Press "Enter" to skip to content

दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ जोरदार विरोध, जर्मन एयरलाइन लुफ्थांसा के पायलटों की हड़ताल के चलते वैश्विक स्तर पर 800 उड़ानें हुई रद्द

जर्मन एयरलाइन लुफ्थांसा के पायलट हड़ताल पर हैं. ऐसे में शुक्रवार को इस एयरलाइन की वैश्विक स्तर पर 800 उड़ानें रद्द कर दी गई हैं, जिसकी वजह से लगभग 1,30,000 यात्रियों के प्रभावित होने की संभावना है. दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भी इसका असर देखने को मिला.

यहां टी3 टर्मिनल पर लगभग 700 यात्री फंसे हुए हैं. फंसे हुए यात्रियों और उनके रिश्तेदारों ने गुरुवार रात को दिल्ली एयरपोर्ट पर जोरदार विरोध दर्ज किया.

दरअसल, दिल्ली एयरपोर्ट के गेट नंबर 1 और टर्मिनल 3 के सामने सड़क पर भीड़ जमा हो गई. यहां सैकड़ों लोगों ने उड़ानें रद्द होने के खिलाफ विरोध किया, जिसकी वजह से सड़क पर ट्रैफिक जाम लग गया.

बाहर भीड़ जमा होने से अन्य यात्रियों को आवाजाही में दिक्कत होने लगी. सड़क पर जमा हुए लोगों की मांग थी कि जिन लोगों की उड़ानें रद्द हुई हैं उन्हें रिफंड या वैकल्पिक व्यवस्था दी जाए.

हड़ताल के चलते रद्द हुईं उड़ानें

दिल्ली से लुफ्थांसा एयरलाइन की दो उड़ानें रद्द की गई. एलएच 761 (दिल्ली से फ्रैंकफर्ट) में 300 यात्री थे और दूसरी लुफ्थांसा उड़ान एलएच 763 (दिल्ली से म्यूनिख) में 400 यात्री थे. एयरपोर्ट पुलिस ने बताया कि लुफ्थांसा एयरलाइंस ने सभी उड़ाने हड़ताल के चलते रद्द की हैं. एयरपोर्ट पर इस तरह के प्रदर्शन से सुरक्षा चिंताएं पैदा हो गई थी.

जुलाई में भी 1000 उड़ाने की थी रद्द

लुफ्थांसा एयरलाइंस दिल्ली से फ्रैंकफर्ट और म्यूनिख के लिए दो उड़ानें संचालित करती है, जिन्हें शुक्रवार को रद्द कर दिया गया. इससे पहले जुलाई महीने में भी लुफ्थांसा एयरलाइंस के लॉजिस्टिक और टिकटिंग कर्मचारियों एक दिन की हड़ताल पर गए थे, जिसकी वजह से 1000 उड़ानों को रद्द करना पड़ा था.

वायरल हो रहे एक वीडियो में यात्री एयरपोर्ट पर चिल्लाते हुए नजर आ रहे हैं. इस दौरान नारे लगा रहे थे कि उनके पैसे वापस किए जाने चाहिए. वहीं, अधिकारियों ने बताया है कि कल रात लुफ्थांसा से यात्रा करने वालों में ज्यादातर छात्र थे.

लुफ्थांसा के पायलट क्यों कर रहे हैं हड़ताल

कोरोना महामारी के कारण एयरलाइंस कंपनियों को काफी नुकसान उठाना पड़ा. इससे कई कंपनियों की हालात बेहद खस्‍ता हो गई. इनमें भारत की ही नहीं, विदेशी कंपनियां भी शामिल हैं.

लुफ्थांसा एयरलाइंस भी इसी मुश्किल दौर से गुजर रही है. ऐसे में पायलट हड़ताल पर उतर आए हैं. उनकी मांग है कि नए कर्मचारियों को भर्ती किया जाए. क्योंकि, सारा बोझ मौजूदा कर्मचारियों पर पड़ रहा है.

 

Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »
%d bloggers like this: