Press "Enter" to skip to content

शहीद समरसता मिशन शहीद बेटे की याद में बनाया स्मारक, मां का अधूरा सपना 41 साल बाद हुआ पूरा

इंदौर। जिले के सांवेर के बाजार चौक पर देशभक्ति का अनोखा नजारा दिखाई दिया. यहां पर शहीद समरसता मिशन के तहत शहीदों की याद में राष्ट्र शक्ति स्थल का लोकार्पण किया गया था.

इस मौके पर कीर्ति चक्र से सम्मानित शहीद गोपाल सिंह जादौन, ऑपरेशन मेघदूत में शहीद हुए भगवान सिंह गुलिया की याद में स्मारक का लोकार्पण किया गया.

इस दौरान शहीद गोपाल सिंह जादौन की माता जतन कुंवर और शहीद भगवान सिंह गुलिया की पत्नी अरुणा गुलिया का सम्मान किया गया.

इनके परिवार 41 साल से स्मारक बनने की राह देख रहे थे. शहीद समरसता मिशन के संस्थापक मोहन नारायण ने उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि 2007 से उन्हें गुरमीत सिंह का आशीष मिलता रहा है.

उन्होंने ही इस पथ पर चलने का रास्ता दिखाया और हमेशा साथ दिया. इसी का परिणाम है कि वे सीमित संसाधनों में भी इतने बड़े मिशन को अंजाम दे पा रहे हैं.

मोहन नारायण ने कहा कि अब तक देश के लिए शहीद हुए 36 हजार से ज्यादा सैनिकों का राष्ट्र शक्ति स्थल स्मारक बनाना है ताकि देश के एक-एक व्यक्ति उससे प्रेरणा लेकर अपने अंदर देशभक्ति का जज्बा कायम रखे.

वहीं राज्यपाल ने शहीदों की समस्याओं को हल करने के लिए एक वेबसाइट का लोकार्पण भी किया. इस दौरान उन्होंने सभी शहीदों को याद करते हुए कहा कि उनके लिए बहुत ही भावुक क्षण रहा कि वह इंदौर आए और यहां के शहीदों को नमन करने का मौका मिला.

उन्होंने कहा कि इंदौर सफाई में तो नंबर बंद है ही यह कुछ शहीदों के स्मरण में भी नंबर वन रहे, ऐसी सभी की कामना है. इंदौर और इंडिया में एक ही समानता है दोनों के आगे आईएनडी लगा है. इंदौर और उज्जैन आकर अद्भुत अनुभव होता है.

Spread the love
More from Indore NewsMore posts in Indore News »
%d bloggers like this: