Press "Enter" to skip to content

गुजरात चुनाव की तारीखों का बाजा बजा बिगुल, कांग्रेस ने जताई आपत्ति

हिमाचल और गुजरात के लिए अलग-अलग तारीखों पर चुनाव की घोषणा क्यों, चुनाव आयोग से मांगा स्पष्टीकरण
 
गुजरात में 1 और 5 दिसंबर को, तो हिमाचल में 12 नवंबर को होगा मतदान, 8 दिसंबर को आएंगे नतीजे

नई दिल्ली। गुजरात में विधानसभा चुनाव में मतदान की तारीखों का ऐलान किया गया हैं। पहले चरण का मतदान 1 दिसंबर को और दूसरे चरण के मतदान 5 दिसंबर को होगा। गुजरात चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को आएंगे। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किया। वहीं, हिमाचल में 12 नवंबर को एक चरण में मतदान होगा, जबकि वोटों की गिनती 8 दिसंबर को होगी। आयोग ने हिमाचल प्रदेश के लिए मतगणना की तारीख को मतदान के करीब एक महीने बाद रखकर स्पष्ट संकेत दिया था कि गुजरात चुनाव के वोटों की गिनती भी 8 दिसंबर को होगी।
कांग्रेस ने चुनाव आयोग से मांगा स्पष्टीकरण
कांग्रेस ने चुनाव आयोग से हिमाचल प्रदेश और गुजरात के लिए अलग-अलग तारीखों पर मतदान की घोषणा को लेकर स्पष्टीकरण मांग लिया है।
गुरुवार को कांग्रेस के गुजरात प्रभारी रघु शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा को आधिकारिक खर्च पर कई रैलियां करने का समय मिला। साथ ही उन्होंने केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार पर गुजरात में सार्वजनिक संसाधनों के दुरुपयोग का आरोप भी लगाया।
राजधानी दिल्ली में एआईसीसी मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के दबाव के बावजूद गुजरात चुनावों की घोषणा करने के लिए चुनाव आयोग को धन्यवाद देना चाहता हूं। उन्होंने आगे कहा कि साथ ही चुनाव आयोग को संवैधानिक निकाय के रूप में स्पष्टीकरण देना चाहिए कि दोनों राज्यों में चुनावों के लिए मतगणना एक ही दिन होगी, लेकिन अलग-अलग तारीखों पर चुनाव की घोषणा क्यों की गई?
इस दौरान कांग्रेस के गुजरात प्रभारी रघु शर्मा ने मोरबी में हुए पुल हादसे को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर भी तंज कसा। उन्होंने कहा कि ‘जब यह त्रासदी हुई थी तब कांग्रेस ने सभी राजनीतिक कार्यक्रम रद्द कर दिए थे लेकिन प्रधानमंत्री जी  आधिकारिक कार्यक्रमों के बहाने राज्य में अपनी पार्टी के लिए प्रचार करते रहे।’
कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि  कांग्रेस गुजरात में बहुत मेहनत कर रही है और राज्य में चुनाव के नतीजे चौंकाने वाले होंगे। उन्होंने आम आदमी पार्टी और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन को लेकर भी बयानबाजी की। शर्मा ने कहा कि ये दोनों पार्टियां भाजपा की बी-टीम” हैं और केवल वोट काटने के लिए हैं। गुजरात में लड़ाई केवल भाजपा और कांग्रेस के बीच ही होगी, किसी तीसरी पार्टी के लिए यहां कोई संभावना नहीं है।

गुजरात में पहले चरण में 89 सीटों पर चुनाव होगा। पहले चरण के लिए पांच नवंबर को अधिसूचना जारी हो जाएगी। 14 नवंबर तक नामांकन किया जा सकेगा। नामांकन पत्रों की जांच 15 नवंबर को होगी। 17 नवंबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। वहीं, एक दिसंबर को चुनाव होगा।

Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »
%d bloggers like this: