Press "Enter" to skip to content

भय्यूजी महाराज की 1 हजार करोड़ की संपत्ति को लेकर बढ़ा विवाद

भय्यूजी महाराज की 1 हजार करोड़ की संपत्ति को लेकर बढ़ा विवाद

Indore News: मध्य प्रदेश के इंदौर के चर्चित भय्यूजी महाराज ट्रस्ट की 1 हजार करोड़ की संपत्ति को लेकर विवाद गहराता जा रहा है. बेटी कुहू ने अपनी जान को खतरा बताते हुए पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगाई है. कुहू का आरोप है कि सौतेली मां डॉ. आयुषी ने ट्रस्ट के सभी 11 ट्रस्टी बदल दिये हैं. बेटी कुहू ने ट्रस्ट में वित्तीय गड़बड़ी की आशंका जताई है, साथ ही खुद की जान को खतरा भी बताया है. इसे लेकर उन्होंने पुलिस सुरक्षा की मांग की है.

इंदौर के सूर्योदय आश्रम समेत भय्यूजी महाराज के देश के कई शहरों में आश्रम और संपत्तियां जिनकी कीमत करीब 1 हजार करोड़ रुपए है. इन्हीं संपत्तियों को लेकर भय्यूजी महाराज की बेटी कुहू और उनकी पत्नी यानि कुहू की सौतेली मां डॉ. आयुषी के बीच विवाद चल रहा है. पुणे से इंदौर पहुंची कुहू ने ट्रस्ट में वित्तीय गड़बड़ी की आशंका जताते हुए अपनी जान को खतरा बताया है. उनका कहना है कि जिस तरह उनके पिता की संदिग्ध मौत हुई है उसी तरह की घटना उनके साथ भी हो सकती है. इसलिए उसने अपनी सुरक्षा की मांग की है.कुहू का कहना है कि ट्रस्ट में कई तरह की गड़बड़ियां चल रहीं है. मेरे हस्ताक्षर तक फर्जी कर लिए गए हैं, वो ट्रस्ट की गतिविधियों को नियम कानून के मुताबिक सही तरीके से जारी रखना चाहती हैं. वहीं, कुहू के वकील एके श्रीवास्तव का कहना है कि ट्रस्ट का सालाना बजट पेश नहीं किया जा रहा है, ऑडिट रिपोर्ट नहीं दी जा रही है. मीटिंग्स के मिनट और एजेंडा भी नहीं दिया जा रहा है. काफी दबाव के बाद कुछ रिकॉर्ड मिला है, उसमें नए ट्रस्टियों का अप्रूवल और पुराने सदस्यों को हटाने की बात कही गई है, उस रिकॉर्ड में कई अनिमितताएं दिखाई दे रही हैं, जिस पर मैंने आपत्ति लगाई है.

बेटी कुहू का यह भी कहना है कि पिताजी की कितनी संपत्ति है, उसे खुद भी नहीं पता। उन्होंने कहा कि मैं तो इंतजार कर रही हूं कि कोई बताए कि कहां-कहां संपत्ति है। जो कुछ यहां-वहां से पता चला, बस वही पता है। हमने पता भी किया, लेकिन पता नहीं चल पाया। उनका कहना है कि अब फाइनेंशियल इन-सिक्योरिटी महसूस करती हूं, क्योंकि मैं स्टूडेंट हूं, मां जो मेरे लिए छोड़कर गई है, उसी से खर्च चला रही हूं।

गौरतलब है कि 12 जून 2018 को भय्यू महाराज ने सिल्वर स्प्रिंग के अपने मकान पर सिर में गोली मारकर बेटी कुहू के कमरे में आत्महत्या की थी. दूसरे कमरे से पुलिस को सुसाइड नोट मिला था, जिसमें महाराज ने विनायक को अपना वारिस घोषित किया था. इस पर परिवार ने शंका जाहिर करते हुए जांच की मांग की थी. उनका कहना था कि भय्यू महाराज हर पेज पर हस्ताक्षर करते थे, जो इसमें नहीं थे. दूसरे कमरे में सुसाइट नोट मिलना भी शंका पैदा करता था. तब से ये मामला कोर्ट में जल रहा है लेकिन संपत्ति को लेकर बेटी और पत्नी में आमने सामने हैं.

Spread the love
More from Fashion / Style / Tattoo NewsMore posts in Fashion / Style / Tattoo News »
%d bloggers like this: