताया, रविवार रात करीब 12 बजे विजय नगर क्षेत्र के 20 से अधिक पब की रियलिटी चेक करने पहुंचे। कई लोकेशन पर गए तो पब समयनुसार बंद मिले। पीयू थ्री बिल्डिंग के बेसमेंट में चल रहे पब को भी जांच में शामिल किया। रात 12.30 बजे पब के बाहर बड़ी संख्या में वाहन खड़े मिले पर उसका शटर बंद मिला। एडिशनल डीसीपी राजेश व्यास भी टीम के साथ मौके पर थे। शटर के पीछे से लाइट जलती दिखी। टीम को देख भगदड़ मच गई। पब में 400 से अधिक युवक-युवती नशा करते मिले। सभी को बाहर निकाला और घर जाने की हिदायत दी। मौके से पब संचालक पीयूष ठाकुर फरार हो गया। पुलिस ने पब संचालक व श्रवण पडागर निवासी बजरंग नगर, गोलू उर्फ कुलदीप ओझा निवासी कृष्णबाग कॉलोनी, अर्जुन अहिरवार निवासी अनिल नगर के खिलाफ के केस दर्ज किया है।

अफसरों ने जांच में पाया कि क्षेत्र में थोड़ी-थोड़ी दूर पर पब है। यदि एक पब बंद होता तो नशे के शौकिन दूसरे पब में चले जाते। जिस पब में युवक-युवती बड़ी संख्या में मिले, वह बेसमेंट में चल रहा है। वहां पैर रखने तक की जगह नहीं थी। सभी युवक-युवतियों को सीढ़ियों के रास्ते बाहर निकाला गया। टीम ने वहां से कोलाहल अधिनियम के तहत साउंड सिस्टम जब्त किए हैं।

बिल्डिंग के बेसमेंट में चल रहा था पब

एडिशनल डीसीपी व्यास ने बताया, पब बिल्डिंग के बेसमेंट में चल रहा था। यहां सुरक्षा साधन की कमी मिली। पब को जांच में शामिल कर उसके संबंध में बिजली विभाग, अग्नि सुरक्षा, नगर निगम और आबकारी विभाग से पत्र व्यवहार कर जानकारी मांगी गई है। पब के लाइसेंस का परीक्षण किया जाएगा। अनियमितता मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, पब जिन बीट पुलिसकर्मी के कार्यक्षेत्र के अंतर्गत आता है उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Spread the love
More from Crime NewsMore posts in Crime News »
%d bloggers like this: