Press "Enter" to skip to content

गौ पूजा का पर्व: गौवत्स द्वादशी, आज सुहागन महिलाएं करेंगी गाय और बछड़े की पूजा

श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के तीन दिन बाद गाय और बछड़े की पूजा करने की परंपरा है। इसलिए भादौ के कृष्ण पक्ष की द्वादशी को गौवत्स द्वादशी मनाते हैं। जो कि 23 अगस्त को है। इस दिन व्रत किया जाता है। लेकिन इस दिन दूध नहीं पिया जाता।

मान्यता है कि इस दिन गाय के पूरे दूध पर सिर्फ बछड़े का ही अधिकार होता है। इसलिए दूध से बनी चीजें भी नहीं खाते। इस व्रत में गाय-बछड़े के साथ भगवान कृष्ण की भी पूजा की जाती है।

लोक परंपराओं के मुताबिक कुछ जगहों पर ये पर्व कार्तिक महीने में दीपावली से 2 दिन पहले भी मनाते हैं। लेकिन उत्तर भारत के ज्यादातर हिस्सों में जन्माष्टमी पर्व के बाद ये व्रत किया जाता है।

क्यों करते हैं ये व्रत
इस व्रत में परिवार की महिलाएं गाय और बछड़े की पूजा करती हैं। इसके बाद अपने बच्चों को प्रसाद के रुप में सूखा नारियल देती हैं। ये व्रत खासतौर से माताओं और उनके बच्चों की सुख-शांति से जुड़ा हुआ है।

माना जाता है कि ये व्रत बच्चों की अच्छी सेहत और लंबी उम्र के लिए किया जाता है। अच्छी संतान पाने की इच्छा से भी ये व्रत किया जाता है।

कैसे किया जाता है
आज सूरज उगने से पहले ही महिलाएं नहा लेती हैं। फिर दिनभर में किसी भी शुभ मुहूर्त में गाय और उसके बछड़े की पूजा करती हैं। साथ ही गाय को हरा चारा और रोटी सहित अन्य चीजें खिलाकर तृप्त किया जाता है। कई जगहों पर गाय और बछड़े को सजाया जाता है।

अगर कहीं गाय और बछड़ा नहीं मिल पाए तो चांदी या मिट्टी से बने गाय-बछड़े की पूजा भी की जा सकती है। इस दिन गाय का दूध और उससे बनी चीजें नहीं खाई जाती है।

घरों में खासतौर से बाजरे की रोटी और अंकुरित अनाज की सब्जी बनाई जाती है। इसकी जगह भैंस का दूध इस्तेमाल किया जाता है।

भविष्य पुराण: गाय में देवी-देवताओं का वास
भविष्य पुराण के मुताबिक गाय को माता यानी लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है। गौमाता के पृष्ठदेश यानी गाय के पिछले हिस्से में ब्रह्म का वास होता है। गले में विष्णु और मुख में रुद्र का निवास माना जाता है।

गाय के शरीर के बीच के हिस्सों में सभी देवताओं और रोम छिद्रों में महर्षि रहते हैं। पूंछ में अनंत नाग, खूरों में सभी पूजनीय पर्वत, गौमूत्र में गंगा और अन्य पवित्र नदियों का अंश माना जाता है। गाय के गोबर में लक्ष्मी जी और नेत्रों में सूर्य-चन्द्र विराजित हैं।

Spread the love
%d bloggers like this: