Press "Enter" to skip to content

इंदौर : होटल 25 आवर्स की 60 हजार वर्गफीट में बनी बिल्डिंग  जमींदोज, रहवासियों ने किया सवाल – अन्य पर कब चलेगा बुलडोजर ? 

इंदौर. इंदौर के सर्वानंद नगर में 12 हजार वर्गफीट में निर्मित होटल 25 आवर्स को शुक्रवार को निगम के अमले ने जमींदोज कर दिया।

होटल 25 आवर्स के मालिक मनदीप भाटिया व नवदीप भाटिया ने अवैध निर्माण किया था, वहीं होटल में अवैध गतिविधियां होने की शिकायत भी कई बार दर्ज की गई थी।

शुक्रवार सुबह निगम के अमले ने बुलडोजर और मजदूरों की टीम के साथ मौके पर पहुंचकर अवैध कंस्ट्रक्शन रिमूवल की कार्रवाई शुरू की।

सर्वानंद नगर में 12 हजार वर्गफीट के प्लॉट पर अवैध रूप से जी प्लस-4 होटल बनी हुई थी। बता दें इस होटल में एक नाबालिग युवती के साथ रेप भी हुआ था।

कई नोटिस के बाद भी नहीं जागे अतिक्रमणकारी

होटल को लेकर निगम का अमला मनदीप भाटिया और नवदीप भाटिया को कई नोटिस जारी कर चुका था लेकिन अतिक्रमणकारियों ने दिए गए समय में अवैध निर्माण को नहीं हटाया, जिसके बाद निगम का दस्ता शुक्रवार सुबह 7 बजे जोन-13 बिलावली के अंतर्गत सर्वानंद नगर में 8 पोकलेन और 150 से ज्यादा कर्मचारियों के साथ पहुंचा।

मौके पर बड़ी संख्या में भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया था। कार्रवाई के दौरान भवन अनुज्ञा शाखा के अपर आयुक्त संदीप सोनी, रिमूवल उपायुक्त लता अग्रवाल, प्रभारी अधिकारी अश्विन जनवदे और भवन अधिकारी अनूप गोयल मौजूद रहे।

निगम के अमले ने कुछ ही घंटों में 12 हजार वर्ग फीट में बने 60 हजार वर्ग फीट में निर्मित बिल्डिंग को ढहा दिया।  इस होटल में बेसमेंट, ग्राउंड फ्लोर और तीन मंजिलें बनी थी। होटल में 45 कमरे, रेस्टोरेंट, बड़ा हॉल और टेरेस पर रेस्टोरेंट बना था।

होटल का नक्शा पास किए बिना ही इसका निर्माण कराया गया था। तोडफ़ोड़ से पहले होटल संचालक और परिवार के लोगों ने कार्रवाई रूकवाने की कोशिशें की थी जो कि सफल नहीं हो सकीं।

निगम ने तोड़फोड़ से पहले होटल में लगा कोई भी सामान नहीं निकालने दिया। जो लोग होटल में रुके हुए थे उन्हें कार्रवाई से पहले बाहर निकाल लिया गया था।

अवैध गतिविधियों का अड्डा थी होटल 25 आवर्स

पुलिस को लंबे समय से होटल में अवैध कारोबार संचालित होने की शिकायतें मिल रही थीं। बीते दिनों होटल में एक युवती का रेप भी हुआ था।
चौंकाने वाली बात ये भी है कि होटल 12 प्लॉट्स को मिलाकर बनाई गई थी, जो निगम के बिलावली जोन के ठीक सामने बनी हुई थी। होटल संचालक लोकल आईडी पर कमरे बुक कर रहे थे, जिससे अवैध गतिविधियों को बढ़ावा मिल रहा था। 
 

रहवासियों ने की मांग 

क्षेत्र के रहवासियों एवं सामाजिक कार्यकर्ता दिग्विजय भंडारी ने बताया कि इस पूरे क्षेत्र में अनेकों अवैध निर्माण है जिनकी जानकारी भी प्रशासन को है और कईयों पर नोटिस भी जारी किये जा चुके है पर राजनीतिक दबाव होने से कार्यवाही नहीं हो रही है. सवाल यह है कि क्या इसको तोड़ कर इतिश्री कर ली जाएगी या अन्य पर भी बुलडोजर चलेगा.
Spread the love
%d bloggers like this: