Press "Enter" to skip to content

कैंसर का उपचार कठिन है परंतु बचाव आसान

 

कैंसर एक बहुत ही गंभीर बीमारी है इसकी गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि दुनियाभर में साल इस बीमारी से करोड़ो लोग ग्रसित होते हैं और लगभग एक करोड़ लोगों की असमय मौत हो जाती है ।  भारत मे इसकी गंभीरता का अनुमान इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि प्रतिवर्ष लगभग 8 लाख महिलाएँ और 7 लाख पुरुष इससे ग्रसित हो जाते हैं जिसमे से लगभग आधे मौत का शिकार हो जाते हैं |

कैंसर का उपचार कठिन है परंतु बचाव आसान है इसलिए कुछ सावधनियाँ अपना कर इससे बचा जा सकता है। जिस तरह कोरोना महामारी से हमारी जंग निर्णायक अवस्था में है।उसके पीछे करण सरकार से लेकर समाज के हर वर्ग की सक्रिय भागीदारी और संवेदनशीलता है । आज उसी संयम और सक्रियता से कैंसर के खिलाफ भी जंग लड़नी होगी उक्त उदगार विश्व कैंसर दिवस पर संस्था मालवमंथन द्वारा एमटीएच अस्पताल परिसर में आयोजित आरोग्य संपदा रोपण कार्यक्रम में अथितियों ने व्यक्त किए |
कार्यक्रम में आरोग्य संपदा रोपण की शुरुआत एमटीएच प्रभारी उप अधीक्षक  डॉ अनुपमा दवे ने की कार्यक्रम में मुख्य रूप से डॉ मनीला कौशल, डॉ आरती जीनवाल, डॉ देव्यानी तिवारी, डॉ कृति मेहता, डॉ दीपा जोशी,डॉ अलका पटेल, डॉ आकांक्षा, डॉ विभूति  के साथ अस्पताल प्रशासन उपस्थित था |  कार्यक्रम में संस्था की प्रो. वंदना जोशी ने बताया की हर वर्ष आज के दिन हम इस तरह के कार्यक्रम करते हैं जिसके पीछे उद्देश्य इस खतरनाक बीमारी से समाज को जागृत करना है।
वही रोपित औषधीय पौधों के जानकारी देते हुए प्रो स्वपनिल व्यास ने बताया की आज हमने यहाँ तकरीबन 25 तरह के औषधीय पौधों का रोपण किया जिसमें – पिपरमेंट,अडूसा,ग्वारपाठा,आजवाइन,अश्वगंधा,गिलोय,लाजवंती,शतावरी,शमी,पारिजात,इन्सुलीन,लेमन ग्रास पत्थर चटा,तुलसी,आंवला,बेलपत्र,जासवंत,पान,सृजन  कचनार,अमलतास,हड़जोड़,लोग तुलसी ,निर्गुन्डी, सीता अशोक, शीशम,शेताब, मरवा ,आदी शामिल हैं।
कार्यक्रम का संचालन श्रीमती रानी सक्सेना ने किया |
Spread the love
More from InterviewsMore posts in Interviews »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: