Press "Enter" to skip to content

विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में भाग नहीं लेगी सिंधु, लक्ष्य और प्रणय पर रहेंगी नजरें

टोक्यो। भारत की महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु चोटिल होने के कारण बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप में भाग नहीं लेंगी। यह पिछले एक दशक में पहली बार है जब सिंधु इस चैंपियनशिप में भाग नहीं ले रही हैं। सिंधु के नहीं खेलने के कारण इस टूर्नामेंट में सभी की नजरें युवा लक्ष्य सेन और एच एच प्रणय पर लगी रहेंगी।
सिंधु राष्ट्रमण्डल खेलों में खिताबी अभियान के दौरान चोटिल होने के कारण इस चैंपियनशिप से हटी हैं। ऐसे में अब इस टूर्नामेंट में भारतीय प्रशंसकों को लक्ष्य के अलावा अनुभवी प्रणय और किदांबी श्रीकांत से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। भारत ने 2011 के बाद से ही इस चैंपियनशिप में हमेशा पदक जीते हैं।
गत वर्ष श्रीकांत ने रजत जबकि लक्ष्य ने कांस्य पदक जीता था पर इस बार मुकाबला अधिक कड़ा है। साल 2021 में जापान के केंटो मोमोटा तथा जोनाथन क्रिस्टी और एंथोनी गिंटिंग की इंडोनेशियाई जोड़ी ने विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लिया था पर इस बार किसी खिलाड़ी ने भी नाम वापस नहीं लिया है।
भारत को पुरुष खिलाड़ियों से अच्छी उम्मीदें हैं क्योंकि उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है। राष्ट्रमण्डल खेलों के स्वर्ण विजेता  लक्ष्य इस बार भी विश्व चैंपियनशिप में खिताब के प्रबल दावेदार हैं।
उनका पहला मुकाबला डेनमार्क के अनुभवी हैंस-क्रिस्टियन सोलबर्ग विटिंगस से होगा। भारत के तीनों पुरुष खिलाड़ी एक ही क्वार्टर में है और ऐसे में उनका आपस में भी मुकाबला हो सकता है। लक्ष्य का तीसरे दौर में प्रणय से सामना हो सकता है। प्रणय को इससे पहले दूसरे दौर में दूसरी वरीयता प्राप्त मोमोटा को हराना होगा।
प्रणय ने पिछले कुछ समय से अपने प्रदर्शन में निरंतरता बनाये रखी है। वह तीन बार सेमीफाइनल और एक बार फाइनल में पहुंचे और उनसे इसी तरह के प्रदर्शन को बरकरार रखने की उम्मीद की जा रही है।
श्रीकांत को 12वीं वरीयता दी गई है और वह भी लक्ष्य और प्रणय की तरह अच्छी लय में हैं। राष्ट्रमण्डल खेलों में उन्होंने कांस्य पदक जीता था पर आयरलैंड के नाट गुयेन और चीन के झाओ जून पेंग जैसे खिलाड़ियों को हराने के लिए उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा।
यदि श्रीकांत शुरुआती बाधाओं को पार कर लेते हैं तो क्वार्टर फाइनल में उनका मुकाबला दुनिया के पांचवें नंबर के मलेशियाई ली जिया जिया से हो होगा। इनके अलावा पुरुष युगल में चिराग सेठी और सात्विक साइराज रंकीरेड्डी पर भी सभी की नजरें रहेंगी।  इस जोड़ी ने राष्ट्रमण्डल खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।
विश्व में सातवें नंबर की इस भारतीय जोड़ी को पहले दौर में बाई मिली है। दूसरे दौर में उनका सामना मलेशिया के गोह वी शेम और टैन वी किओंग की जोड़ी से हो सकता है.
वहीं महिला वर्ग में अनुभवी साइना नेहवाल पर भी सबकी नजरें रहेंगी। साइना ने विश्व चैंपियनशिप में एक रजत और एक कांस्य पदक जीता है हालांकि यहां उन्हें पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। साइना का मुकाबला पहले दौर में हांगकांग की चेउंग नगन यी से होगा।
Spread the love
More from Sports NewsMore posts in Sports News »
%d bloggers like this: