Press "Enter" to skip to content

Navratri 2020: आज हो रही स्कंदमाता की पूजा

नवरात्र के पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा होती है। भगवान स्कंद की माता होने के कारण देवी को स्कंदमाता कहा जाता है। सच्चे मन से मां की पूजा करने से मां अपने भक्तों पर प्रसन्न होकर उन्हें मोेक्ष प्रदान करती हैं। माता के पूजन से व्यक्ति को संतान प्राप्त होती है। स्कंदमाता की भक्ति से सुख और ऐश्वर्य भी प्राप्त होता है। मां स्कंदमाता भगवान स्कंद को गोद में लिए हुए हैं। मां का ये स्वरूप दर्शाता है कि वात्सल्य की प्रतिमूर्ति मां स्कंदमाता अपने भक्तों को अपने बच्चे के समान समझती है। मां स्कंदमाता की पूजा करने से भगवान स्कंद की पूजा भी स्वत: हो जाती है। कंडे (गाय के गोबर के उपले) जलाकर उसमें घी, हवन सामग्री, बताशा, लौंग का जोड़ा, पान, सुपारी, कपूर, गूगल, इलायची, किसमिस, कमलगट्टा अर्पित करें। नवरात्र के पांचवें दिन हवन में मां स्‍कंद माता की इन मंत्रों के उच्‍चारण के साथ पूजा करें।

पांचवें दिन हवन में मां स्‍कंद माता के इस मंत्र का उच्‍चारण करें – ऊँ ह्लीं स: स्‍कंदमात्र्यै नम:।। भगवन कार्तिकेय की माता है Skandmata नवरात्र के पांचवे दिन मां स्कंद माता की पूजा की जाती है। इन्‍हें कार्तिकेय की मां भी कहा गया है क्योंकि उन्होंने कार्तिकेय का लालन-पालन किया था। Skandmata के इस स्वरूप को माता पार्वती, माहेश्वरी और महागौरी नाम से भी पूजा जाता है। Skandmata की गोद में भगवान स्कंद यानी कार्तिकेय विराजमान हैं। इनकी की चार भुजाएं हैं। इनके दाहिनी तरफ की नीचे वाली भुजा, जो ऊपर की ओर उठी हुई है, उसमें कमल पुष्प है। बाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा में वरमुद्रा में तथा नीचे वाली भुजा जो ऊपर की ओर उठी है उसमें भी कमल पुष्प ली हुई हैं। इनका वर्ण पूर्णतः शुभ्र है। ये कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं। इसी कारण इन्हें पद्मासना देवी भी कहा जाता है। सिंह भी इनका वाहन है।

Spread the love
More from Religion newsMore posts in Religion news »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *