Press "Enter" to skip to content

एनटीए ने डीएविवि की सीईटी का रिजल्ट घोषित किया 

 58 total views

 

एनटीए ने डीएविवि की सीईटी का रिजल्ट घोषित किया

 सप्ताहभर इंतजार करवाने के बाद आखिरकार नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के 16 विभागों में संचालित 41 कोर्स में प्रवेश के लिए हुई कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (सीईटी) का रिजल्ट रविवार को देर शाम जारी कर दिया है। 41 कोर्स की 2515 सीटों के लिए विश्वविद्यालय आफलाइन काउंसलिंग कराई जाएगी, जिसमें आरक्षित वर्ग की 1200 से ज्यादा सीटें होगी। इसके चलते एजेंसी को अलग से रैंक निकालना पड़ेगी। उसमें थोड़ा समय लग सकता है। फिलहाल विश्वविद्यालय ने नए प्रारूप में रिजल्ट देने पर जोर दिया है। वैसे काउंसलिंग में हिस्सा लेने वालों को सीईटी की मेरिट के आधार पर ही सीट अलॉट होती है।

 

 सीईटी इस बार दो चरणों में हुई थी। इसके चलते विवि की सारी प्रक्रिया लेट हो गई है। सीईटी के पहले परीक्षा सेंटरों को लेकर मप्र कांग्रेस कमेटी, एनएसयूआई और एबीवीपी ने विवि में हंगामा किया था। उनकी मांग थी कि इंदौर के परीक्षार्थियों को इंदौर में ही सेंटर दिया जाए। इसे लेकर छात्र नेताओं ने कुलपति डॉ. रेणु जैन का घेराव किया था। वहीं, पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी इसे लेकर ट्वीट किया था। छात्र नेताओं की इस मांग को देखते हुए विवि प्रबंधन ने एनटीए के अधिकारियों से चर्चा कर सीईटी दो चरणों में करवाई थी।
 
ख़ास बात ये है कि इंतज़ार के बावजूद जारी रिजल्ट में कैटेगरी की रैंक नहीं दर्शाई गई है। यहां तक मेरिट लिस्ट भी जारी नहीं की है। अब विद्यार्थियों के सामने असमंजस की स्थिति बन गई है, क्योंकि वे यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि उन्हें विश्वविद्यालय के कौन-से कोर्स में प्रवेश मिलेगा। वहीं विश्वविद्यालय प्रशासन की मुसीबतें बढ़ गई है। एसटी-एससी, ओबीसी और फीमेल कैटेगरी में रैंक नहीं होने से काउंसिलिंग करवाने में थोड़ी परेशानी आएगी। विश्वविद्यालय से संचालित कोर्स की सीटों को जनरल, एसटी, एससी, ओबीसी, फीमेल कैटेगरी में बांटा है। हर बार ओवरआल रैंक के अलावा अलग-अलग रैंक भी निकाली जाती है। मगर इस बार एजेंसी ने एेसी कोई व्यवस्था नहीं रखी है। एनटीए ने कुलअंक, प्राप्तांक और रैंक बताई है। कैटेगरी की रैंक का कोई जिक्र नहीं है। जबकि विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक एजेंसी कैटेगरी की रैंक बनाकर देगा। उसका डाटा एजेंसी जल्द ही भिजवा देंगी। ताकि विश्वविद्यालय काउंसिलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू कर सके। उस दौरान विद्यार्थियों को अपनी कैटेगरी की रैंक भी नजर आएगी।
Spread the love
More from Education NewsMore posts in Education News »