Press "Enter" to skip to content

बीस हजार रैंक तक के विद्यार्थियों को मिल सकता है मनपसंद इंजीनियरिंग कॉलेज

-इंजीनियरिंग कॉलेजों में शुरू हुई प्रवेश प्रक्रिया, पहले जेईई मेन के अंकों के आधार पर होगा प्रवेश

भोपाल। प्रदेश के करीब 150 इंजीनियरिंग कॉलेजों की तकरीबन 44 हजार सीटों पर प्रवेश प्रक्रिया 5 अगस्त से शुरू हो चुकी है। जेईई मेन के दूसरे चरण के परिणाम आने के बाद तकनीकी पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्रक्रिया को गति मिल गई है। अब डायरेक्टोरेट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (डीटीई) प्रक्रिया बिना किसी परेशानी से कर सकेगा।
इस बार जेईई मेन लेट होने से विद्यार्थी और माता-पिता चिंतित थे कि प्रवेश प्रक्रिया लेट होगी और इसका असर पढ़ाई पर पड़ेगा। काउंसलिंग के पहले चरण के तहत 5 अगस्त से पंजीयन शुरू होंगे जो कि 27 अगस्त तक जारी रहेंगे। कालेजों और ब्रांच का चयन 12 अगस्त से किया जा सकेगा। कामन मेरिट लिस्ट एक सितंबर को जारी की जाएगी। विद्यार्थियों को प्रवेश मिलने पर अलॉटमेंट पत्र 6 सितंबर को जारी किया जाएगा। पंजीयन के लिए विद्यार्थियों को 1530 रुपये खर्च आएगा। इस बार 10 प्रतिशत सीट ईडब्ल्यूएस की आरक्षित रहेगी। प्रवेश प्रक्रिया की शुरुआत जेईई मेन में मिली रैंक के आधार पर होगी। काउंसलिंग के अंतिम चरण में 12वीं के अंकों के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। विभिन्न कॉलेजों के पिछले वर्षों के कटऑफ को देखें तो प्रदेश के टॉप संस्थान श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान (एसजीएसआईटीएस) की कंप्यूटर साइंस ब्रांच में जेईई मेन की करीब 20 हजार रैंक तक के विद्यार्थियों को प्रवेश मिल गया था।

इलेक्ट्रॉनिक्स ब्रांच में बढ़ेगी मांग
कंप्यूटर साइंस और आईटी के साथ ही अब इलेक्ट्रानिक्स ब्रांच की ओर विद्यार्थियों का रुझान बढ़ रहा है। इसका कारण यह है कि अब इलेक्ट्रानिक्स आधारित नए उपकरणों की जरूरत महसूस हो रही है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग जैसी तकनीकों के लिए भी नए उपकरणों की जरूरत पड़ रही है। सभी तरह के उद्योग आटोमेशन पर आ गए हैं। सेंसर तकनीकी भी ऑटोमोबाइल से लेकर स्मार्ट होम तक बढ़ जाने से इलेक्ट्रानिक्स क्षेत्र में युवाओं की जरूरत बढ़ रही है। ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट अधिकारी अतुल भरत का कहना है कि इस समय जो विद्यार्थी कालेजों में प्रवेश ले रहे हैं उन्हें यह बात भी ध्यान रखनी चाहिए कि कंप्यूटर साइंस ही एकमात्र ब्रांच नहीं है जिसमें बढ़ोतरी हो रही है। जब वे कालेजों से पास होंगे तब कौन सी तकनीक की मांग होगी इसका अंदाजा लगाना चाहिए। जिस तरह से दुनियाभर में इलेक्ट्रानिक्स क्षेत्र तेजी से ऊपर जा रहा है उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले समय में इस क्षेत्र में काफी बेहतर मांग बनेगी।

Spread the love
More from Education NewsMore posts in Education News »
%d bloggers like this: