Press "Enter" to skip to content

Crime News Indore – जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई: बड़ी गड़बड़ी के चलते इंदौर रुचि सोया का ऑफिस सील किया

इंदौर में बुधवार को जिला प्रशासन की टीम ने बड़ी कार्रवाई की. मांगलिया स्थित रुचि सोया इंडस्ट्रीज में बुधवार को जिला प्रशासन की टीम ने बड़ी गड़बड़ी पकड़ी है। यहां ईटीपी प्लांट होने के बाद भी जमीन में करीब ढाई किलोमीटर लंबी पाइपलाइन बिछाकर दूषित पानी कान्ह नदी में छोड़ा जा रहा था। जिला प्रशासन ने कंपनी का प्रशासनिक भवन सील कर दिया है और 24 घंटे के भीतर पाइपलाइन हटाने के लिए कहा गया है। दो दिन पहले भी यहां पर जिला प्रशासन की टीम पहुंची थी, लेकिन तब केवल ईटीपी प्लांट देख कर लौट आई थी। इसके अलावा पांच और फैक्ट्रियों पर भी कार्रवाई की गई है।कलेक्टर मनीष सिंह ने कान्ह नदी में इंडस्ट्रीयल वेस्ट छोड़ने वाले उद्योगों की जांच के लिए संयुक्त दल बनाया है। बुधवार को अपर कलेक्टर पवन जैन के नेतृत्व में टीम रुचि सोया इंडस्ट्रीज पहुंची। जांच के दौरान गड़बड़ी पकड़ी। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों ने इस दूषित पानी का नमूना जल प्रदूषण (निवारण तथा नियंत्रण) अधिनियम 1974 की धारा 21 के तहत नोटिस देकर लिया। इसकी रिपोर्ट तीन दिन में आएगी। इसमें खराबी पाए जाने पर आपराधिक प्रकरण भी दर्ज किया जा सकता है। बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि प्रांरभिक रूप से यह ईटीपी से निकला अतिरिक्त पानी नजर आ रहा है, लेकिन फिर भी नमूना लिया गया है।

नियमानुसार जीरो डिस्चार्ज का पालन किया जाना चाहिए। ग्रामीणों ने दी जानकारी अधिकारियों के अनुसार सोमवार को भी टीम यहां पहुंची थी, तब यहां पर लगा ईटीपी काम कर रहा था। तब पाइपलाइन का पता नहीं था। इसी बीच ग्रामीणों ने पाइपलाइन से पानी छोड़े जाने की सूचना दी। इस पर टीम फिर जांच करने पहुंची थी।

फैक्ट्रियों में खामी मिली तो होगी कार्रवाई

सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र में एक ओर जहां जिला प्रशासन, नगर निगम और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की संयुक्त टीम जांच कर कमी मिलने वाली फैक्ट्रियों को सील कर रही है, वहीं दूसरी ओर नगर निगम की आठ टीमें भी 500 से ज्यादा फैक्ट्रियों की जांच कर रही है। ये सभी टीमें तीन-चार दिन में रिपोर्ट तैयार करेंगी। इस रिपोर्ट के आधार पर फैक्ट्रियों पर एक साथ कार्रवाई की जाएगी। सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र में पिछले दो दिन में 52 फैक्ट्रियों की जांच हुई है। इस क्षेत्र में संयुक्त अपशिष्ट उपचार संयंत्र लगा हुआ है। उद्योगों से संयंत्र तक पाइपलाइन पहुंचाई गई है। इस वजह से यहां पर अभी तक हुई जांच में किसी भी फैक्ट्री में टीमों को खामी नहीं मिली है। बरदरी क्षेत्र में विगत दो दिन में 22 फैक्ट्रियों की जांच की गई है। इसके अलावा कुमेड़ी क्षेत्र में दो दिन में 15 फैक्ट्रियों की जांच हुई है। कुमेड़ी और बरदरी क्षेत्र में सीवरेज पाइपलाइन नहीं डाली गई है। ऐसे में निगम प्रयास करेगा कि इस क्षेत्र में सभी फैक्ट्रियों में ईटीपी प्लांट लगा हो और चालू स्थिति में हो।

हमारे यहां पर 450 टन क्षमता का ईटीपी प्लांट है, जिससे निकले उपचारित पानी को हम परिसर में बागवानी में उपयोग में लेते हैं। यह भी हमें कम पड़ जाता है। यह पुरानी लाइन डली हुई थी। जिसे हटाने का काम शुरू कर दिया गया है। -सुधीर गुप्ता, फैक्ट्री मैनेजर, रुचि सोया

Spread the love
More from Crime NewsMore posts in Crime News »
%d bloggers like this: