Press "Enter" to skip to content

जेपी नड्डा के नेतृत्व में 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ेगी भाजपा

मोदी की नेताओं को नसीहत मुस्लिम समाज के बारे में गलत बयानबाजी न करें

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का कार्यकाल जून 2024 तक बढ़ाया गया है। उन्होंने बताया कि भाजपा कार्यकारिणी में ये प्रस्ताव पास हुआ। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रस्ताव रखा और सभी ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव को मंजूरी दी। केंद्रीय मंत्री शाह ने कहा राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति ने फैसला लिया है कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में नड्डा का कार्यकाल जून 2024 तक बढ़ाया गया है।
उन्होंने बीजेपी को बहुत बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी करार देकर कहा कि इसके तहत फैसला लिया गया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कोविड के वक्त नड्डा की अगुवाई में बूथ से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक सेवा ही संगठन है इसी मंत्र के साथ पार्टी आगे बढ़ी। उनके नेतृत्व में कोरोना के वक्त बीजेपी कार्यकर्ताओं ने लोगों की सेवा की।
इसके पहले भाजपा के अध्यक्ष नड्डा ने अगले साल होने वाले आम चुनाव से पहले 2023 में नौ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के महत्व को रेखांकित करते हुए पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से इन सभी चुनावों में जीत दर्ज करने के लिए कमर कसने का आह्वान किया था।
उल्लेखनीय है कि केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी अपने संगठन को मजबूत करने के लिए पिछले कुछ समय से कई सारी कवायदें कर रही है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वह केंद्र में तीसरे कार्यकाल के लिए सत्ता में वापस आए। नड्डा ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के तहत भारत की प्रगति की सराहना भी की।
पार्टी अध्यक्ष ने कहा था आज प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था मोबाइल फोन की दूसरी सबसे बड़ी निर्माता ऑटोमोबाइल क्षेत्र में तीसरी सबसे बड़ी निर्माता बन गई है।
शाह ने बताया राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा का सफल रिपोर्ट कार्ड
बीजेपी के वरिष्ठ रणनीतिकार और केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन की यह घोषणा की।
शाह ने कहा कि भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के कार्यकाल को जून 2024 तक बढ़ाने का फैसला किया। इसके साथ ही उन्होंने कहा ‘हमें विश्वास है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष नड्डा के नेतृत्व में पार्टी 2024 के लोकसभा चुनाव 2019 से बड़े जनादेश के साथ जीतेगी।
बीजेपी के संविधान के अनुसार किसी पार्टी अध्यक्ष को 3-3 साल के लगातार दो कार्यकाल मिल सकते हैं। इसमें यह भी प्रावधान है कि कम से कम 50 फीसदी राज्य इकाइयों में संगठनात्मक चुनाव होने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।
हालांकि बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष शाह ने बताया कि कोविड महामारी के कारण संगठनात्मक चुनाव हो नहीं पाया तब संवैधानिक रूप से ये संभव नहीं था। उन्होंने कहा कि बीजेपी बहुत बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी है और लोकतांत्रिक ढंग से ही यह फैसला लिया गया। इस दौरान शाह ने बताया नड्डा का पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में बेहतर रिपोर्ट कार्ड बताते हुए कहा कि  कोविड के दौरान उनके नेतृत्व में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने लोगों की सेवा की।
बिहार महाराष्ट्र हरियाणा और यूपी में नड्डा के नेतृत्व में सफलता प्राप्त मिली। बंगाल में 3 से बढ़कर 77 सीटें मिलीं दक्षिण में पार्टी का पावर बढ़ा गोवा में पहली बार पूर्ण बहुमत मिला गुजरात में प्रचंड जीत मिली। जेपी नड्डा विभिन्न राज्यों में पार्टी का विस्तार किया। जम्मू-कश्मीर के बीडीसी चुनाव में बीजेपी ने यश प्राप्त किया। बूथ सशक्तीकरण लोकसभा प्रवास योजना हर घर तिरंगा कार्यक्रम में नड्डा की अहम भूमिका रही।
सेवा ही संगठन और पीएम मोदी के जन्मदिन पर सेवा पखवाड़ा का सफल आयोजन किया।  मन की बात को जन का कार्यक्रम बनाया देशभर में विजय संकल्प सभाएं अपना बूथ सबसे मजबूत कार्यक्रम का सफल क्रियान्वयन किया।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत का सबसे अच्छा युग आ रहा है, हमें इसके विकास के लिए खुद को समर्पित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह भारत के लिए सबसे अच्छा समय है और हमें देश के विकास में योगदान देने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए।
उन्होंने यह भी कहा कि अमृत काल को कर्तव्य काल में बदलना चाहिए, तभी देश तेजी से प्रगति की ओर बढ़ सकता है। पीएम मोदी ने भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान कहा कि हमें सीमावर्ती इलाकों के गांवों से ज्यादा जुड़ना चाहिए और उन्हें मुख्यधारा में लाना चाहिए और वहां हमारी गतिविधियां बढ़नी चाहिए।
प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा नेताओं को नसीहत भी दी। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज के बारे में गलत बयानबाजी न करें। कई के बयान अमर्यादित होते हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए। किसी भी जाति-संप्रदाय के खिलाफ बयान नहीं देना चाहिए। प्रधानमंत्री ने चुनाव को लेकर यह भी कहा कि हमें सक्रिय रहना है और आत्ममुग्ध नहीं होना है। कोई यह नहीं समझें कि मोदी आएगा और जीत दिला देगा। हमें इस मानसिकता से बाहर निकलना होगा।
प्रधानमंत्री ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ का जिक्र करते हुए यह भी कहा कि पिछली बार हम अति आत्मविश्वास के कारण हार गए थे। इस बार हमें इससे बचना होगा। लोगों के बीच रहना होगा और मिलकर मेहनत करनी होगी।
Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »