Press "Enter" to skip to content

संसद का शीतकालीन सत्र आज से, विपक्ष ने ईडब्ल्यूएस कोटा महंगाई समेत कई मुद्दों पर चर्चा की मांग की

– सत्र के दौरान दिल्ली में गरजेंगे किसान
– भारत जोड़ो यात्रा के साथ कांग्रेस ने खोला दूसरा मोर्चा

नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र बुधवार से शुरू हो रहा है। संसद सत्र शुरू होने से पहले केंद्र सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई। इस बैठक में सभी पार्टी के नेताओं ने शिरकत की। इस दौरान सर्वदलीय बैठक में विपक्षी दलों ने महंगाई बेरोजगारी और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग कोटे सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा की मांग की।
दरअसल विधायी एजेंडे और 7 दिसंबर से शुरू होने वाले संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान संभावित मुद्दों पर चर्चा के लिए केंद्र सरकार की तरफ से बुलाई गई बैठक में सभी प्रमुख दलों के नेताओं ने भाग लिया। इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन समेत कई नेता मौजूद रहे।
कांग्रेस पार्टी ने भारत जोड़ो यात्रा के बीच दिल्ली के जंतर-मंतर पर नौ दिसंबर को राष्ट्रीय स्तर की रैली आयोजित करने की घोषणा की है। सात दिसंबर से संसद सत्र शुरू हो रहा है। सत्र की शुरुआत में ही कांग्रेस पार्टी ने किसानों की मांग उठा दी है। भारत जोड़ो यात्रा उत्तर भारत में प्रवेश कर चुकी है। आने वाले दिनों में भारत जोड़ो यात्रा ऐसे कई बड़े राज्यों से गुजरेगी जहां किसान आंदोलन का व्यापक असर रहा है।
मंगलवार को अखिल भारतीय किसान कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखपाल सिंह खैरा ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम 14 मांगों वाला एक पत्र जारी किया है। पीएम मोदी से मांग की गई है कि वे कॉरपोरेट सेक्टर का 10 लाख करोड़ रुपये का ऋण माफ कर सकते हैं तो किसानों का क्यों नहीं। देश का किसान कर्ज में डूबा है और आत्महत्या करने पर मजबूर है। सुखपाल सिंह खैरा का दावा है कि इस रैली में देशभर से भारी संख्या में किसान शामिल होंगे।
किसानों की मांगों पर कोई कदम नहीं उठाया
कांग्रेस पार्टी की भारत जोड़ो यात्रा अब राजस्थान में है। उसके बाद यह यात्रा उत्तर भारत के दूसरे राज्यों में पहुंचेगी। यात्रा की मजबूती के लिए पार्टी ने किसानों को साथ लेने की रणनीति बनाई है। यही वजह है कि अब संसद सत्र की शुरुआत में ही एक बड़ी रैली आयोजित करने की घोषणा कर दी है। सुखपाल सिंह खैरा कहते हैं कि देश के किसानों एवं खेतिहर मजदूरों की विकट समस्याओं के प्रति केंद्र सरकार उदासीन है।
उनकी मांगों को अनदेखा किया जा रहा है। किसानों की समस्याओं के शीघ्र निराकरण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेजा गया है। इसमें किसान आंदोलन का जिक्र भी हुआ है। आंदोलन को खत्म हुए लगभग एक वर्ष हो चुका है लेकिन केंद्र सरकार ने किसानों की मांगों पर कोई कदम नहीं उठाया। ऐसी स्थिति में किसानों के लिए दोबारा से सड़कों पर उतर कर विरोध प्रदर्शन करने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं बचा है।
एमएसपी के लिए नई कमेटी गठित हो
बतौर खैरा यह दुर्भायपूर्ण है कि केंद्र सरकार ने किसानों के प्रति कोई भी ऐसा सकारात्मक कदम नहीं उठाया जिससे किसानों में विश्वास पैदा हो। उन्हें अपनी मांगों के पूरा होने की उम्मीद नजर आए। इन हालातों के मद्देनजर अखिल भारतीय किसान कांग्रेस ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर विशाल रैली एवं प्रदर्शन करने की घोषणा की है। किसानों की मांगों में कानूनी तौर से न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देना शामिल है।
यह गारंटी स्वामीनाथन रिपोर्ट के आधार पर सभी फसलों के लिए ष्ट2+50 प्रतिशत के फॉर्मूले पर होनी चाहिए। केंद्र सरकार ने इस दिशा में जो कमेटी गठित की थी उसे किसान पहले ही नकार चुका है। पुरानी कमेटी भंग की जाए एमएसपी के लिए कानूनी तौर पर गारंटी देने के लिए नई कमेटी गठित हो।
इसमें किसान संगठनों का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया जाए। खेती की लागत बढऩे और उत्पादन का सही मूल्य न मिलने के कारण किसान कर्ज में डूबा है। वह आत्महत्या करने पर मजबूर है।
इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंट बिल 2022 को वापस लिया जाए
पीएम को लिखे पत्र में कॉरपोरेट सेक्टर की तर्ज पर किसानों का कर्ज माफ करने की मांग की गई है। खेतिहर मजदूरों का ऋण पूर्णतया माफ किया जाए। सुखपाल खैरा ने अपने पत्र में लिखा है कि लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत के लिए मुख्य साजिशकर्ता एवं केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त किया जाए। किसानों की फसल को सूखा बाढ़ तूफान व अधिक बारिश आदि प्राकृतिक आपदाओं से राहत देने के लिए सभी तरह की फसलों पर  कारगर बीमा योजना शुरू हो।
आंदोलनों के दौरान किसानों पर दर्ज मुकदमे रद्द हों
सभी छोटे लघु मध्यम किसानों व खेतिहर मजदूरों के लिए 5000 रुपये प्रतिमाह की किसान पेंशन योजना आरंभ की जाए। किसान आंदोलनों में शहीद हुए किसानों के परिवारों को उचित मुआवजे के अलावा नौकरी देने का प्रावधान सुनिश्चित किया जाए। सिंधु मोर्चा स्थल पर शहीद किसानों के सम्मान के लिए किसान शहीद स्मारक स्थापित किया जाए। किसानों के खेत में काम कर रहे मजदूरों को भी मनरेगा स्कीम के अंतर्गत लाया जाए।
विपक्ष ने की सरकार से ये मांग
बैठक के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने चुनाव आयुक्त की नियुक्ति सिर्फ एक दिन में करने ईडब्ल्यूएस कोटा और बेरोजगारी पर चर्चा की मांग की। सरकार 24-25 विषयों पर चर्चा कराना चाहती है जिसके लिए समय नहीं क्योंकि यह सत्र 17 दिन का है।
Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »