Press "Enter" to skip to content

मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने 8 मामलों में संज्ञान लेकर संबंधितों से प्रतिवेदन मांगा

0

 130 total views

मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के माननीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री नरेन्द्र कुमार जैन ने मानव अधिकार हनन से जुड़े 8 मामलों में संज्ञान लेकर संबंधितों से प्रतिवेदन मांगा है। देखें
1.देपालपुर में अधिकारी द्वारा नागरिकों का जुलूस निकालने, उन्हें लात मारने एवं बदसलूकी का मामला –  न्यायमूर्ति श्री नरेन्द्र कुमार जैन के मोबाइल पर एक शिकायत (मय वीडियो) की गई है। जिसमें कोविड 19 की रोकथाम हेतु कर्फ्यू पालन में देपालपुर तहसील के अधिकारियों द्वारा सख्ती के नाम पर नागरिकों का जुलूस निकालकर उन्हें लात मारे जाने एवं बदसलूकी करने का उल्लेख किया गया है। शिकायत के साथ इस घटना का एक वीडियो भी भेजा गया है.
2. 25 हजार रूपये के लिये नहीं दिया शव, परिजनों का हंगामा – इंदौर में बीते रविवार की सुबह पलासिया स्थित ग्रेटर कैलाश (जीके) अस्पताल में जमकर हंगामा हो गया। एक 50 वर्षीया महिला की मौत के बाद उसके परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। मृतक महिला के पुत्र अमित ने बताया कि उन्होंने अस्पताल में 4 लाख रूपये जमा करवाए थे, लेकिन अस्पताल वालों ने 25 हजार और जमा कराने को कहा, इसपर इंकार करने पर अस्पताल ने उनकी माता के शव को बंधक बना लिया था।
3. डाॅक्टरों ने महिलाओं को दौडा-दौडाकर पीटा, विवाद के बीच तीन की मौत – ग्वालियर के कमलाराजा चिकित्सालय में इलाज के बजाय डॉक्टर अब मरीजों के परिजनों को ही लड़ने पर आमादा हैं। बीते शनिवार को ऐसी ही घटना हुई। इलाज के दौरान यहां भर्ती एक 80 वर्षीया महिला की मौत हो गई। इस लेकर परिजनों और डयूटी पर मौजूद डाॅक्टरों का विवाद हो गया। डाक्टरों ने मरीज के परिजनों को दौडा- दौडाकर पीटा, यहां तक कि महिला अटेंडेंट्स को भी नहीं बख्शा।

4 . भोपाल शहर के भदभदा में रहने वाले अब्दुल करीम 96 वर्ष के हैं। चलने-फिरने में काफी परेशानी है। लेकिन इस उम्र में भी वे भदभदा से नेहरू नगर जाने वाली रोड पर साइकिल सुधारने की छोटी से दुकान चलाकर परिवार का पेट पाल रहे हैं।

5 .शिवपुरी मेडिकल कालेज बनने के बाद लोगों को आशा थी कि यहां पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया होंगी, लेकिन इन उम्मीदों पर पानी फिर गया है। यहां पर शिवपुरी जिला चिकित्सालय से रैफर की गई एक महिला की बीते गुरूवार को इलाज के दौरान मौत हो गई।

6. जिला अस्पताल श्योपुर में बीते रविवार को ऑक्सीजन खत्म होने से तीन गंभीर मरीजों ने दम तोड दिया। अन्य मरीजों की हालत भी बिगड गई। करीब ढाई घंटे बाद जिला अस्पताल में आॅक्सीजन का इंतजाम हो सका।

7. जिला अस्पताल सिवनी में 22 बेड की क्षमता वाले कोविड-3 वार्ड के गलियारे में 3-4 मरीज जमीन पर उपचार कराने के लिये मजबूर हैं। अस्पताल प्रशासन लगभग दो सप्ताह से इन्हें किसी वार्ड में पलंग मुहैया नहीं करा पा रहा। इसके चलते ये जमीन पर ही पडे हैं

8. मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले के कलेक्टर ने कोरोना संक्रमितों के लिये एक तुगलकी आदेश जारी कर दिया। निवाडी शहर के चार वार्डाें में कोरोना संक्रमितों के बाहर घूमने की शिकायत मिलने पर कलेक्टर निवाडी ने उनके घरों मेें ताला लगवा दिया। इससे कोरोना संक्रमितों को दवाईयों और अन्य जरूरी सामग्री के लिये बहुत अधिक परेशान होना पडा।

आगे पढ़े

Spread the love
More from मध्यप्रदेशMore posts in मध्यप्रदेश »