Press "Enter" to skip to content

उदयपुर में नफरत का आतंक : दो धर्मांध मुस्लिम युवकों ने तोड़ी मानवता की सारी हदें, एक हिंदू युवक को उतारा मौत के घाट

नूपुर शर्मा का आठ साल के बेटे ने किया था समर्थन तो पिता की कर दी हत्या, हत्याकांड के बाद 20 जिलों में इंटरनेट बंद जेईई मेन परीक्षा पर मंडराया संकट
राजस्थान के उदयपुर में आठ साल के बच्चे ने नूपुर शर्मा के समर्थन में मोबाइल से सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया था. इसके बाद गुस्साए दो लोगों ने उसके पिता की दिनदहाड़े तलवार से बेरहमी से हत्या कर दी. घटना के बाद इलाके में सनसनी फैल गई. सीएम गहलोत ने आरोपियों पर सख्त कार्रवाई की बात कही है.
राजस्थान। उदयपुर शहर के धानमंडी थाना क्षेत्र के मालदास स्ट्रीट में दो लोगों ने एक युवक की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी. बताया जा रहा है कि मृतक युवक के 8 साल के बेटे ने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया था. इससे गुस्साए आरोपियों ने उसके पिता की बेरहमी से हत्या कर दी. इस मामले में पुलिस ने दोनों आरोपी मोहम्मद रियाज और गोस मोहम्मद को राजसमंद के भीम इलाके से अरेस्ट कर लिया है.

दिल दहला देने वाली इस वारदात से इलाके में सनसनी फैल गई. इंटरनेट बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं. अगले 24 घंटे इंटरनेट बंद रहेगा. सूचना पर धानमंडी और घंटाघर थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई और घटना का जायजा लिया. पुलिस ने शव को एमबी हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखवा दिया. इस घटना की कई राजनेताओं ने कड़ी निंदा की है.

स्थानीय लोगों का भड़का गुस्सा, दुकानें बंद

जानकारी के अनुसार, मृतक कन्हैयालाल के आठ साल के बेटे ने मोबाइल से नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी थी. इसके बाद कुछ लोग नाराज हो गए और दो आरोपियों ने युवक की धारदार हथियार से बेरहमी से हत्या कर दी. इस घटना के बाद हिंदू संगठन में आक्रोश है. युवक की हत्या दो मुस्लिम आरोपियों ने तलवार से गला रेतकर की है.

इस मामले में आरोपियों ने वीडियो जारी कर हत्या की जिम्मेदारी भी ली है. लोगों का कहना है कि हत्यारों को फांसी होनी चाहिए, ताकि ऐसा कृत्य दोबारा न हो. युवक का सिर काटकर की गई हत्या के विरोध में स्थानीय लोगों ने घटना के बाद मालदास गली क्षेत्र में दुकानों को बंद कर दिया है.

17 जून को वीडियो बनाकर सिर कलम करने की कही थी बात

हत्या के आरोपी रियाज मोहम्मद ने 17 जून को ही वीडियो बनाया था और दावा किया था कि सिर कलम करने के बाद वह वीडियो शेयर करेगा. सूत्रों के मुताबिक, रियाज भीलवाड़ा के आसींद इलाके का बताया जा रहा है. दूसरे आरोपी का नाम गौस मोहम्मद है. दोनों उदयपुर के खांजीपीर इलाके में रहते थे.

शहर के इन इलाकों में लगाया गया कर्फ्यू

इस बीच उदयपुर में हुई दिल दहला देने वाली वारदात के बाद जिला प्रशासन ने धानमंडी, घंटाघर, हाथीपोल, अंबामाता, सूरजपोल, भूपालपुरा और सवीना पुलिस थाना क्षेत्रों में आवागमन बंद कर कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है. यह आगामी आदेश तक प्रभावी रहेगा. पुलिस महानिदेशक पुलिस ए एल लाठर ने बताया कि कि कानून-व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा. करीब 30 आरपीएस और 5 आरएसी की कंपनी तैनात कर दी गई है. आम लोगों से संयम बरतने की अपील की गई है. पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है. अपने-अपने इलाकों में पुलिस को गश्त बढ़ाने के निर्देश जारी किए गए हैं.

सीएम गहलोत ने की शांति की अपील

इस घटना को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर में युवक की जघन्य हत्या की भर्त्सना करता हूं. इस घटना में शामिल सभी अपराधियों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी. पुलिस अपराध की पूरी तह तक जाएगी. मैं सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं. ऐसे जघन्य अपराध में लिप्त हर व्यक्ति को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी.

24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद, जेईई मेन परीक्षा पर मंडराया संकट

अब तक जेईई मेन परीक्षा निर्बाध रूप से जारी थी, मगर राजस्थान के उदयपुर में हुए खौफनाक हत्याकांड के बाद उदयपुर, जयपुर संभाग, कोटा, दौसा समेत करीब 20 जिलों में इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गईं हैं। ऐसे में राजस्थान के करीब 26 परीक्षा केंद्रों में जेईई मेन के पहले चरण की आखिरी दो पारियों की परीक्षा के आयोजन पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। उधर, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से परीक्षा को टालने के संबंध में अभी कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है। जेईई मेन 2022 के पहले सेशन के लिए 09 लाख विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है।

भाजपा ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना

भाजपा नेता राज्यवर्धन सिंह राठौर ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर की इस नृशंस घटना की जिम्मेदार गहलोत सरकार है, क्योंकि इस सरकार ने करौली दंगे के मुख्य दंगाई को खुला छोड़ा. टोंक में मौलाना ने हिंदुओं की गर्दन उतारने की धमकी दी, कोई कार्रवाई नहीं हुई. यह हत्यारा भी वीडियो बनाकर नरसंहार की धमकी देता रहा, पर सरकार चुप्पी साधे रही.

भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर में दो मुस्लिमों ने हिंदू दुकानदार कन्हैया लाल की उसकी दुकान के अंदर हत्या कर दी. उन्होंने एक वीडियो जारी कर इसकी जिम्मेदारी भी ली है. हथियार दिखाकर पीएम मोदी को भी धमकी दी है. सीएम अशोक गहलोत ने हालांकि इस मामले की जांच का वादा किया है. वहीं, बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा है कि कन्हैया लाल जी को श्रद्धांजलि और आतंक के विनाश के लिए 29 जून शाम 5 बजे नई दिल्ली के जंतर मंतर पर संकल्प मार्च निकाला जाएगा.

इस मामले में वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर कहा कि एक निर्दोष युवक की दिनदहाड़े निर्मम हत्या से स्पष्ट हो गया है कि राज्य सरकार की शह के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और प्रदेश में सांप्रदायिक उन्माद व हिंसा की स्थिति उत्पन्न हो गई है. अपराधी इतने बैखोफ हैं कि उन्होंने प्रधानमंत्री को लेकर हिंसक बयान दिया है. घटना में लिप्त सभी अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी हो और कड़ी सजा मिले. इस घटना के पीछे जिन लोगों का हाथ है, उन्हें भी राज्य सरकार बेनकाब कर गिरफ्तार करे.

किसी को भी कानून अपने हाथों में लेने का हक नहीं: ओवैसी

वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि ‘ये दरिन्दे हैं, इनको फांसी दो. राजस्थान सरकार जागो. AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया, उदयपर में हुई क्रूर हत्या निंदनीय है. ऐसी हत्या को कोई डिफेंड नहीं कर सकता. हमारी पार्टी का स्टैंड यही है कि किसी को भी कानून को अपने हाथों में लेने का हक नहीं है. हमने हमेशा हिंसा का विरोध किया है. हमारी सरकार से मांग है कि वो मुजरिमों के खिलाफ सख्त से सख्त एक्शन लें.

कब क्या हुआ, जानिए पूरा घटनाक्रम

18 जून को सोशल मीडिया पर पोस्ट 10 दिन पहले यानी 18 जून को डाला गया था. 18 जून को ही मृतक कन्हैयालाल के मोबाइल पर Whatsapp स्टेट्स डाला था. यह पोस्ट डालने के बाद से उन्हें धमकियां मिल रही थीं. 28 जून की दोपहर 3 से 3:30 बजे के बीच आरोपी युवक टेलर कन्हैयालाल की दुकान पर आए. उन्होंने पहले बातचीत में उलझाया. इसके बाद बोले कि कपड़े का नाप देना है.

आरोपियों की नाप लेने के समय जैसे ही कन्हैयालाल पलटे, पीछे से आरोपियों ने धारदार हथियार से हमला कर दिया. मृतक कन्हैयालाल की मौके पर ही मौत गई. कन्हैयालाल की मौत के बाद नाराज लोग सड़क पर उतर आए. घटना के बाद धानमंडी और घंटाघर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को एमबी हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखवाया. उदयपुर में तनाव का माहौल होने की वजह से 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया.

Spread the love
More from National NewsMore posts in National News »
%d bloggers like this: