Press "Enter" to skip to content

Indore News – मेडिकल संगठनों की नाराजगी: सरकार ब्यूरोक्रेट्स को सौंप रही स्वास्थ्य सेवाओं की जिम्मेदारी

सरकार द्वारा मेडिकल कॉलेज में प्रशासनिक अधिकारी के रूप में एडीएम की नियुक्ति के विरोध में दिनांक 06/01/2022 मेडिकल संगठन ने मुख्यमंत्री के नाम कमिश्नर इंदौर को सुबह 11:30 बजे ज्ञापन दिया। इस दौरान कहा गया कि मोदी जी जहाँ नवाचार में विशेषज्ञों की सेवाएं ले रही हैं, वही प्रदेश सरकार आय एस एस के भरोसे अंग्रेजों के शासन की याद दिला रही है। सरकार ने आज तक 13 में से 11 कॉलेज में पूर्णकालिक डीन नियुक्त नहीं किये, स्वास्थ्य विभाग नॉन फंक्शनल बन गया है, केवल 40 % कर्मचारी ही नियुक्त है, 60% सीट खाली है मेडिकल कॉलेजों में, अस्पताल प्रबंधक बायोमेडिकल इंजीनियर जैसे पद होने के बावजूद खाली है।
इस दौरान आईएमए इंदौर के अध्यक्ष डॉ सुमित शुक्ला, मेडिकल टीचर एसोसिएशन एमजीएमएमसी की अध्यक्ष डॉ पूनम माथुर, सचिव डॉ अशोक ठाकुर, एमजीएमएमसी एलुमनी एसो. के , सचिव डॉ संजय लोंढे, जेडीए इंदौर के सभी सदस्य, अजाक्स के जिलाध्यक्ष करण भगत, मध्य प्रदेश राज्य कर्मचारी संघ के विभागीय अध्यक्ष गोपाल बहाड, नर्सिंग ऑफिसर एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष रमेश जाट, नर्सिंग एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र पाठक, फार्मासिस्ट एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री चंद्रकांत गिलके, लैब टेक्नीशियन एसोसिएशन के प्रांतीय सचिव दिलीप पाटिल, लघु वेतन कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष भीम सिंह कुशवाह, तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष राजकुमार पांडे सहित बड़ी संख्या में डाक्टर्स, नर्सेस एवं कर्मचारी अधिकारी शामिल थे।
Spread the love
More from Indore NewsMore posts in Indore News »
%d bloggers like this: